For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

लो आ गया सावन ( कविता)

लो आ गया फिर से सावन 

संग लाया यादें मन भावन 

नदी का किनारा अमरुद का पेड़,

पत्थर उठाकर तुम्हारा करना खेल 

पानी उछालना , फिर हंस देना 

अमरुद तोड़ खुद ही खा लेना 

थी अठखेलियाँ वो जो तुम्हारी 

बस गयी तब से साँसों में हमारी

उछलते छीटों  से खुद को भी भिगौना 

गीले होकर रूठ कर बैठ जाना 

कीचड़ लगाकर फिर भाग जाना 

पेड़ की आड़ से फिर मुस्कुराना 

शैतान सी हंसी , मस्ती की इच्छा 

आँखों में प्यार , लबों पर गुस्सा 

याद आतीं है हर वो बातें 

भले बीत गयीं है कितनी ही रातें 

बदला समय , बदल गयी है दुनिया 

चल दिए तुम बढाकर जो दूरियाँ 

आज भी नदी वहीँ बहती होगी 

करीब हो तुम उसके तुम्हे देखती होगी  

उन्ही बहती धाराओं से पूछलो 

खुद अपनी यादों से ही पूछलो 

लो फिर आ गया है सावन 

दिल में प्यार जगा रहा है सावन |

मौलिक एवं अप्रकाशित 

Views: 141

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 20, 2017 at 11:27pm
Ji Adarniya Giriraj ji prayas karungi is rachna ko sudhar sakun . Sadar

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on July 20, 2017 at 11:37am

आदरणीया कल्प्ना जी , गीत पर अच्छा प्रयास हुआ है , पंक्तियों मे कलों का निर्वहन न हो पाने से गेयता मे कमी है -- त्रिकल के बाद त्रिकल शब्द लेना चाहिये और द्विकल के बाद द्विकल या चौकल को गेयता सहीं आती है --

Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 18, 2017 at 7:30pm
Adab aadarniya samar bhai ji ..sadar dhanywad . Ji edit kar dungi. Maafi chahti hoo kuch Vyastata ke chalte patal par nahi aa payi thee par parso lagbhag sabhi posts padhi aur pratikriya dene ka prayas kiya hai. Bhai ji jis nadi ka chitran kiya hai uske aage ek jharna bhi hai .. par aap sahi keh rahe hai upar jab nadi ka zikr hua hai to niche bhi wahi hona chahiye. Kuch samay bitiya sasural se mayke aayi hui thee . Phir uski pratham shadi ki saaligarh me vyast ho gayi thee. Prayas karungi apni upasthiti darz karva saku patal par niyamit taur par. Sadar.
Comment by narendrasinh chauhan on July 18, 2017 at 4:07pm

 सुन्दर रचना 

Comment by Samar kabeer on July 18, 2017 at 2:56pm
बहना कल्पना भट्ट जी आदाब,सावन की यादों में डूबी अच्छी कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।
10वीं पंक्ति में 'गिले' को "गीले" कर लें ।
16वीं पंक्ति में 'बित' को "बीत" कर लें ।
एक बात और कविता की शुरुआत में नदी का ज़िक्र है, और अंत में वो झरना कैसे हो गई,देखियेगा ।
एक बात ये कि अभी तक आपने अपनी पिछली रचना पर आई प्रतिक्रयाओं के जवाब भी नहीं दिये ?
Comment by Mohammed Arif on July 18, 2017 at 7:49am
आदरणीया कल्पना भट्ट जी आदाब, सावन को याद करते सहज अभिव्यक्ति की आपने । बहुत ही सहज । हार्दिक बधाई स्वीकार करें । कुछ वर्तनीगत अशुद्धियाँ हैं ।
Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on July 17, 2017 at 10:00pm
अच्छी कविता की कोशिश हुई है..बधाई
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 17, 2017 at 8:42pm
Dhanywad AAdarniya Mohit ji
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on July 17, 2017 at 8:41pm
Dhanywad AAdarniya Mohit ji
Comment by Tasdiq Ahmed Khan on July 17, 2017 at 8:31pm
मुहतर्मा कल्पना साहिबा ,सावन के रंगों को आपने अच्छा उकेरा है कविता में ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमायें

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer commented on santosh khirwadkar's blog post हुस्न को ......संतोष
"जनाब संतोष जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है,बधाई स्वीकार करें ।"
25 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Dr. Vijai Shanker's blog post उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर
"शीर्षक सुझाव : //कृत्रिम उपलब्धियां//"
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Chandresh Kumar Chhatlani's blog post पराजित हिन्द (लघुकथा)
"हालांकि प्रथम पात्र /जी हुजूर/, /जी-जी हुजूर/कहता हुआ आदरपूर्वक खड़े हुए ही बात कर रहा है, फिर भी…"
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Dr. Vijai Shanker's blog post उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर
"बेहतरीन व्यंग्यात्मक सृजन। हार्दिक बधाई आदरणीय डॉ. विजय शंकर जी।"
2 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post सत्यमेव् जयते - डॉo विजय शंकर
"आभार , आदरणीय लक्ष्मण धामी जी , सादर।"
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Chandresh Kumar Chhatlani's blog post पराजित हिन्द (लघुकथा)
"वाह। शीर्षक और उस गरिमामय अभिवादन/नारे 'जय हिन्द' के साथ आज के सत्य को पिरोकर बेहतरीन…"
2 hours ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल -कहीं वही तो’ नहीं वो बशर दिल-ओ-दिलदार
"सादर आभार आ सलीम जी "
3 hours ago
SALIM RAZA REWA commented on dr neelam mahendra's blog post क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें
"आ. नीलम जी, ख़ूबसूरत लेख के लिए बधाई."
3 hours ago
Dr. Vijai Shanker posted a blog post

उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर

उप-शीर्षक -आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस से आर्टिफिशल हँसी तक।प्रकृति ,अनजान ,पाषाण ,ज्ञानविज्ञान ,गूगल…See More
3 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सवालों का पंछी सताता बहुत है-गीत
"आदरणीय लक्ष्मण सर बहुत बहुत आभार"
3 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सवालों का पंछी सताता बहुत है-गीत
"आदरणीय बाऊजी आपने सही ध्यान धराया है, सादर प्रणाम"
3 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post तब सिवा परमेश्वर के औ'र जला है कौन-----गज़ल, पंकज मिश्र
"आदरणीय आशुतोष सर सादर आभार"
3 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service