For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Mohit mishra (mukt)
  • Male
  • allahabad,u.p
  • India
Share

Mohit mishra (mukt)'s Friends

  • V.M.''vrishty''
  • Rakshita Singh
  • vijay nikore
 

Mohit mishra (mukt)'s Page

Latest Activity

Sheikh Shahzad Usmani commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post मानव पंछी संवाद (अतुकांत )
"वाह। ग़ज़ब। बेहतरीन व उम्दा सार्थक उद्देश्यपूर्ण सृजन के लिए हार्दिक बधाइयां आदरणीय मोहित मिश्रा 'मुक्त' साहिब।"
Oct 22
Mohit mishra (mukt) posted a blog post

मानव पंछी संवाद (अतुकांत )

अचानक से,आकर मुझसे,इठलाता सा पंछी बोला।ईश्वर से मानव ने तो,उत्तम ज्ञान-दान था मोला।ऊपर हो तुम सब जीवों में,एक अकेली जात अनोखी,ऐसी क्या मजबूरी तुमको-ओट रहे होंठों की शोख़ी?और सताकर कमज़ोरों को-अंग तुम्हारा खिल जाता है,अ: तुम्हें क्या मिल जाता है?मैंने कहा:-कहो-खगगर्व से, किघर तुम्हारा-चल रहा है,छोटी सी-जगह में, पर-झगड़े का,टकराव का,ठौर नहीं है उसमें।डाली से दूर,ढलता सूरज,तरावट देता है-थकावट नहीं! क्योंकि-दम्भ नहीं है तुममेंधन-धर्म-सामर्थ्य का।नहीं तो देखो,प्रगतिशील मानव,फ़रेब का पुतला-बना बैठा…See More
Oct 22
Mohit mishra (mukt) posted a blog post

मानव पंछी संवाद (अतुकांत )

अचानक से,आकर मुझसे,इठलाता सा पंछी बोला।ईश्वर से मानव ने तो,उत्तम ज्ञान-दान था मोला।ऊपर हो तुम सब जीवों में,एक अकेली जात अनोखी,ऐसी क्या मजबूरी तुमको-ओट रहे होंठों की शोख़ी?और सताकर कमज़ोरों को-अंग तुम्हारा खिल जाता है,अ: तुम्हें क्या मिल जाता है?मैंने कहा:-कहो-खगगर्व से, किघर तुम्हारा-चल रहा है,छोटी सी-जगह में, पर-झगड़े का,टकराव का,ठौर नहीं है उसमें।डाली से दूर,ढलता सूरज,तरावट देता है-थकावट नहीं! क्योंकि-दम्भ नहीं है तुममेंधन-धर्म-सामर्थ्य का।नहीं तो देखो,प्रगतिशील मानव,फ़रेब का पुतला-बना बैठा…See More
Oct 20
Mohit mishra (mukt) commented on V.M.''vrishty'''s blog post कविता का जीवन
"प्रिय वृष्टि, ख़ूबसूरत और प्रभावशाली रचना के लिए बधाई"
Oct 11
Mohit mishra (mukt) and V.M.''vrishty'' are now friends
Oct 11
V.M.''vrishty'' commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post मेरे प्यार!
"मोहित जी! बहुत ही हृदयस्पर्शी प्रस्तुति। जान पड़ता है कि ये महज़ एक कविता नहीं,, स्वानुभव है आपका। पीड़ा की गहराई साफ झलक रही। "
Oct 10
V.M.''vrishty'' commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"मित्र मोहित जी! आत्मकेन्द्रण या अभिव्यक्ति,,,इस माध्यम से प्रेम की गहराइयों को बहुत ही सुंदर पंक्तियों में पिरोया है आपने। बहुत बहुत बधाई!"
Oct 10
Mohit mishra (mukt) commented on V.M.''vrishty'''s blog post शहीदों के नाम....
"बहुत ख़ूब ........बेमिसाल "
Oct 10
Samar kabeer commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post श्री अटल-मृत्यु संवाद:- कविता
"जनाब मोहित मिश्रा जी आदाब,अच्छी कविता हुई,बधाई स्वीकार करें ।"
Aug 18
Sheikh Shahzad Usmani commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post श्री अटल-मृत्यु संवाद:- कविता
"श्रद्धांजलि स्वरूप समसामयिक बढ़िया सृजन। इस मंच के काव्य-विधा/छंद संबंधित आलेख व आयोजनों के अध्ययन कर आप इसे बढ़िया छंदबद्ध भी कर सकते हैं। हार्दिक बधाइयां आदरणीय  मोहित मिश्र 'मुक्त' साहिब।"
Aug 18
Mohit mishra (mukt) posted a blog post

श्री अटल-मृत्यु संवाद:- कविता

कहा मौत ने श्री अटल से, वक़्त आ गया जाने का,स्वर्ग से आदेश मुझे है, आपको वहाँ लिवाने का।पर साधारण नर नहीं ,वह युगपुरूष की काया थी,गर है जीवन माया तो, वह एक उत्तम माया थी,थे कलयुग के भीष्म सरीखे दृढ़, अटल-विश्वासी ,जिनको पाकर धन्य हुए थे, हम सब भारतवासी ।हुआ दूसरी बार युगों में, पुनः अलौकिक तथ्य घटित,किया प्रतीक्षा नर-काया की स्वर्ग-यान वह रत्नजड़ित,बोले अटल, अटल मृत्यु से, एक दिवस तो रुकना होगा,आज स्वर्ग के नियमों को धरती के आगे झुकना होगा।क्योंकि है स्वाधीन दिवस, है राष्ट्र ख़ुशी से मतवाला,इसे…See More
Aug 17
Mohit mishra (mukt) commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"आदरणीय विजय सर,तहे दिल से आभार"
Aug 9
Mohit mishra (mukt) commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"आदरणीय आरिफ जी आदाब,आपके स्नेह का अत्यंत शुक्रिया"
Aug 9
vijay nikore commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"रचना अच्छी लगी। हार्दिक बधाई, मोहित जी।"
Aug 8
Mohammed Arif commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"प्रिय मोहित जी आदाब,                   बेहतरीन अभिव्यक्ति । हार्दिक बधाई स्वीकार करेंं ।"
Aug 8
Mohit mishra (mukt) commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)
"आदरणीय समर सर, हौसला बढ़ाने का हृदय से शुक्रिया"
Aug 8

Profile Information

Gender
Male
City State
allahabad
Native Place
allahabad univercity
Profession
student
About me
SIDHA SADA AUR SULJHA HUA

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:14pm on November 28, 2016,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा व  लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

Mohit mishra (mukt)'s Blog

मानव पंछी संवाद (अतुकांत )

चानक से,

कर मुझसे,

ठलाता सा पंछी बोला।

श्वर से मानव ने तो,

त्तम ज्ञान-दान था मोला।

पर हो तुम सब जीवों में,

क अकेली जात अनोखी,

सी क्या मजबूरी तुमको-

ट रहे होंठों की शोख़ी?

र सताकर कमज़ोरों को-

अंग तुम्हारा खिल जाता…

Continue

Posted on October 22, 2018 at 8:30am — 1 Comment

श्री अटल-मृत्यु संवाद:- कविता

कहा मौत ने श्री अटल से, वक़्त गया जाने का,

स्वर्ग से आदेश मुझे है, आपको वहाँ लिवाने का।

पर साधारण नर नहीं…

Continue

Posted on August 16, 2018 at 10:00pm — 2 Comments

आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति:-(छंदमुक्त कविता)

प्रेम का स्वरूप क्या है?

आत्मकेंद्रण या अभिव्यक्ति ?

असंभव सा है, इस प्रश्न का-

निष्कर्षतः एक समुचित उत्तर। 

प्रकृति और पुरुष ब्रह्म,

युग प्रेम के आदि प्रवर्तक,

आकाश सा उन्मुक्त-

स्वछंद पवन सा-

धरा से भी गंभीर उनका प्यार,

अभिव्यक्ति की अभिव्यंजना से दूर-

एकात्म में ही लीन दोनों तत्व ,

हो पृथक जिनका नहीं है अर्थ कोई,

चिर-मौन में हैं साधते वे सत्व ,

इसलिए मन को कभी आभास होता,

स्वरबद्ध करने की जरूरत है नहीं-

अपने…

Continue

Posted on August 5, 2018 at 2:12pm — 7 Comments

मेरे प्यार!

उस रात रह गया,

दिये की थरथराती लौ पर,

काँपता सुबकता हमारा प्यार

स्याह निशा की स्तब्धता-

थी छा गयी तेरे मेरे दरम्यान,

निगल लिया था अंधकार ने-

हमारे कितने किरण-पुंज,

अविरल अश्रु-प्रवाह के बीच,

थे ब्याकुल तुम, विक्षिप्त मैं ,

और साँसों की ऊष्णता से,

थी घुटती हवा हमारे आस-पास,

वेदना-संतप्त मस्तिष्क में ,

गुंजित थे तुम्हारे भीगे-भीगे शब्द,

जो डबडबाई आँखों समेत-

मुँह मोड़ कर तुमने कहा था ,

“यह मिलन आख़िरी…

Continue

Posted on July 17, 2018 at 11:00pm — 5 Comments

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ८४
"यूँ कर सकते हैं:- 'कुछ रह्म तो दिखा...."
1 hour ago
राज़ नवादवी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ८४
"जनाब, क्या रह्म की जगह 'करम' लफ्ज़ से बात बनेगी? कृपया बतलाएं. सादर"
2 hours ago
राज़ नवादवी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ८४
"आदरणीय समर कबीर साहब, आदाब. ग़ज़ल में आपकी शिरकत और इस्लाह का तहेदिल से शुक्रिया. बताइ गई भूल को दूर…"
2 hours ago
Manoj kumar Ahsaas commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post एक गीत मार्गदर्शन के निवेदन सहित: मनोज अहसास
"सादर आभार आदरणीय कबीर साहब"
2 hours ago
राज़ नवादवी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ८४
"आदरणीय समर कबीर साहब, आदाब. ग़ज़ल में आपकी शिरकत और इस्लाह का तहेदिल से शुक्रिया. बताए गए ऐब को दूर…"
2 hours ago
राज़ नवादवी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ८३
"आदरणीय समर कबीर साहब, आदाब. ग़ज़ल में आपकी शिरकत और हौसला अफज़ाई का तहेदिल से शुक्रिया. सादर. "
2 hours ago
Samar kabeer commented on Dayaram Methani's blog post ग़ज़ल: आइना बन सच सदा सबको दिखाता कौन है
"जनाब दयाराम मेठानी जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । ' काम मजहब का हुआ…"
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post खामियाजा ( लघु कथा )
"आ० समर कबीर साहब , बहुर -बहुत शुक्रिया "
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post खामियाजा ( लघु कथा )
"आ० शेख  शहजाद उस्मानी  साहब., बहुत-बहुत धन्यवाद "
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post खामियाजा ( लघु कथा )
"आ० सुरेन्द्र इंसान जी , आपका आभार i "
2 hours ago
सतविन्द्र कुमार राणा posted a blog post

हर ख़ुशी का इक ज़रिआ चाहिये- ग़ज़ल

2122 2122 212हर ख़ुशी का इक ज़रिआ चाहिए ठीक हो यह ध्यान पूरा चाहिए।दर्द को भी झेल ले जो खेल में दिल…See More
2 hours ago
Rahul Dangi posted blog posts
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service