For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Sunil Verma
Share

Sunil Verma's Friends

  • श्याम किशोर सिंह 'करीब'
  • KALPANA BHATT ('रौनक़')
  • प्रदीप नील वसिष्ठ
  • Rahila
  • सतविन्द्र कुमार
  • Sheikh Shahzad Usmani
  • pratibha pande
  • TEJ VEER SINGH
  • jyotsna Kapil
  • विनोद खनगवाल
  • kalpna mishra bajpai
  • मोहन बेगोवाल
  • Chandresh Kumar Chhatlani
  • Abid ali mansoori
  • rajesh kumari

Sunil Verma's Groups

 

!......स्वागतम्......!

Latest Activity

Mahendra Kumar commented on Sunil Verma's blog post शक्करपारे (लघुकथा) -सुनील वर्मी
"निश्चित ही ऐसे कर्तव्यनिष्ठ व्यक्ति शक्करपारे की तरह होते हैं. उम्दा लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए आ सुनील जी. सादर."
Jan 23
Sheikh Shahzad Usmani commented on Sunil Verma's blog post शक्करपारे (लघुकथा) -सुनील वर्मी
"लेखक नाम में वर्मा की जगह ' वर्मी' टंकित हो गया है।"
Jan 21
Sheikh Shahzad Usmani commented on Sunil Verma's blog post शक्करपारे (लघुकथा) -सुनील वर्मी
"वाह। बेहतरीन उम्दा प्रस्तुति के लिए तहे दिल से बहुत-बहुत मुबारकबाद मुहतरम जनाब सुनील वर्मा साहिब। बुखार से पीड़ित बच्ची को अटैंड करने के लिए उसके पास उसकी मां है ही। जन्म लेने वाले बच्चे और जच्चा-बच्चा दोनों के प्रति अपने दायित्व निभाते…"
Jan 21
Sunil Verma posted a blog post

शक्करपारे (लघुकथा) -सुनील वर्मी

"हैलो, भैया यहाँ मूर्ति चौक पर एक भयानक एक्सीडेंट हो गया है| आप जल्दी आईये|" शहर की आपातकालीन सेवा के नम्बर पर एक फोन आया|संबंधित निर्देश मिलते ही चालक ने एंबुलेंस स्टार्ट की, तभी उसका मोबाईल बजा|"सुनो, मुनिया को बहुत तेज़ बुखार है|" फोन उठाने पर दूसरी तरफ से उसकी पत्नी का स्वर आया|"अभी रूको, मुझे थोड़ा समय लगेगा| एक एमरजेंसी है, तुम तब तक मुनिया के सिर पर ठंडे पानी की पट्टी करो| मैं समय मिलते ही आता हूँ|" फोन रखकर उसने गाड़ी को कुछ आगे बढ़ाया ही था कि पास बैठे सहायक ने कहा "विभाग से एक और फोन…See More
Jan 21
Sunil Verma replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-31 (विषय: फ़रिश्ते)
"न जाने क्यूँ मुझे उम्मीद थी कि आपके द्वारा मुझसे यह सवाल पूछा जायेगा| इसका अर्थ है कि मैं सही दिशा में हूँ, मुझे भी वह बात खटकी जो आपको भी कथा में महसूस हुई | सच कहूँ तो मैनें काफी परिश्रम किया था यह 'कनेक्शन' बनाने में..मगर यह फिर भी बन…"
Oct 30, 2017
Mohammed Arif commented on Sunil Verma's blog post जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा
"आदरणीय सुनील वर्मा जी आदाब, सशक्त और बेहतरीन कथानक । हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।"
Sep 19, 2017
अलका 'कृष्णांशी' commented on Sunil Verma's blog post जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा
"आदरणीय सुनील  वर्मा  जी, सुन्दर प्रस्तुति  बहुत बधाई ! सादर "
Sep 18, 2017
Samar kabeer commented on Sunil Verma's blog post जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा
"जनाब सुनील वर्मा साहिब आदाब,हमेशा की तरह बहुत उम्दा लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर दिल से बधाई स्वीकार करें ।"
Sep 18, 2017
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on Sunil Verma's blog post जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा
"बढ़िया लघुकथा कही है आपने आदरणीय सुनील भैया | विषय भी नया है बहुत बहुत बधाई |"
Sep 18, 2017
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Sunil Verma's blog post जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा
"चालक ने 'रियर व्यू मिरर' को सही करते हुए कहा "भाई, इस गाड़ी में इसका 'विश्वास' लेटा है| मुझे डर है कि कहीं बिना जरूरत के सायरन बजाया तो वह न मर जाये|" वाह वाह भाई सुनील जी,वाह बढ़िया लघुकथा कहीं।बहुत उम्दा।बधाई लीजिये"
Sep 18, 2017
Sunil Verma posted a blog post

जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा

"सुन न यार..क्यूँ इस ट्रेफिक जाम में पसीने बहा रहा है? सायरन ऑन कर और जगह बनाता चल.." खाली एंबुलेस में चालक के पास वाली सीट पर बैठे उसके दोस्त ने समझाया|"नही भाई..पाँच दस मिनिट देर से ही सही| हमें किस बात की जल्दबाजी है..? गाड़ी में कोई मरीज थोड़े ही लेटा हुआ है, खाली ही तो है|" चालक ने अपने दोस्त से कहा|"अररे तो बाहर लोगों को थोड़े ही पता है कि पीछे मरीज लेटा है या नही" दोस्त ने उसे अपना अतिरिक्त ज्ञान दिया|असर हुआ और सामने रेंगते हुए ट्रेफिक को देखकर चालक का हाथ सायरन ऑन करने के लिए आगे बढ़ा…See More
Sep 18, 2017

Profile Information

Gender
Male
City State
Jaipur
Native Place
Jaipur
Profession
Business
About me
Businessmen

Sunil Verma's Photos

  • Add Photos
  • View All

Sunil Verma's Blog

शक्करपारे (लघुकथा) -सुनील वर्मी

"हैलो, भैया यहाँ मूर्ति चौक पर एक भयानक एक्सीडेंट हो गया है| आप जल्दी आईये|" शहर की आपातकालीन सेवा के नम्बर पर एक फोन आया|

संबंधित निर्देश मिलते ही चालक ने एंबुलेंस स्टार्ट की, तभी उसका मोबाईल बजा|

"सुनो, मुनिया को बहुत तेज़ बुखार है|" फोन उठाने पर दूसरी तरफ से उसकी पत्नी का स्वर आया|

"अभी रूको, मुझे थोड़ा समय लगेगा| एक एमरजेंसी है, तुम तब तक मुनिया के सिर पर ठंडे पानी की पट्टी करो| मैं समय मिलते ही आता हूँ|"

फोन रखकर उसने गाड़ी को कुछ आगे बढ़ाया ही था कि पास बैठे सहायक ने…

Continue

Posted on January 21, 2018 at 10:14am — 3 Comments

जड़ें (लघुकथा) -सुनील वर्मा

"सुन न यार..क्यूँ इस ट्रेफिक जाम में पसीने बहा रहा है? सायरन ऑन कर और जगह बनाता चल.." खाली एंबुलेस में चालक के पास वाली सीट पर बैठे उसके दोस्त ने समझाया|



"नही भाई..पाँच दस मिनिट देर से ही सही| हमें किस बात की जल्दबाजी है..? गाड़ी में कोई मरीज थोड़े ही लेटा हुआ है, खाली ही तो है|" चालक ने अपने दोस्त से कहा|



"अररे तो बाहर लोगों को थोड़े ही पता है कि पीछे मरीज लेटा है या नही" दोस्त ने उसे अपना अतिरिक्त ज्ञान दिया|



असर हुआ और सामने रेंगते हुए ट्रेफिक को देखकर चालक… Continue

Posted on September 17, 2017 at 9:50pm — 8 Comments

भरोसा (लघुकथा) -सुनील वर्मा

टूटी सड़क| भारी यातायात| साफ सुथरे कपड़े पहने हुए एक युवक बार बार अपने गले में बँधी टाई सही कर रहा था| तभी सामने ने ऑटो आता देख उसने हाथ देकर उसे रोका|

ऑटो में बैठते ही युवक ने चालक को अपने गंतव्य स्थान के बारे में बताया और ज़ेब से फोन निकालकर किसी से बातें करनी शुरू कर दी| देश में बढ़ती महँगाई, बेरोज़गारी और धार्मिक अराजकता पर बातें करता हुआ वह सरकार को कोस ही रहा था कि ऑटो चालक ने अब तक लगभग दो सौ मीटर की दूरी तय करने के बाद आगे बने एक पेट्रोल पंप पर अपना ऑटो रोका|

"साहब पेट्रोल… Continue

Posted on July 19, 2017 at 9:20am — 5 Comments

कमज़ोर आदमी (लघुकथा) -सुनील वर्मा

बेहद कमजोरी के बावजूद सुगणा ने कंधो के सहारे जोर लगाकर नीचे सरक आये अपने सिर को तकिये पर टिकाया| अधखुली आँखों से खुद को देखा| रक्तस्राव की अधिकता के कारण हर बार वह पहले से ज्यादा अशक्त होती जा रही थी| तीन बार की ज़चगी के बाद अब उसमें और हिम्मत नही बची थी| बात करने पर उसके पति ने उसकी बात मान भी ली थी, मगर शर्त थी की आवश्यक ऑपरेशन वह ही करवायेगी| आज उसी ऑपरेशन के बाद वह बिस्तर पर पड़ी थी| शरीर पहले से ही सुन्न था, अब दिमाग भी सुन्न हो चुका था|

गहरी फूँक छोड़ते हुए उसने…

Continue

Posted on July 15, 2017 at 8:00am — 6 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 8:06pm on December 17, 2015,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय सुनील वर्मा जी.
सादर अभिवादन !
मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी लघुकथा "तृप्ति" को "महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना" सम्मान के रूप मे सम्मानित किया गया है, तथा आप की छाया चित्र को ओ बी ओ मुख्य पृष्ठ पर स्थान दिया गया है | इस शानदार उपलब्धि पर बधाई स्वीकार करे |

आपको प्रसस्ति पत्र शीघ्र उपलब्ध करा दिया जायेगा, इस निमित कृपया आप अपना पत्राचार का पता व फ़ोन नंबर admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध कराना चाहेंगे | मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई हो |
शुभकामनाओं सहित
आपका
गणेश जी "बागी
संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक 
ओपन बुक्स ऑनलाइन

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

रामबली गुप्ता commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post दबे  पाप  ऊपर  जो  आने  लगे  हैं- गजल
"भाई लक्ष्मण जी ग़ज़ल पर बढियाँ प्रयास हुआ है। हार्दिक बधाई स्वीकार करें। समर भाई साहब की बातों का।…"
27 minutes ago
रामबली गुप्ता commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल...न जाने कैसे गुजरेगी क़यामत रात भारी है-बृजेश कुमार 'ब्रज'
"ग़ज़ल पर बढियाँ प्रयास हुआ है भाई बृजेश कुमार जी। हार्दिक बधाई स्वीकारें।सादर"
31 minutes ago
रामबली गुप्ता commented on SHARAD SINGH "VINOD"'s blog post 'मधुर' जी की मधुर स्मृति .......
"आदरणीय शरद सिंह जी रचना पर प्रयास के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें। बताना चाहूँगा कि आपकी रचना में…"
52 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" posted a blog post

इसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता हूँ

1222 1222 1222 1222ज़मीन-ओ-आसमाँ के दरमियाँ रस्ता बनाता हूँइसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता…See More
1 hour ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीय मोहम्मद आरिफ साहब नमस्ते                 …"
1 hour ago
Mohammed Arif commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी आदाब,                    …"
2 hours ago
Mohammed Arif commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीया कल्पना भट्ट जी आदाब,                    …"
2 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan posted a blog post

ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )

(मफाईलुन-मफाईलुन-फऊलन )जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है| ये दिल फिर उसकी हसरत कर रहा है |लगाए ज़ख़्म…See More
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत आभार आदरणीय बृजेश कुमार जी ।"
4 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत शुक्रिया आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब । संशोधन कर लिया है ।"
4 hours ago
Mohammed Arif commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर
"खेल सारे, हर तमाशा छोड़ करसब को जाना है ये मेला छोड़ कर वाह! वाह!!  बहुत ख़ूब ! बहुत ख़ूब! …"
4 hours ago
पीयूष कुमार द्विवेदी posted blog posts
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service