For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सुझाव एवं शिकायत

Information

सुझाव एवं शिकायत

Open Books से सम्बंधित किसी प्रकार का सुझाव या शिकायत यहाँ लिख सकते है , आप के सुझाव और शिकायत पर Team Admin जरूर विचार करेगी .....

Location: All world
Members: 106
Latest Activity: Sep 22

Discussion Forum

प्रशनोत्तर 1 Reply

महोदय, विधाता लिखकर सेव एस ड्राफ्ट पर क्लिक करके सेव करते हैं तो इसे द्वारा देखने के लिए किस जगह मिलेगी, यह किस जगह सेव होती हैं. कृपया करके बताईयेगा. बबीता गुप्ता Continue

Tags: प्रशनोततर

Started by babitagupta. Last reply by योगराज प्रभाकर Apr 30.

एडमिन के लिए 5 Replies

O.B.O एक अच्छा मंच  है अपनी रचनाओं को प्रदर्शित करने के लिए किन्तु किसी भी रचना में कोई keyword  ना होने से रचनायें केवल इसी मंच तक सीमित हैं। और मंच से तो कहने को तीन हजार  से अधिक सदस्य हैं किंतु लगभग कुछ ही  लोग नियमित हैं बाकी तो दिखने की भीड़ हैंContinue

Started by रोहित डोबरियाल "मल्हार". Last reply by Samar kabeer Apr 5.

Response to Discussions 4 Replies

Dear friends:As many of us have noticed, usually there is not much response to the discussions at various Groups. This is true with English poems, as well, and one feels like a loner walking at night in the darkness in a big city with no street…Continue

Started by vijay nikore. Last reply by KALPANA BHATT ('रौनक़') Oct 13, 2017.

ग़ज़ल प्रकाशित नही होने के सम्बन्ध में 1 Reply

महोदय मैंने अभी अपनी एक ग़ज़ल को तीन बार पोस्ट किया परंतु प्रकाशित नही की गयीं है 3 दिन बीत गए । यदि कोई समस्या हो तो बताने का कष्ट करें ।

Started by Naveen Mani Tripathi. Last reply by योगराज प्रभाकर Oct 17, 2016.

ओबीओ का रंग 1 Reply

आदरणीय प्रधान  सम्पादक  जी ,                            नमस्कारमेरा  मानना है  कि हमारा  ओबीओ मंच साहित्य के  विविध  रंगों से  सरोबार  है। इसको  इतना फीका , उदास -सा  रंग यानी  रंगहीन-सा  बिलकुल नहीं  होना  चाहिए। मेंबर  होने  के  नाते ये  सिर्फ…Continue

Started by kanta roy. Last reply by Er. Ganesh Jee "Bagi" Jun 8, 2016.

कोई प्रदीप नील को बताएगा क्या ? 1 Reply

आदरणीय OBO टीम के वरिष्ठ सदस्य्गण ,मैं समझता हूँ कि यह उचित मंच है जहाँ मानकों के  आधार पर किसी चुटकुले को  लघुकथा , या लघुकथा को  चुटकुला घोषित किया जाता है।  अभी लघुकथा महा उत्सव ख़त्म हुआ है ,  थके होंगे तथा वहां शामिल रचनाओं के संकलन में व्यस्त…Continue

Started by प्रदीप नील वसिष्ठ. Last reply by योगराज प्रभाकर Dec 2, 2015.

थोड़ी हैरान हूं । 2 Replies

आदरणीय वरिष्ठ जन,सादर नमस्कार, मुझे शिकायत नहीं हैरानी है कि रचनाओं को जितने पाठक मिल रहे है उसकी तुलना में आधी मात्रा में भी प्रतिक्रिया नहीं मिलती।जबकि इस ग्रुप में काफ़ी सदस्य है । तो थोड़ी हताशा होती है । यूं लगता है जैसे लिखना व्यर्थ गया । सादर…Continue

Started by Rahila. Last reply by Sheikh Shahzad Usmani Nov 10, 2015.

छंद विधान के साथ संबंधित छंद का मानक/आदर्श वाचन का आडियो भी दिया जाये 1 Reply

एक निवेदनभरतीय छंद विधा में विभिन्न छंदों के मात्रिकता आंतरिक संरचना पर जानकारी उपलब्ध है । जिसके आधार पर मैं रचनाकर्म का अभ्यास करता हूॅ किंतु मुझे बार बार गेयता पर ध्यान देने का सुझाव दिया जाता है जो स्वागतेय  है इस परिप्रेक्ष्य में एक आग्रह है…Continue

Started by रमेश कुमार चौहान. Last reply by Prakash Chandra Baranwal Oct 6, 2015.

List of latest postings in various GroupsI 1 Reply

Just like OBO posts a list of the latest blogs on the right side of the screen, I suggest that OBO also post a list of latest additions to the various groups. This will serve the same significance as is presently offered to the 'blog posts'.…Continue

Started by vijay nikore. Last reply by Saurabh Pandey Jul 23, 2015.

क्या यह मेरा भ्रम है ? 17 Replies

व्यक्तिगत जीवन की व्यस्तताओं व विवशताओं के कारण पूर्व की भाँति न तो लिख पा रहा हूँ और न ही प्रतिक्रिया ही प्रकट कर पा रहा हूँ किन्तु ओबीओ पर पोस्ट रचनायें प्रतिदिन नियमित तौर पर पढ़ रहा हूँ. हाँ ! मासिक आयोजनों में सक्रिय रहने की यथा शक्ति कोशिश…Continue

Tags: है, ?, भ्रम, मेरा, यह

Started by अरुण कुमार निगम. Last reply by मिथिलेश वामनकर Jul 2, 2015.

Comment Wall

Comment

You need to be a member of सुझाव एवं शिकायत to add comments!

Comment by Admin on January 17, 2011 at 6:49pm

आदरणीय आज़र साहिब,

सादर अभिवादन ,

श्रीमान venus keshari जी ने यही सवाल गज़लशाला मे भी उठाई है , यदि आप इनके सवाल का जबाब वहा ही दे तो सभी को ज्ञात होगा कि आप द्वारा अगला पाठ क्यू नहीं लगाया जा रहा है , बकौल आपका पहला अंक आपने लिखा है कि आपने एडमिन OBO के अनुरोध पर गज़लशाला शुरू कर रहे है , आपकी बातों से ऐसा लगता है कि कुछ गलतफहमियां है , यदि ऐसा है तो आपको एडमिन से कहना चाहिये, आपके कहे अनुसार मैने पूरा गज़लशाला पुनः पढ़ा किन्तु मुझे कुछ खास समझ मे नहीं आया कि आप का इशारा किधर है , OBO आप का अपना परिवार है जो कुछ कहना है खुल कर कहे | परिवार मे नोक झोक चलता रहता है , आपके अगले पाठ का इन्तजार हम सब को आज भी है , मैं आज तक यह समझ रहा था कि किसी खास व्यस्तता के कारण नया पाठ नहीं आ रहा है |

कृपया नविन पाठ शुरू करे | 

आप का अपना ही

एडमिन

Comment by वीनस केसरी on January 17, 2011 at 5:30pm
आज़र जी नमस्ते,
मैंने ग़ज़ल की पाठशाला पर एक प्रश्न पूछा था फिर देखा की आप यहाँ उपस्थित हैं तो उस प्रश्n को यहाँ दोहरा रहा हूँ

ग़ज़ल की पाठशाला में आज़र जी का अंतिम पाठ (अंक ९) दिनांक October 29, २०१० को प्रकाशित हुआ है और उसके बाद पाठ प्रकाशित न होने पाने की कोई सूचना नहीं दी गई है
मैं ये जानना चाहता हूँ की क्या आज़र जी ने यहाँ लिखना बंद कर दिया है ?

प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on January 17, 2011 at 4:41pm
आदरणीय आज़र साहिब,
सादर नमस्कार !

आपने मेरी दरख्वास्त कबूल फरमा कर जवाब दिया, आपका दिल से मशकूर हूँ ! यह हाईफन वाली बात अभी भी मुझे परेशान कर रही है ! वजाहत के लिए मैं अज़ीम शु'अरा के चाँद आशार बतौर हवाला पेश करना चाहूँगा जहाँ दो से ज्यादा दफा  हाईफन इस्तेमाल किए गए हैं :

//जनाब फ़िराक गोरखपुरी//

निगाहे-चश्मे-सियह कर रहा है शरहे-गुनाह
न छेड़ ऐसे में बहसे-जवाज़ो-गै़रे-जवाज़

//जनाब दाग देहलवी साहिब 

हुस्न-ए-अदा भी खूबी-ए-सीरत में चाहिए,
यह बढ़ती दौलत, ऐसी ही दौलत में चाहिए।

//मिर्ज़ा असदुल्ला ग़ालिब साहिब//


शुमार-ए सुबह मरग़ूब-ए बुत-ए-मुश्किल पसंद आया
तमाशा-ए बयक-कफ़ बुरदन-ए-सद दिल पसंद आया

हवा-ए-सैर-ए-गुल आईना-ए-बेमिहरी-ए-क़ातिल
कि अंदाज़-ए-ब -ग़लतीदन-ए-बिस्मिल पसंद आया

रवानियाँ -ए-मौज-ए-ख़ून-ए-बिस्मिल से टपकता है
कि लुतफ़-ए बे-तहाशा-रफ़तन-ए क़ातिल पसंद आया

वह फ़िराक़ और वह विसाल कहां
वह शब-ओ-रोज़-ओ-माह-ओ-साल कहां

दर्से-उन्वाने-तमाशा बा-तग़ाफ़ुल ख़ुशतर
है निगहे- रिश्ता-ए-शीराज़ा-ए-मिज़गाँ

असरे-आब्ला से है जादा-ए-सहरा-ए-जुनूँ
सूरते-रिश्ता-ए-गोहर है चराग़ाँ मुझसे

निगह-ए-गर्म से इक आग टपकती है ‘असद’
है चराग़ाँ ख़स-ओ-ख़ाशाके-गुलिस्ताँ मुझसे

//हजरत मोमिन खान मोमिन साहिब//

दिल क़ाबिल-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ नहीं रहा
वो वलवला, वो जोश, वो तुग़याँ नहीं रहा

मोमिन ये लाफ़-ए-उलफ़त-ए-तक़वा है क्यों अबस
दिल्ली में कोई दुश्मन-ए-ईमाँ नहीं रहा


जलता हूँ हिज्र-ए-शाहिद-ओ-याद-ए-शराब में|
शौक़-ए-सवाब ने मुझे डाला अज़ाब में|

रहते हैं जमा कूचा-ए-जानाँ में ख़ास-ओ-आम,
आबाद एक घर है जहान-ए-ख़राब में|

//मीर तक़ी मीर साहिब //

आ जायें हम नज़र जो कोई दम बहुत है याँ
मोहलत बसाँ-ए-बर्क़-ओ-शरार कम बहुत है याँ

बक्शिश ने मुझ को अब्र-ए-करम की किया ख़िजल
ए चश्म-ए-जोश अश्क-ए-नदामत को क्या हुआ

//अल्लामा इकबाल साहिब//

कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुन्तज़र! नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में
के हज़ारों सज्दे तड़प रहे हैं तेरी जबीन-ए-नियाज़ में

तरब आशना-ए-ख़रोश हो तू नवा है महरम-ए-गोश हो
वो सरूद क्या के छिपा हुआ हो सुकूत-ए-पर्दा-ओ-साज़में

तू बचा बचा के न रख इसे तेरा आईना है वो आईना
के शिकस्ता हो तो अज़ीज़तर है निगाह-ए-आईना-साज़ में !

क्या इन आशार को पुरऐब माना जाएगा ? बराए मेहरबानी वजाहत फरमाएं !  

सादर !
योगराज प्रभाकर


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on January 17, 2011 at 4:10pm

परम आदरणीय आजर साहब 

आपको और आपकी सोच को 

साष्टांग दंडवत 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on January 17, 2011 at 3:12pm

परम आदरणीय आजर sahab 

साष्टांग dandavat

आपको मिसरों में कोमा(,) तो दिख गया पर उसका मकसद नहीं दिखाई दिया| जनाब अगर आप गौर से देखें तो मूलतः जो मिसरा दिया गया है वहां पर कोई भी panctuation का निशान है ही नहीं और  उसके बाद जो मिसरे में कोमे का निशान है वह अरकान के बीच में स्पेस देने के लिए रखा गया है जिससे की कोई नया व्यक्ति भी  अरकान को समझ सके, ठीक उसके नीचे अरकान को लिख कर बात को और भी स्पष्ट किया गया है|

मै अदब की university तो गया नहीं हूँ पर हां इतना अवश्य जानता हूँ कि महफ़िल में किससे किस तरह से पेश आना चाहिए|

बहुत बहुत dhanyavaad

 


प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on January 17, 2011 at 12:37pm
आदरणीय आज़र साहिब,
सादर नमस्कार !

मैं आपकी बात से इत्तफाक रखता हूँ कि उर्दू अदबी दुनिया में तरही मुशायरे के दौरान मिसरा किसी जाने माने शायर के कलाम से ही उठाने की परम्परा रही है ! लेकिन श्री राणा प्रताप जी द्वारा दिया गया मिसरा क्योंकि बिना किसी Mala fide Intensions के सहवन ही दिया गया है तो मेरे निजी विचार में यह हर प्रकार से दोषमुक्त माना जाना चाहिए ! श्री राणा प्रताप सिंह जी एक बहुत ही प्रतिभावान युवा शायर हैं जो कि महफ़िल के अदब-ओ-आदाब से बखूबी वाकिफ हैं, मैं नहीं मान सकता कि खुद अपना रचित मिसरा देने के पीछे उनका कोई निजी स्वार्थ निहित रहा होगा !

अब रही बात परम्परा की, तो अगर कोई नवीनता किसी असूल का उल्लंघन नहीं करती तो उसको अपनाने में क्या हर्ज़ है ? क्या आज अदब की हर बानगी में नये नये प्रयोग नहीं किए जा रहे हैं ?  यहाँ ओबीओ में हम खुद ऐसी नवीनता के हक में हैं ! और क्या मालूम कि कुछ अरसे के बाद श्री राणा प्रताप सिंह जी भी उस मुकाम पर पहुँच जाएँ जहाँ कि उनके कलाम से दुनिया तरही मिसरा उठाने लग जाए !

आप ने आगे फ़रमाया है कि किसी एक मिसरे में दो बार हाइफ़न प्रयोग उचित नहीं माना जाता है, मेरी अदना सी जानकारी से मुताबिक इल्म-ए-अरूज़ में कलाम के हरेक ऐब को एक ख़ास नाम से याद किया गया है ! यदि आप उस नाम के हवाले से मौजूदा तरही मिसरे में दो से ज्यादा हाइफ़न होने के ऐब का खुलासा कर सकें तो फन-ए-ग़ज़ल से तालिबिल्मों का बहुत ही भला होगा !

सादर !
योगराज प्रभाकर

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on January 15, 2011 at 8:01pm

आदरणीय आज़र साहब

प्रणाम

बताना चाहता हूँ कि मिसरा ए तरह मेरी ही सोच की उपज है | मुशायरे के लिए समसामयिक विषय का चुनाव करते वक्त मुझे यह मिसरा ठीक लगा| अब आप साहित्य के साथ खिलवाड़ की  बात शीघ्राति शीघ्र स्पष्ट कर दें|

धन्यवाद|

Comment by Admin on January 15, 2011 at 1:56pm

आदरणीय आज़र साहिब , सादर अभिवादन,

आपने कहा कि "बहुत दुख: होता है जब इस प्रकार से साहित्य व खास तौर से जब ग़ज़ल के साथ फ़नकार खिलवाड़ करते हैं"

कृपया अपने कथ्य का खुलासा करना चाहेंगे |

धन्यवाद सहित,

एडमिन

OBO


प्रधान संपादक
Comment by योगराज प्रभाकर on January 15, 2011 at 1:14pm

आदरणीय आज़र साहिब, सादर नमस्कार !

मैं श्री राणा प्रताप जी से दरयाफ्त करके यह जानकारी आपके सम्मुख बहुत जल्द प्रस्तुत करूंगा ! सादर ! 

 

Comment by Admin on September 30, 2010 at 3:42pm
आदरणीय "आज़र" साहिब,
OBO लाइव तरही मुशायरा अपने नाम के अनुसार ही लाइव होता है, Reply Box खुलते ही सभी सदस्य स्वतंत्र होते है अपनी ग़ज़ल को पोस्ट करने के लिये, मुशायरे मे शिरकत करने हेतु अपनी ग़ज़ल को किसी को भेजने की आवश्यकता नहीं है सदस्य स्वयम पोस्ट कर दे, हां यह सुविधा जरूर है कि यदि किसी कारण वश ऐसा न कर सकने की स्थिति मे एडमिन को ग़ज़ल भेजी जा सकती हैं जिसे एडमिन द्वारा गज़लकार के नाम से पोस्ट कर दिया जायेगा |
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post खामियाजा ( लघु कथा )
"जनाब डॉ. गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी आदाब,अच्छी लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
2 hours ago
Admin posted a discussion

"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-45

आदरणीय साथिओ,सादर नमन।."ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-45 में आप सभी का हार्दिक स्वागत है, प्रस्तुत…See More
5 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" posted a blog post

दोष देखो तो सूरज के सर हो गया----ग़ज़ल

212 212 212 212घोर कलयुग का ऐसा असर हो गयावस्त्र धर के भी नंगा नगर हो गयाआवरण धारणा का है यूँ सोच…See More
10 hours ago
क़मर जौनपुरी posted a blog post

गज़ल -16 ( पत्थर जिगर को प्यार का दरिया बना दिए)

बहरे मज़ारिअ मुसमन अख़रब मकफूफ़ मकफूफ़ महज़ूफ़ मफ़ऊलु, फ़ाइलातु, मुफ़ाईलु, फ़ाइलुन 221, 2121, 1221,…See More
18 hours ago
Manoj kumar Ahsaas posted a blog post

एक गीत मार्गदर्शन के निवेदन सहित: मनोज अहसास

आज मन मुरझा गया हैमर गई सब याचनाएं धूमिल हुई योजनाएंएक बड़ा ठहराव जैसे ज़िन्दगी को खा गया हैआज मन…See More
18 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"कुछ हाइकु : 1-मान-सम्मानपाखंडी प्रतिमानछद्म गुमान 2-हवा-हवाईसम्मानित चतुरचिड़िया…"
yesterday
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"हौसला अफजाई का बहुत शुक्रिया जनाब शेख़ शाजाद साहब ..."
yesterday
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"मान ले कहना तू मेरा उसका मत सम्मान कर lबेच दे ईमाँ जो अपना उसका मत सम्मान कर  जनाब तसदीक़ साहब…"
yesterday
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"देश वासियों नित रखो, निज भाषा सम्मान।स्वयं मान दोगे तभी, जग देगा सम्मान।। आदरणीय वासुदेव अग्रवाल…"
yesterday
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"बहुत आवश्यक सीख देती रचनाओं हेतु हार्दिक बधाई आदरणीय दयाराम मेथानी साहिब। दूसरी रचना में अधिक गेयता…"
yesterday
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"बहुत ही विश्लेषणात्मक, विचारोत्तेजक क्षणिका-युग्म-सृजन  हेतु हार्दिक बधाई आदरणीय नादिर ख़ान…"
yesterday
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-98
"गागर में सागर! वाह! जब यह सब कुछ, तो 'सम्मान' कटघरे में! बेहतरीन सृजन हेतु हार्दिक बधाई…"
yesterday

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service