For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-103 सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)

आदरणीय सदस्यगण 103वें तरही मुशायरे का संकलन प्रस्तुत है| बेबहर शेर कटे हुए हैं, और जिन मिसरों में कोई न कोई ऐब है वह इटैलिक हैं|

______________________________________________________________________________

ASHFAQ ALI 


जब दर्दे दिल दिया है दवाएँ मुझे न दो।
अब और ज़िन्दगी की दुआएँ मुझे न दो।।

लह्ज़ा भी जम न जाए कहीं बर्फ की तरह।
दामन से इतनी सर्द हवाएँ मुझे न दो।।

इक बार हो गया चलो दो बार हो गया।
"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो"।।

नेताजी अब तो बख्श दो भगवान के लिए।
गुरबत है इतनी खेत में गाएँ मुझे न दो।।

तन ढ़कने को दो चादरें मिल जायें ऐ खुदा।
मन रखने को शफ़्फ़ाफ़ क़बाएँ मुझे न दो।।

जा तो रहे हो छोड़ कर तन्हा मगर ऐ दोस्त।
तकलीफ़ दिल को दें वो सजाएँ मुझे न दो।।

लिखता रहूँ ग़ज़ल मैं सलीक़े से ऐ खुदा।
पढ़ने को गैरों जैसी अदाएँ मुझे न दो।।

''गुलशन''में हर तरफ हों मुहब्बत की बारिशें।
नफ़रत की काली काली घटाएँ मुझे न दो।।

______________________________________________________________________________

Mahendra Kumar 


साँसों की गर्म गर्म हवाएँ मुझे न दो
मैं दूर जा चुका हूँ सदाएँ मुझे न दो

मैं जानता हूँ आसमाँ में कुछ नहीं रखा
ले कर ख़ुदा का नाम दुआएँ मुझे न दो

तुम क्या करोगे ख़ून से हाथों को रंग के
बस यूँ करो कि मेरी दवाएँ मुझे न दो

मैं मानता हूँ ज़ुर्म था तुमको यूँ चाहना
पर बार बार इसकी सज़ाएँ मुझे न दो

जो यादों की रिदाएँ नहीं पास में तो क्या
मैं शब को ओढ़ लूँगा क़बाएँ मुझे न दो

आँखों में डूबने की वो आदत चली गयी
सहरा हूँ अब मैं अपनी घटाएँ मुझे न दो

किस्सा ही ख़त्म कर दो मेरी जान ले के तुम
"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो"

हाँ ये ज़रूर है कि मुहब्बत से अब है चिढ़
पर कब कहा मैंने कि जफ़ाएँ मुझे न दो

जब तक जिया मैं तुमने मुझे नफ़रतें ही दीं
अब मर गया हूँ तो ये वफ़ाएँ मुझे न दो

_________________________________________________________________________________

Samar kabeer


लिल्लाह अब तो ऐसी सज़ाएँ मुझे न दो
जो ख़्वाब सारी रात जगाएँ मुझे न दो

कहती है शाइरी, मैं अदब की असास हूँ
मुँहज़ोर जाहिलों की सभाएँ मुझे न दो

कह तो दिया था मैंने कि जिद्दत पसंद हूँ
बूढ़ी रवायतों की क़बाएँ मुझे न दो

इतने सितम हुए हैं यहाँ इसकी आड़ में
हर शख़्स कह रहा है वफ़ाएँ मुझे न दो

बढ़ने लगेगा यूँ तो मरज़ और भी मेरा
मैं हूँ मरीज़-ए-इश्क़ दवाएँ मुझे न दो

'एहमद फ़राज़' जी का ये मिसरा भी ख़ूब है
"हर बार दूर जाके सदाएँ मुझे न दो"

कहती है आज हमसे "समर" मादरे वतन
लुथड़ी हुई लहू में रिदाएँ मुझे न दो

_____________________________________________________________________________

नादिर ख़ान 


मै बेख़ता हूँ ऐसी सज़ाएँ मुझे न दो

मेरी वफ़ा के बदले जफ़ाएँ मुझे न दो

जुल्मों सितम की ऐसी खताएँ मुझे न दो

झूटी मुहब्बतों की क़बाएँ मुझे न दो

मै तो मुहब्बतों का तलबगार हूँ मियाँ

दिल से न दे सको वो दुआएँ मुझे न दो

मै ख़ूब जानता हूँ जो दिल में फ़रेब है

तुम अपनी दिलफ़रेब अदाएँ मुझे न दो

मेरी रगों में अब तो बग़ावत का जोश है

तुम अपने सब्र की ये दवाएँ मुझे न दो

कहकर गये हैं बात जनाबे फ़राज़ ये

हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो

नादिर बिठा के पलकों पे रक्खा जिन्हें सदा

वो कह गये हैं अपनी बलाएँ मुझे न दो

_____________________________________________________________________________

Mohd Nayab 


मुजरिम नहीं हैं कैसे बताएँ मुझे न दो।

जो दे रहे हैं आप सज़ाएँ मुझे न दो।।

हैं मुस्तहक़ बहुत से बहन भाई और भी।

माँ इतनी सारी आप दुआएँ मुझे न दो।।

गाओ खुशी के गीत है छब्बीस जनवरी।

जमहूरियत की आप बलाएँ मुझे न दो।।

घर को संवारने में फ़क़त आप ही नहीं।

ये और बात है कि दुआएँ मुझे न दो।।

जाना है रूठ कर तो चले जाओ एक बार।

''हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो''।।

जलता रहूँ मैं रौशनी के वास्ते मगर।

मुफ़्लिश का मैं दिया हूँ हवाएँ मुझे न दो।।

उल्फ़त अगर है मुझसे तो शिकवा करें जनाब।

नफ़रत अगर है दिल में बलाएँ मुझे न दो।।

पत्थर था आप ने मुझे "नायाब" कर दिया।

अब और इतनी सारी दुआएँ मुझे न दो।।

_________________________________________________________________________________

Asif zaidi


अपनों से जीतने की दुआएं मुझे न दो,
ऐसे दिये जो आग लगाएं मुझे न दो।

छूलूं में आसमां नहीं मेरा गुमान ये,
छोटा सा हूं परिन्द हवाएं मुझे न दो।

बेठो क़रीब आके कहो दिल की बात फिर,
हर बार दूर जाके सदाएं मुझे न दो।

रिश्ता ग़मों से मेरा हमेशा से है रहा,
ख़ुशियों भरी ये अपनी रिदाएं मुझे न दो।

देने को कुछ भी दो मुझे सब है क़ुबूल पर,
बे-जुर्म बे-ख़ता यह सज़ाएं मुझे न दो।

साया हूं मैं तुम्हारा रखो यह ख़याल भी,
ऐसी निशानियां जो रुलाएं मुझे न दो।

दुश्मन को भाई कहते हो आसिफ़ कहो मगर,
उसको जो दे रहे हो दवाएं मुझे न दो।

_______________________________________________________________________________

Naveen Mani Tripathi

इतनी मेरे करम की सिलाएँ मुझे न दो ।।
जलता चराग हूँ मैं हवाएं मुझे न दो ।।

कर दे न मुझको ख़ाक कहीं तिश्नगी की आग ।
अब तो मुहब्बतों की दुआएं मुझे न दो ।।

जीना मुहाल कर दे यहां खुशबुओं का दौर ।

घुट जाए दम मेरा वो फ़जाएँ मुझे न दो ।।

यूँ ही तमाम फर्ज अधूरे हैं अब तलक ।
सर पर अभी से और बलाएँ मुझे न दो ।।

पूछा करो कसूर कभी अपनी रूह से ।
गर बेगुनाह हूँ तो सजाएं मुझे न दो ।।

इतना भी कम नहीं कि तग़ाफ़ुल में जी रहा ।
तुम महफिलों में अपनी जफाएँ मुझे न दो ।।

तुम इश्तिहार खूब छपाओगे कर्ज का ।
नीलाम हो न जाऊं वफ़ाएँ मुझे न दो ।।

कुछ तो शरारतें थीं तुम्हारी अदा की यार ।
मुज़रिम बना के सारी खताएँ मुझे न दो ।।

गर बेसबब ही रूठ के जाना तुम्हें है तो ।
हर बार दूर जा के सदाएं मुझे न दो ।।

मैं खुश हूँ आ के आज तो हिज्रे दयार में ।
बीमारे ग़म की यार दवाएं मुझे न दो ।।

________________________________________________________________________________

शिज्जु "शकूर"


चाही न थीं जो मैंने दुआएँ मुझे न दो
कुछ कम नहीं हैं और बलाएँ मुझे न दो

खोलोगे खिड़कियाँ तो बढ़ेगी घुटन मेरी
रहने दो इनको यूँ ही, हवाएँ मुझे न दो

आए हो तुम क़रीब इसी रोग के सबब
बीमार ही भला हूँ, दवाएँ मुझे न दो

जी चाहता है खोया रहूँ अपने आप में
इतना करम करो कि सदाएँ मुझे न दो

क़ाबिल नहीं है मेरा बदन जो ये ढो सके
अपनी मुहब्बतों की क़बाएँ मुझे न दो

या मेरे ख़्वाब दे दो या लौटाओ मेरी नींद
ये इल्तिजा है और सज़ाएँ मुझे न दो

अहसास होता है कि अभी जान बाकी है
अच्छी है बेख़ुदी ये दवाएँ मुझे न दो

रास आया लम्स ठंडी हवाओं का इस क़दर
मंज़ूर है ये कर्ब रिदाएँ मुझे न दो

यूँ लड़खड़ाने लगते हैं मेरे कदम 'शकूर'
हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो

_______________________________________________________________________________

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'

जीने की इस जहाँ में दुआएँ मुझे न दो,
और बिन बुलाई सारी बलाएँ मुझे न दो।

मर्ज़ी तुम्हारी दो या वफ़ाएँ मुझे न दो,
पर बद-गुमानी कर ये सज़ाएँ मुझे न दो।

सुलगा हुआ तो पहले से भड़काओ और क्यों,
नफ़रत की कम से कम तो हवाएँ मुझे न दो।

वाइज़ रहो भी चुप जरा, बीमार-ए-इश्क़ हूँ,
कड़वी नसीहतों की दवाएँ मुझे न दो।

तुम ही बता दो झेलने अब और कितने ग़म,
ये रोज रोज इतनी जफ़ाएँ मुझे न दो।

तुम दूर मुझ से जाओ भले ही खुशी खुशी,
पर दुख भरी ये काली निशाएँ मुझे न दो।

करता 'नमन' 'फ़राज़' को जिसने कहा है ये,
*हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो।*

________________________________________________________________________________

सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' 


मुझ पर करम करो ये सज़ाएँ मुझे न दो
बुझता हुआ दिया हूँ, हवाएँ मुझे न दो।।

हर शख़्स की सदा है यही आज देश में
दहशत भरी हुई ये फ़ज़ाएँ मुझे न दो।।

मुझको तवील उम्र मिले इस जहान में
ये इल्तिजा है ऐसी दुआएँ मुझे न दो।।

परहेज़ ख्वाहिशों से हमेशा रहा मेरा
तारों भरी हसीन क़बाएँ मुझे न दो।।

कहते मिले 'फ़राज़' हसीनों से बारहा
"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो"।।

आएगा रास कल ये मेरा वह्म है मगर
इस वह्म की जनाब दवाएँ मुझे न दो।।

_______________________________________________________________________________

anjali gupta 


है इश्क़ इक मरज़ तो दवाएं मुझे न दो
मैं ठीक हो न जाऊं दुआएं मुझे न दो (1)

चलती रहेंगी सांसें है चलना ही इनका काम
इस जुर्म पर जनाब सज़ाएं मुझे न दो (2)

बरसीं हैं अब्र बन के मेरी आँखें रात दिन
सहरा को सींचने की अदाएं मुझे न दो (3)

आई है मुश्किलों से लबों पे हँसी ज़रा
तुम फिर उदासियों की रिदाएं मुझे न दो (4)

जाना है मुझसे दूर तो जाओ सुनो मगर
हर बार दूर जाके सदाएं मुझे न दो 

अंजाम जिनका होगा 'सिफ़र' से जुदाई कल
उन क़ुरबतों की आज सज़ाएं मुझे न दो (6)

_________________________________________________________________________________

Tasdiq Ahmed Khan

चाहे वफ़ा के बदले वफाएँ मुझे न दो I
लेकिन ख़ताएँ करके सज़ाएँ मुझे न दो l

बुझता हुआ चराग हूँ मैं राहे इश्क़ में
अपनी फरेबी और हवाएँ मुझे न दो l

उनके बग़ैर ज़िंदगी किस काम की भला
जीने की ए अज़ीज़ों दुआएँ मुझे न दो l

आँखों को अश्क दिल को अलम और जिगर को दर्द
अपना बना के और अताएँ मुझे न दो l

वापस न आऊँगा मैं बहुत ज़ख्म खा लिए
हर बार दूर जा के सदाएं मुझे न दो l

हर वक़्त जो दिखाएँ जफाओं का ही असर
मेरे हबीब ऎसी वफाएँ मुझे न दो l

ओ वक़्त के हकीम हूँ बीमारे इश्क़ मैं
दीदार ए यार चाहूँ दवाएँ मुझे न दो l

धोका दगा फरेब तो तुम ख़ूब दे चुके
अब और मुस्कुरा के बलाएं मुझे न दो l

ऎसे तो जा न पाऊँगा परदेस जाने मन
करके विदाअ आप सदाएं मुझे न दो l

महफिल में खुल न जाए कहीँ राज़ प्यार का
सब की नज़र इधर है निदाएँ मुझे न दो l

तस्दीक मनअ ग़म की लताफत से कब किया
कब मैं ने ये कहा है जफ़ाएँ मुझे न दो l

_________________________________________________________________________________

rajesh kumari


बुझता चिराग़ हूँ मैं हवाएँ मुझे न दो

झूठी सलामती की दुआएँ मुझे न दो

जीता रहा फ़रेब के साए में आज तक
जाते हुए तुम इतनी वफाएँ मुझे न दो

अब ओढ़ ली है़ ख़ाक मेरे ज़िस्म ने नई
पलकों की शबनमी ये रिदाएँ मुझे न दो

बेजान ज़िस्म पर न कोई होता है़ असर
अपनी जुबान से ये बलाएँ मुझे न दो

टूटा हुआ सा एक में गुलदान हूँ फ़कत
गुल ज़ाफ़रानी सब्ज़ कबाएँ मुझे न दो

आँसू नहीं पसंद मुझे पौंछ लीजिए
अब जाते जाते इतनी सज़ाएँ मुझे न दो

कहना नहीं पड़ेगा तुम्हें अब कभी सनम

हर बार दूर जाके सदाएँ मुझे न दो

_____________________________________________________________________________

Munavvar Ali 'taj' 


तीनों तलाक़ की ये दफ़ाएँ मुझे न दो

रहने दो यार और बलाएँ मुझे न दो

बेज़ार हो गई है ग़मों से मिरी खुशी

अब और ज़िन्दगी की दुआएँ मुझे न दो

अपनी जफ़ा का जश्न मनाओ ज़रूर तुम

लेकिन मिरी वफ़ा की सज़ाएँ मुझे न दो

गोया हुई अवाम से भारत की एकता

तुम इंतिशार वाली हवाएँ मुझे न दो

अहसास में समाके सताओ न इस तरह

"हर बार दूर जाके सदाएँ मुझे न दो"

ये कह रही है 'ताज' शिफ़ा हाथ जोड़ कर

नुक़्सान जो करें वो दवाएँ मुझे न दो

_________________________________________________________________________________

Md. anis sheikh


जो तिश्नगी को और बढाएं मुझे न दो

प्यासा ही ठीक हूँ ये घटाएँ मुझे न दो|

वैसे भी ज़िन्दगी में ग़मों का पहाड़ है

इश्क़ -ओ- वफ़ा की और वबाएँ मुझे न दो |

बच भी गया तो क़र्ज़ से कर लूंगा ख़ुदख़ुशी

इतनी ज़ियादा महँगी दवाएँ मुझे न दो |

चाहत की दिल में आग अगर फिर भड़क उठी

मुझसे न बुझ सकेगी, हवाएँ मुझे न दो |

तुमसे बिछड़ के लगता है लम्हा भी इक सदी

अब और ज़िन्दगी की दुआएँ मुझे न दो |

हौले से कान में कहो कुछ प्यार से कभी

हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो |

_________________________________________________________________________________

Surkhab Bashar

ये इश्क़ का मरज़ है दवाएँ मुझे न दो
ऐसा ही ठीक हूँ मैं दुआएँ मुझे न दो

दीदार एक बार भी उनका न कर सकूँ
लिल्लाह इतनी सख़्त सज़ाएँ मुझे न दो'

अपनों को जिस मक़ाम पे मैं भूलने लगूँ
इतनी बुलन्दियों की दुआएँ मुझे न दो

सच के बहुत से तमग़ै मेरे बाज़ुओं पे हैं
झूटों के सर की सारी बलाएँ मुझे न दो

'सुरख़ाब' दिल की बात कहो मेरे कान में
"हर बार दूर जाके सदाएँ मुझे न दो"

_________________________________________________________________________________

दिगंबर नासवा

हुस्नो-शबाब जो भी लुटाएँ, मुझे न दो

शायद किसी के काम ये आएँ मुझे न दो

चिट्ठी हो मेल, ट्वीट, संदेसा, सलाम हो

मोबाइलों पे फोन लगाएँ, मुझे न दो

खेलें वो खेल इश्क का, पर दर्द हो मुझे

उनका है ये गुनाह, सज़ाएँ मुझे न दो

खुद मैं नहीं हूँ असल तो मुद्दा है अँधेरा

जलने के बाद तेज़ हवाएँ मुझे न दो

जिस्मानी दर्द और नहीं सह सकूंगा में

हमदर्द हो मेरे तो दवाएँ मुझे न दो

सुख चैन से कटें, जो कटें ज़िन्दगी के दिन

लम्बी हो ज़िंदगी ये दुआएँ मुझे न दो

विश्वास उठ न जाए कहीं सादगी से फिर

छुप छुप के खौफनाक अदाएँ मुझे न दो

गम ज़िन्दगी में और हैं इस इश्क के सिवा

“हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो”

वादा है खुद का खुद से न पीने का उम्र भर

छू कर लबों से जाम जो लाएँ, मुझे न दो

_________________________________________________________________________________

क़मर जौनपुरी

मैं आब से घिरा हूँ घटाएँ मुझे न दो
मैं दर्द में हूँ और बलाएँ मुझे न दो

मैं जम गया हूँ बर्फ़ से एहसास के तले
अब मौत की ये सर्द हवाएँ मुझे न दो

उसकी जफ़ा की राह में बीमार हूँ पड़ा
फ़ाके में हूँ वफ़ा की ग़िज़ाएँ मुझे न दो

अब थक चुका हूँ दौड़ लगाते मेरे सनम
"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो"

अब रास आ गया है मुझे जश्ने तीरगी
मिल जाये चाँदनी ये दुआएँ मुझे न दो

ये ज़ख़्म मेरे दिल का निशानी है प्यार की
भर जाए ज़ख़्म ऐसी दुआएँ मुझे न दो

____________________________________________________________________________

मोहन बेगोवाल

ये जिंदगी अदा तो अदाएँ मुझे न दो।
जब खाक उड़ चुकी तो घटाएँ मुझे न दो।

जब तक यकीन साथ हवाएँ मुझे न दो।
हो दूर दिल आवाज़ तो सदाएँ मुझे न दो।

रिशता बना मिरा नहीं लगता कभी तिरा,
जिन हारता रहा वो सजाएँ मुझे न दो।

जब रोग़ ही तिरा दिया लगता नहीं मिरा,
तू उस दुआ न कर ये दवाएँ मुझे न दो।

किस पास हम रहें कैसे कहते बता तुझे,
ऐ। जिंदगी ज़रा सी वफ़ाएँ मुझे न दो।

दुनिया तलाश जब ये करती है सोच कर,
कैसे कहूँ कभी ये जफाएँ मुझे न दो।

आवाज़ दिल सुनी नहीं देते रहे सदा,
“हर बार दूर जा कि सदाएँ मुझे न दो।“

जब जीत कर यहाँ मुझे हारा मिला है वो,
अब देखना कभी ये दुआएँ मुझे न दो।

______________________________________________________________________________

Ravi Shukla

बुझता हुआ दिया हूँ, हवाएँ मुझे न दो,
हो दोस्त गर मेरे तो बलाएँ मुझे न दो।

मुश्किल बहुत है अब तो पलटना मेरा "फ़राज़"
हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो।

सारे निशान वक़्त ने दिल से मिटा दिए,
कुछ याद आए ऐसी दुआएँ मुझे न दो।

अहसान ज़िन्दगी का उठाया न जाएगा,
आती है मौत आए दवाएँ मुझे न दो।

उनको अता हो आब सराबों में जो रहे,
सहरा की तिश्नगी हूँ घटाएँ मुझे न दो।

तुमने फरेब दे के दिए रंज बेशुमार,
रुसवाइयों की अब तो कबाएँ मुझे न दो।

_________________________________________________________________________________

Dr Manju Kachhawa

बीमार हूँ मगर ये दवाएँ मुझे न दो
उम्र ए तवील की यूँ दुआएँ मुझे न दो

आदत सी हो गयी है जफ़ाओं की दोस्तो
ये इल्तिजा है तुमसे वफ़ाएँ मुझे न दो

मुझसे ख़ता हुई थी तो करते शिकायतें
ख़ामोश रह के ऐसे सज़ाएँ मुझे न दो

दामन छुड़ा के जाते हो ,जाओ,मगर सुनो
"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो"

तारों में आ बसी तो समाअत भी छिन गयी

बहतर है अब यही कि सदाएँ मुझे न दो

कहती है राख में दबी चिंगारी ऐ 'अना'
आतिश से ख़ौफ़ खाओ हवाएँ मुझे न दो

________________________________________________________________________________

राज़ नवादवी 

चुभने लगीं हैं, अब तो शुआएँ मुझे न दो
शह्र-ए-ख़मोशां में हूँ, सदाएँ मुझे न दो //१

कहता था चर्ख़ देके दुहाई किसान की
बरसें नहीं जो जम के घटाएँ, मुझे न दो //२

कुहना है रोग दिल का गो, गुंज़ीर हो नया
हर बार नीली पीली दवाएँ मुझे न दो //३

दुनिया के शोरो गुल की है आदत मुझे लगी
दिल के सुकूत, अपनी निदाएँ मुझे न दो //४

उल्फ़त में टूटने से ही बनता है जब नसीब
तोड़ें नहीं जो दिल को ज़फाएँ, मुझे न दो //५

देदो किसी ग़रीबे मुहब्बत को ये मता
लौटा के फिरसे मेरी वफ़ाएँ मुझे न दो //६

भड़काती हैं हवास के शोलों को और भी
आँचल से निकली शोख़ हवाएँ मुझे न दो //७

लौटूँ भी कितनी बार यूँ वस्ते सफ़र से मैं

‘हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो’ //८

कहती थी राज़ सादा दिली हुस्ने यार से

दिल तोड़ने की अपनी अदाएँ मुझे न दो //९

_________________________________________________________________________________

Amit Kumar "Amit" 


बीमार इश्क का हूं, दबाएँ मुझे न दो।
मर जाउंगा कि और, दुआएं मुझे न दो।।१।।

बेखौफ बेवजह वो करता रहा खता।
उसकी नदानियों की सजाएं मुझे न दो।।२।।

टूटे हुऐ चराग को कैसे जलाओगे।
बेकार कोशिशें ये हवाएं मुझे ना दो।।३।।

घाटे तमाम इश्क के क्यों तुमने रख लिए।
हक मार के ये मेरे नफाएं मुझे न दो।।४।।

मेरी कसम है आप को इस तौर छोड़ के।
हर बार दूर जा के सदाएं मुझे न दो ।।५।।

क्योंकर 'अमित' जताते हो मुुुझ से युं बेरुखी।
मौसम बसन्त का ये खिजाएं मुझे न दो।।६।।

______________________________________________________________________________

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

कैसे कहूँ मैं और सजाएँ मुझे न दो
मानव भला नहीं मैं दुआएँ मुझे न दो।१।

हर ओर इसके नाम से मडराती मौत अब
तुम दान ऐसे वक्त में गाएँ मुझे न दो।२।

मूरख हूँ मेरा ज्ञान से रिस्ता नहीं तनिक
पढ़ने को वेद की ये ऋचाएँ मुझे न दो।३।

तरसा हूँ चाहे बूँद को मौसम हर इक मगर
सूखी फसल के बाद घटाएँ मुझे न दो।४।

कहना है जो भी कह दो यहीं पास बैठ के
''हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो''।५।

माना कि मुफलिसी से हुआ बेलिबास मैं

फूलों की तुम कतर के कबाएँ मुझे न दे।६।

मुझमें नहीं हुनर ये कि बुत में तराश दूँ
मैं शहर काँच का हूँ  शिलाएँ मुझे न दो ।७।

______________________________________________________________________________

munish tanha 


इस जिन्दगी की और दुआएं मुझे न दो

रहने दो यार और सजाएं मुझे न दो

कितने सहे हैं जख्म मुझे खुद नहीं पता

अब रब के वास्ते ये बलाएं मुझे न दो

जलता हुआ चिराग मैं अपने मकान का

मुंहजोर वेलगाम हवाएं मुझे न दो

तुम पास आ के हाल सुना दो मुझे सनम

हर बार दूर जा के सदाएं मुझे न दो

इस दर्दे दिल की बात को सुनता नहीं कोई

कहता फिरे वो सबसे जफ़ाएं मुझे न दो

तन्हा मिले न अब्र तो प्यासी हुई धरा

करती फिरे पुकार झूठी घटाएँ मुझे न दो

_____________________________________________________________________________

dandpani nahak 


ऐसी ख़बर वो फिर से न आएँ मुझे न दो
यारो दया करो ये सज़ाएँ मुझे न दो

बातूनी हो गया है बहुत झूठ सच है चुप
कहता है वो यही कि सदाएँ मुझे न दो

कर कर के इंतिज़ार बहुत थक चुका हूँ मैं
ऐसे में ज़िन्दगी की दुआएँ मुझे न दो

इस बार जो गया न कभी लौट पाउँगा

"हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो

कुछ रह्म तो करो कि मैं जनता हूँ देश की
अपने किये की आप सज़ाएँ मुझे न दो

_______________________________________________________________________________

अजय गुप्ता 


यादों को सब्ज़ करती हवाएँ मुझे न दो
अब ठूँठ ही भला हूँ फ़ज़ाएँ मुझे न दो

जब से तुम आई पास खिली मेरी ज़िंदगी
फिर बुझ न जाए रंग खलाएँ मुझे न दो

कहते हो मेरे साथ चलो जाम छोड़ कर
अपना बना के अपनी बलाएँ मुझे न दो

आगे बढूँ खुदाया मुझे दो वो हौंसला
पीछे न हटने देे वो अनाएँ मुझे न दो

हल्की सी किरण हो कि नज़र में रहे डगर
अँधा ही कर दें इतनी ज़ियाएँ मुझे न दो

इंसानियत दिखा के निभाता हूँ फ़र्ज़ ही
इस बात के लिए भी दुआएँ मुझे न दो

बर्बाद होते देख हज़ारों को इश्क़ में
कहने लगा ज़माना वफ़ाएँ मुझे न दो

इक बार तो क़रीब से भी कर लो गुफ़्तगू
**हर बार दूर जा के सदाएँ मुझे न दो

______________________________________________________________________________

मिसरों को चिन्हित करने में कोई गलती हुई हो अथवा किसी शायर की ग़ज़ल छूट गई हो तो अविलम्ब सूचित करें|

Views: 82

Reply to This

Replies to This Discussion

मुहतरम जनाब राणा प्रतापसिंह साहिब, ओ बी ओ ला इव तरही मुशायरा अंक - 103 के त्वरित संकलन और कामयाब निज़ामत के लिए मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं I 

आ. भाई राणा प्रताप जी, ओबीओ तरही मुशायरा अंक १०३ के संकलनके करण के लिए हार्दिक बधाई ।

साथ ही अनुरोध है कि मेरी प्रस्तुति के 6टे शेर की प्रथम पंक्ति को इस प्रकार करने की कृपा करें । सादर...

माना कि मुफलिसी से हुआ बेलिबास मैं

यथा निवेदित तथा संशोधित.

आद0 राणा प्रताप सिंह जी सादर अभिवादन। ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा 103 के त्वरित संकलन और उसमें मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार सँग बधाई

जनाब राणा प्रताप सिंह जी आदाब,तरही मुशायरा अंक-103 के संकलन के लिए बधाई स्वीकार करें ।

जनाब राणा प्रताप सिंह जी आदाब,

जनाब नादिर साहिब का ये मिसरा:-

'जुल्मों सितम की ऐसी खताएँ मुझे न दो'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब मो.नायाब की ग़ज़ल का ये मिसरा:-

'मुजरिम नहीं हैं कैसे बताएँ मुझे न दो'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी का ये मिसरा:-

'घुट जाए दम मेरा वो फ़जाएँ मुझे न दो'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब तस्दीक़ साहिब के इस शैर में शुतरगुरबा दोष है:-

'ओ वक़्त के हकीम हूँ बीमारे इश्क़ मैं
दीदार ए यार चाहूँ दवाएँ मुझे न दो'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब राज़ नवादवी जी का ये मिसरा:

'देदो किसी ग़रीबे मुहब्बत को ये मता'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब अमित जी का ये मिसरा:-

'बीमार इश्क का हूं, दबाएँ मुझे न दो'

इटैलिक होना चाहिए ।

जनाब लक्ष्मण धामी जी का ये मिसरा:-

'मूरख हूँ मेरा ज्ञान से रिस्ता नहीं तनिक'

इटैलिक होना चाहिये ।

जनाब अजय गुप्ता जी का ये मिसरा:-

'हल्की सी किरण हो कि नज़र में रहे डगर'

लय में नहीं,काटना चाहिए ।

'ओ वक़्त के हकीम हूँ बीमारे इश्क़ मैं
दीदार ए यार चाहूँ दवाएँ मुझे न दो l

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Tanweer is now a member of Open Books Online
5 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
""ओबीओ लाइव तरही मुशायरा "अंक 104 को सफ़ल बनाने के लिये, सभी ग़ज़लकारों और पाठकों का आभार व…"
5 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"बहुत शुक्रिया जनाब अजय जी"
5 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"बहुत शुक्रिया जनाब रवि शुक्ला जी  ज़र्रा नवाज़ी है आपकी"
5 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"बहुत शुक्रिया मुहतरम शिज्जू शकूर साहिब "
5 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"मोहतरम सुर्ख़ाब बशर साहब शुक्रिया  बहुत नवाज़िश सादर"
5 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"ज़र्रा नवाज़ी का शुक्रिया ।"
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"मेरे कहे को मान देने के लिए आभार आपका।"
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"बढ़िया इस्लाह।"
5 hours ago
dandpani nahak left a comment for मिथिलेश वामनकर
"बहुत शुक्रिया आदरणीय मिथिलेश जी आपका आदेश सर माथे पर"
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आदरणीय बहुत बढ़िया इस्लाह दी आपने। सादर"
5 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"शुक्रिया"
5 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service