For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

समाज (34)

Discussions Replies Latest Activity

वंदे~मातरम :::

वंदे~मातरम ::: ये सिर्फ दो शब्द मात्र नहीं हैं जिन्हें जैसे चाहा मुँह खोल कर उगल दिया..... बल्कि इसके मायनों को समझना , उन्हें ह्रदय से…

Started by Jogendra Singh जोगेन्द्र सिंह

2 Dec 23, 2010
Reply by Rash Bihari Ravi

आखिर स्वास्तिका का कसूर क्या था ?

मंगलवार शाम करीब साढ़े छह बजे यहां के शीतला घाट पर आरती के दौरान हुए विस्फोट में साल भर की बच्ची स्वास्तिका की मौत हो गई और दो विदेशी पर्यट…

Started by rakesh gupta

8 Dec 11, 2010
Reply by rakesh gupta

हम बोलेगा तो बोलो गे की बोलता है ...

देखो मित्रो ! अब हम बोलें भी तो क्या बोलें। क्यों बोलें ?! देखो न कुछ लोग बोलते हैं सुनते नहीं और कुछ लोग सिर्फ बोलते हैं सुनते नही और…

Started by DEEP ZIRVI

12 Dec 8, 2010
Reply by DEEP ZIRVI

आखिर डोली जैसी असभ्य महिलाओं को कितने लोग कब तक और क्यों बर्दास्त करेंगे?

वन्दे मातरम दोस्तों, क्या हो गया है भारतीय टी वि जगत को, एक महिला सरेआम एक रीअल्टी शो में तमाम गंदी गंदी गालियों की बौछार करती है, कोई उसका…

Started by rakesh gupta

11 Dec 1, 2010
Reply by Bhasker Agrawal

बचपन की संवेदना ::: ©

बचपन की संवेदना ::: © मेरे मित्र अशोक जी ने अपनी वॉल पर संवेदना को साझा किया....... जिसके अनुसार उन्होंने लिखा "**** आज सवेरे घर से बाह…

Started by Jogendra Singh जोगेन्द्र सिंह

4 Nov 30, 2010
Reply by Bhasker Agrawal

***ईस्वर हर जगह खुद नही आता मगर किसी को भी आपकी मदद को भेज देता है ***

वन्दे मातरम दोस्तों, एक कहावत है घर को ही आग लग गई घर के चिराग से .............पहली बार ये कहावत मुझ पर ही एकदम सटीक बैठी .......... हुआ यू…

Started by rakesh gupta

1 Nov 17, 2010
Reply by Admin

क्या है उचित, प्रेम-विवाह या व्यवस्था-विवाह ?

आज हमारे आस-पास और समाज में यह बहुत ही गंभीर समस्या बनी हुई है और समय के परिवर्तन के साथ साथ यह समस्या और ही विकराल रूप धारण करते जा रही है…

Started by Ratnesh Raman Pathak

8 Nov 13, 2010
Reply by आशीष यादव

मोरे सईंया भये कोतवाल.. अब डर काहे का..

मोरे सईंया भये कोतवाल.. अब डर काहे का.. 06 अगस्त 2010 के दिन मैं आगरा में था... अचानक एक शानदार वाकया सामने आ गया जिसमें कानून के दो रखव…

Started by Jogendra Singh जोगेन्द्र सिंह

19 Nov 8, 2010
Reply by Jogendra Singh जोगेन्द्र सिंह

क्या कल रावण जल गया?

सबको दसहरा की हार्दिक बधाई.. दसहरा कल था और बधाई आज....दरअसल मैंने आज ही ज्वाइन किया है आप सबों के बीच और better late than never . खैर कल…

Started by Priti Kumari

7 Oct 24, 2010
Reply by Rash Bihari Ravi

कैसे होगा सुप्रीम कोर्ट का फैसला समाज को हजम ?

जी हम बात कर रहे है ,सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का जिसमे -शादी से पहले किसी को भी साथ रहने की छुट दी गयी है. सुप्रीम कोर्ट ने तो फैसला सुना…

Started by Ratnesh Raman Pathak

6 Oct 21, 2010
Reply by Ratnesh Raman Pathak

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sushil Sarna commented on Mahendra Kumar's blog post बलि (लघुकथा)
"आदरणीय महेन्द्र जी एक सामाजिक विषय पर मार्मिक लघु कथा। इस मार्मिक और संदेशप्रद प्रस्तुति के लिए…"
25 minutes ago
Sushil Sarna commented on Mohammed Arif's blog post कविता--कश्मीर अभी ज़िंदा है भाग-2
"आदरणीय मो.आरिफ साहिब , आदाब .... बहुत ही संवेदनशील विषय पर आपने सुलगते सवालों,विचारों पर एक बेहतरीन…"
28 minutes ago
Sushil Sarna commented on TEJ VEER SINGH's blog post गंगा सूख गयी - लघुकथा –
"आदरणीय तेजवीर सिंह जी सामजिक विचारों की विकृति को उजागर करती इस मार्मिक लघुकथा के लिया हार्दिक बधाई।"
31 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post स्वप्न ....
"आदरणीय समर कबीर साहिब सृजन आपकी ऊर्जावान प्रशंसा एवं सुझाव का आभारी है। आपका शक सही है , पाँव होना…"
35 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post स्वप्न ....
"आदरणीया रक्षिता सिंह जी सृजन आपकी मनोहारी प्रतिक्रिया का आभारी है।"
35 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post स्वप्न ....
"आदरणीय गुमनाम पिथौरगढ़ी जी सृजन आपकी स्नेहिल प्रशंसा का आभारी है।"
35 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post स्वप्न ....
"आदरणीया कल्पना भट्ट जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार।"
35 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बरसात ....
"आदरणीय विजय निकोर साहिब सृजन आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया का आभारी है।"
39 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बरसात ....
"आदरणीय तस्दीक अहमद ख़ान साहिब , आदाब ... सृजन के भावों को आत्मीय मान देने का दिल से आभार। सर आपको…"
40 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बरसात ....
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब ... प्रस्तुति के भावों को अपनी आत्मीय प्रशंसा से अलंकृत करने का दिल से…"
40 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बरसात ....
"आदरणीया नीलम उपाध्याय जी सृजन आपकी मन मुदित करती प्रशंसा का आभारी है।"
40 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बरसात ....
"आदरणीया रक्षिता सिंह जी सृजन की गहनता को अपनी स्नेहिल प्रशंसा से मान देने का दिल से आभार।"
40 minutes ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service