For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

भारतीय छंद विधान

Information

भारतीय छंद विधान

इस समूह में भारतीय छंद शास्त्रों पर चर्चा की जा सकती है | जो भी सदस्य इस ग्रुप में चर्चा करने के इच्छुक हों वह सबसे पहले इस ग्रुप को कृपया ज्वाइन कर लें !

Location: ओपन बुक्स ऑनलाइन
Members: 193
Latest Activity: May 16

साथियों !

इस समूह में भारतीय छंद पर व्यापक चर्चा की जायेगी, साथ में छंदों का नियम विधान आदि पर भी जानकारी साझा की जायेगी |

Discussion Forum

ताटंक छन्द के मूलभूत सिद्धांत // - सौरभ 6 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by बासुदेव अग्रवाल 'नमन' Oct 5, 2016.

हरिगीतिका छन्द के मूलभूत सिद्धांत // --सौरभ 23 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by सतविन्द्र कुमार राणा Aug 2, 2016.

विभावन-व्यापार में साधारणीकरण की प्रक्रिया 3 Replies

Started by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव. Last reply by मिथिलेश वामनकर Apr 27, 2015.

उल्लाला छन्द // --सौरभ 12 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by Saurabh Pandey Feb 13, 2017.

अर्थ गौरव की ऊर्जा है शब्द शक्ति 22 Replies

Started by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव. Last reply by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव Apr 27, 2015.

चौपई छंद // --सौरभ 15 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by Saurabh Pandey Mar 13, 2016.

कामरूप छंद // --सौरभ 13 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by Saurabh Pandey Apr 27, 2015.

सार छंद/ छन्न पकैया // --सौरभ 19 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by सतविन्द्र कुमार राणा Feb 20, 2016.

चौपाई : मूलभूत नियम 21 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by सतविन्द्र कुमार राणा Jan 16, 2016.

मात्रिक पदों में शब्द-संयोजन 9 Replies

Started by Saurabh Pandey. Last reply by सुरेश अग्रवाल Aug 11, 2017.

Comment Wall

Comment

You need to be a member of भारतीय छंद विधान to add comments!

Comment by SANDEEP KUMAR PATEL on March 5, 2013 at 11:58am

गुरुदेव आपके कहे को पढ़ रहा हूँ मन लगा के और मुग्ध हो रहा हूँ कुछ भ्रम दूर हो रहे हैं आपका सदैव आभारी हूँ गुरुदेव जय हो 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on December 7, 2012 at 9:44am

वीनस केसरी  मैं समझ रहा हूँ. अति व्यस्तता वाकई कभी-कभी मनचाही प्रक्रियाओं से व्यक्ति को विलग कर देती है. लेकिन इस लेखमाला पर अवश्य ध्यान चाहूँगा.  सवैया छंद के जितने प्रारूपों की  सवैया  लेख में चर्चा हो चुकी है,  उनके विधान समयानुसार अपलोड करना शुरु कर चुका हूँ.

इन सबके अलावे उन सवैया प्रारूपों को भी यथासंभव लेखमाला में शामिल करने का प्रयास करूँगा जो अभी तक  सवैया  वाले लेख की सूची में सम्मिलित होने से रह गये हैं. बाद में उन सभी को इस सूची में शामिल कर लूँगा.  अन्यान्य मिश्रित या सामान्य प्रारूपों की विशेष चर्चा मुझे आवश्यक प्रतीत नहीं होती. 

Comment by वीनस केसरी on December 7, 2012 at 3:08am

सौरभ जी,
अतिव्यस्त होने के कारण आपके द्वारा साझा की जा रहे सुन्दर जानकारीपूर्ण लेख को नहीं पढ़ पा रहा हूँ जल्द ही सभी को पढ कर कमेन्ट करूँगा 
जल्दीबाजी में पढ़ने से बच रहा हूँ जल्द ही "फ्री" हो कर आऊंगा

सादर

Comment by पीयूष द्विवेदी भारत on August 30, 2012 at 7:29am

आज का काव्य छंद के अन्य नियमों को तो छोडिए, सामान्य रूप से मात्रात्मक नियम तक से दूर हो गया है, ऐसे में हमारे पारंपरिक छंदों के  ज्ञान के प्रचार-प्रसार की अत्यावश्यकता है, इस कार्य में यह समूह एक अच्छी भूमिका निभाए, यही इश्वर से कामना है!

Comment by Arun Sri on March 23, 2012 at 1:02pm

अब कुछ ठीक है ! आभार !

Comment by विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी on February 21, 2012 at 7:03am
एक सशक्त,सराहनीय और सार्थक प्रयास;साधुवाद।
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Neelam Upadhyaya commented on Mohammed Arif's blog post बारिश की क्षणिकाएँ
" अच्छी क्षणिकाओं की प्रस्तुति के लिए हार्दिक बढ़ायी आदरणीय मोहम्मद आरिफ जी। "
5 minutes ago
Neelam Upadhyaya commented on TEJ VEER SINGH's blog post खरा सोना - लघुकथा –
"अनुशासनप्रिय होना तो अच्छी बात है लेकिन इसके पीछे बच्चों का बचपन छिन जाता है।  यह बात तब समझ…"
7 minutes ago
Neelam Upadhyaya commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"बेहतरीन ग़ज़ल की पेशकश के लिए बधाई स्वीकार करें आदरणीय नवीन मणि त्रिपाठी जी। "
13 minutes ago
Neelam Upadhyaya commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post ख्वाब कोई तो मचलना चाहिए
"आदरणीय बसंत कुमार जी, बढ़िया पेशकश   बधाई स्वीकार करें"
17 minutes ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर साहब सप्रेम आभार और तहे दिल से शुक्रिया ।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 तेजवीर सिंह साहब ग़ज़ल तक आने के लिए तहे दिल से शुक्रिया और आभार व्यक्त करता हूँ ।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 कबीर सर बहुत बहुत आभार और तहे दिल से शुक्रियः । मैंने रब्त बनाने का प्रयास किया था सम्भवतः…"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 बबिता गुप्ता जी हार्दिक आभार ।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Mohammed Arif's blog post बारिश की क्षणिकाएँ
"हार्दिक बधाई आदरणीय मोहम्मद आरिफ़ जी।बेहतरीन क्षणिकायें।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 श्याम नारायण वर्मा जी हार्दिक आभार ।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post खरा सोना - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय मोहम्मद आरिफ़ जी।कुछ लोग अति अनुशासन प्रिय होते हैं। एक कारण यह भी हो सकता है।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 तेजवीर सिंह साहब बहुत बहुत शुक्रिया ।"
1 hour ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service