For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

dandpani nahak
Share

Dandpani nahak's Friends

  • Mohammed Arif
  • Samar kabeer
  • Harash Mahajan

dandpani nahak's Groups

 

dandpani nahak's Page

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 87 in the group चित्र से काव्य तक
"कुण्डलिया पानी कि ये निर्दोषिता,मन सबका ललचाय उस पर निश्छल बचपना,बिल्कुल रहा न जाय बिल्कुल रहा न जाय,किन्तु नल है सरकारी कभी हो जाय बन्द, कभी मारे पिचकारी बरस सत्तर बीत गए,बीत गयी जी जवानी अब भी नहीं मिलते, हैं सबको साफ़ पानी दण्डपाणि…"
Jul 21
dandpani nahak joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
Jul 21
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-96
"ना छुट्टियाँ न गाँव, नानी है अब कहाँ बात वो पुरानी है हादसे है जहमुरियत भी है और उस पर भी हुक्मरानी है हाय उन नीमबाज़ आँखों में रात है,नींद है,कहानी है अब वो दीवार न रही चौथी बाकि कुछ जख्म है निशानी है उनको हक़ कहें इमानदारी पे जिनको तज़र्बा ए…"
Jun 27
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-96
"तेरी गैरत की झील सूख गई मेरी आँखों में अब भी पानी है वाह !क्या बात है! आदरणीय समर कबीर साहब बहुत बधाई"
Jun 27
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"यूँ हमेशा दूसरों के दिल में न बुरा देखो देखना ही है तो अक्स खुद का अपना देखो टपकती याद टुटा दिल गुमसुम नींदे पर अब भी कहते हो फिर से एक सपना देखो एक तुम ही तो नहीं हो गगन से उतरे हुए 'हो मय्यसर तो कभी घूम के दुनिया देखो' देख लो की तरह…"
May 25
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल : 2122 2122 2122
"आ. दण्डपाणि जी, हार्दिक बधाई ।"
Mar 25
surender insan commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल : 2122 2122 2122
"आद. दण्डपाणि जी सादर नमन।वाह अच्छा प्रयास है आपका बधाई। मोहतरम समर साहब की सलाह पर गौर करे। स्थापित शायरों का कलाम पढ़े। भाषा का ख्याल रखते हुए वाक्य रचना करे। यही पटल पे बहुत से लेख है ग़ज़ल की बाबत उन्हें पढ़े। यक़ीनन आप और अच्छा कहेंगे। सादर जी।"
Mar 23
dandpani nahak left a comment for Nilesh Shevgaonkar
"आदरणीय नीलेश सर प्रणाम बहुत शुक्रिया"
Mar 22
dandpani nahak left a comment for Mohammed Arif
"आदरणीय आरिफ़ मोहम्मद साहब प्रणाम बहुत शुक्रिया आपकी सलाह पर तुरंत अमल होगा"
Mar 22
dandpani nahak left a comment for Samar kabeer
"आदरणीय समर कबीर महोदय प्रणाम आपका आदेश सर माथे पर आपका बहुत बहुत शुक्रिया"
Mar 22
Nilesh Shevgaonkar commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल : 2122 2122 2122
"अच्छा प्रयास है आ. दण्डपाणी जी बहर यानी लय का अभ्यास/ अध्ययन कीजिये सादर "
Mar 22
Mohammed Arif commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल : 2122 2122 2122
"आदरणीय दंडपाणि जी आदाब,                         ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है । आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब की इस्लाह का तत्काल प्रभाव से संज्ञान लें । प्रयास हेतु हार्दिक बधाई ।"
Mar 22
Samar kabeer commented on dandpani nahak's blog post ग़ज़ल : 2122 2122 2122
"जनाब दण्डपाणि नाहक़ जी आदाब,  बह्र के साथ ग़ज़ल के शिल्प और व्याकरण पर अभी बहुत मिहनत की ज़रूरत है,इसके लिए पुराने शायरों का कलाम पढ़ें और ओबीओ पटल पर मौजूद ग़ज़लों और आलेखों का अध्यन करें । इस प्रयास हेतु बधाई स्वीकार करें ।"
Mar 22
dandpani nahak posted a blog post

ग़ज़ल : 2122 2122 2122

एक दुजे के अब हबीब नहीं रहे हैं लोकतंत्र औ हम करीब नहीं रहे हैं फसल की वाज़िब मिले क़ीमत ऐसी तो हम किसानों के नसीब नहीं रहें हैं खत्म करके सब गरीबों को मुल्क से घोषणा कर दो गरीब नहीं रहे हैं हर ज़ुल्म हमने सहे हैं मगर फिर भी यूँ कभी भी बेतर्तीब नहीं रहें हैं मंदिर मस्जिद एक साथ न हो कभी भी इस क़द्र तंग तहज़ीब नहीं रहे हैं दण्डपाणि नाहकमौलिक एवम् अप्रकाशितSee More
Mar 22
Samar kabeer and dandpani nahak are now friends
Mar 21
Samar kabeer commented on dandpani nahak's blog post कविता जीवन का समकोण त्रिभुज
"जनाब नाहक़ साहिब आदाब,सुंदर प्रस्तुति हेतु बधाई स्वीकार करें ।"
Mar 6

Profile Information

Gender
Male
City State
arang
Native Place
arang
Profession
service

Dandpani nahak's Blog

ग़ज़ल : 2122 2122 2122

एक दुजे के अब हबीब नहीं रहे हैं
लोकतंत्र औ हम करीब नहीं रहे हैं

फसल की वाज़िब मिले क़ीमत ऐसी तो
हम किसानों के नसीब नहीं रहें हैं

खत्म करके सब गरीबों को मुल्क से
घोषणा कर दो गरीब नहीं रहे हैं

हर ज़ुल्म हमने सहे हैं मगर फिर भी
यूँ कभी भी बेतर्तीब नहीं रहें हैं

मंदिर मस्जिद एक साथ न हो कभी भी
इस क़द्र तंग तहज़ीब नहीं रहे हैं


दण्डपाणि नाहक
मौलिक एवम् अप्रकाशित

Posted on March 21, 2018 at 8:00pm — 5 Comments

कविता जीवन का समकोण त्रिभुज

जीवन का समकोण त्रिभुज
अनिश्चितताओं के दो न्यून कोणों से
कुछ नहीं ज्यादा
बड़ी मश्शक्कत के बाद भी
योग एक सरल रेखा
बहुत संभावनाओं के बावजूद
जिन्दा रहने की संभाव्यता
आधा-आधा
हाँ, दुःख और सुख का
पूर्ण वर्ग
जरूर बीजगणित का सूत्र है
क्या मृत्यु ही जीवन का
एकमात्र सत्य है

दण्डपाणि नाहक

मौलिक एवम् अप्रकाशित

Posted on March 5, 2018 at 7:32pm — 3 Comments

ग़ज़ल 122 122 122 122

हजारों किस्म से नुमायाँ हुए हैं
जहाँ से चले थे वहीँ पे खड़े हैं


निगाहें चुराना उन्होंने सिखाया
हमें भी नज़ारे कहाँ देखनें हैं


जिन्होंने कभी लूटना नाहिं छोड़ा
उन्हें क्या बतायें उन्ही के धड़े हैं


तुम्हारा हमारा यहाँ क्या बचा है
चलो की यहाँ से रस्ते नापने हैं


हमें जी हजूरी नहीं 'शौक' जाओ
तुम्हारे लिये ही नहीं हम बनें हैं


दण्डपाणि नाहक 'शौक'

मौलिक एवम् अप्रकाशित

Posted on February 5, 2018 at 5:01pm — 1 Comment

ग़ज़ल 2212 2212 212

हमको ज़िन्दगी से शिक् वा बहुत है
दीगर ये बात है की मिला बहुत है

एक ही कश्ती के ऊपर सवार हैं
दर्मियाँ हमारे फासला बहुत है

दिल जो ये मेरा कुन्दन हुआ है अब
मालूम क्या तुम्हे जला बहुत है

अच्छा चलो हो जाय हम होने को
अब इस में मगर ढकोसला बहुत है

जो हो मन्दिर मस्जिद से फुरसत
मेरे मुल्क में सच मसला बहुत है

मौलिक एवम् अप्रकाशित

Posted on February 3, 2018 at 2:41pm — 4 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 8:06pm on December 15, 2017, dandpani nahak said…
122 122 122 122
हजारों किस्म से नुमायाँ हुए हैं
जहाँ से चले थे वहीँ पे खड़े हैं

निगाहें चुराना उन्होंने सिखाया
हमें भी नज़ारे कहाँ देखनें हैं

जिन्होनें हमें लूटना नाहिं छोड़ा
उन्हें क्या बताएं उन्हीं के धड़े हैं

तुम्हारा हमारा यहाँ क्या बचा है
चलो की यहाँ से रस्ते नापने हैं

हमें जी हजूरी नहीं 'शौक' जाओ
तुम्हारे लिए ही नहीं हम बनें हैं

दण्डपाणि नाहक 'शौक'

मौलिक अप्रकाशित
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

TEJ VEER SINGH replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"स्वाधीनता दिवस की 72वीं सालगिरह की पावन बेला पर आप सभी ओबीओ परिवारजन को तहे दिल से बहुत-बहुत…"
19 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Sushil Sarna's blog post गोधूलि की बेला में (लघु रचना ) ....
"हार्दिक बधाई आदरणीय सुशील सरना जी।बेहतरीन रचना।"
22 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(उजाले..लुभाने लगे हैं)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मनन कुमार जी।बेहतरीन गज़ल। कदम से कदम हम मिलाके चले थे पहुँचने में क्यूँ फिर…"
24 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय नवीन मणि जी।बेहतरीन समसामयिक गज़ल। मौजूदा हालात पर बढ़िया कटाक्ष। है पापी पेट से…"
27 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post चक्रव्यूह - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय नीलम जी।"
33 minutes ago
Dr. Vijai Shanker commented on Sushil Sarna's blog post गोधूलि की बेला में (लघु रचना ) ....
"आदरणीय सुशील सरना जी , बधाई , इस सुन्दर , सांकेतिक रचना के लिए , सादर।"
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'तोप, बारूद और तोपची' (लघुकथा)
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी , अच्छी लघु-कथा है. शीर्षक भी बहुत सही और सटीक है। हर कोई अपने हालात…"
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post मार्केटिंग - डॉo विजय शंकर
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी , आभार, आपने बड़े मनोयोग से रचना का पाठ किया और ुटण३ ही मनोयोग से उसकी…"
1 hour ago
Manan Kumar singh posted a blog post

गजल(उजाले..लुभाने लगे हैं)

122 122 122 122उजाले हमें फिर लुभाने लगे हैंनया गीत हम आज गाने लगे हैं।1बढ़े जो अँधेरे, सताने लगे…See More
2 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

1222 1222 1222 1222 बड़ी उम्मीद थी उनसे वतन को शाद रक्खेंगे ।खबर क्या थी चमन में वो सितम आबाद…See More
2 hours ago
नादिर ख़ान posted a blog post

झूम के देखो सावन आया ....

खुशियों की सौगातें लायाझूम के देखो सावन आया चंचल सोख़ हवा इतराईबारिश की बौछारें लाईमहक उठा अब मन का…See More
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"स्वाधीनता दिवस की 72वीं सालगिरह की पावन बेला पर आप सभी ओबीओ परिवारजन को तहे दिल से बहुत-बहुत…"
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service