For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ख़्वाब के साथ ...

न जाने कब
मैं किसी
अजनबी गंध में
समाहित हो गयी

न जाने कब
कोई अजनबी
इक गंध सा
मुझ में समाहित हो गया

न जाने
कितनी कबाओं को उतार
मैं + तू = हम
के पैरहन में
गुम हो गए


और गुम हो गए
सारे
अजनबी मोड़
हकीकत की चुभन को भूल
ख़्वाबों की धुंध में
कभी अलग न होने के
ख़्वाब के साथ

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 58

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sushil Sarna on January 27, 2018 at 7:54pm

आदरणीय  vijay nikore  जी ,  सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार।

Comment by vijay nikore on January 18, 2018 at 8:39am

आपकी रचना सदैव खुशी न दे, ऐसा हुआ नही। हार्दिक बधाई, सुशील जी।

Comment by Sushil Sarna on January 16, 2018 at 6:22pm

आदरणीय समर कबीर साहिब , आदाब ... सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार।

Comment by Sushil Sarna on January 16, 2018 at 6:22pm

आदरणीय मो.आरिफ साहिब, आदाब ... सृजन पर आपकी मधुर प्रशंसा का दिल से आभार।

Comment by Samar kabeer on January 16, 2018 at 2:14pm

जनाब सुशील सरना जी आदाब,बहुत उम्दा कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।

Comment by Mohammed Arif on January 16, 2018 at 11:54am

वाह! वाह!! बहुत ही बढ़िया रचना आदरणीय सुशील सरना जी । हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Shyam Narain Verma commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"उपदेश परक लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई l सादर"
7 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on पीयूष कुमार द्विवेदी's blog post सरसी छंद-२
"क्या बात है, हार्दिक शुभकामनाएं l सादर"
17 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर
"वाह i बहुत सुन्दर, हार्दिक बधाई l सादर"
19 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )
"बहूत उम्दा हार्दिक बधाई l सादर"
22 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on शिज्जु "शकूर"'s blog post इसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता हूँ
"क्या बात है, बहुत उम्दा हार्दिक बधाई l सादर"
24 minutes ago
पीयूष कुमार द्विवेदी commented on पीयूष कुमार द्विवेदी's blog post सरसी छंद-२
"हार्दिक आभार आदरणीय"
26 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"बहूत खूब, हार्दिक बधाई l सादर"
26 minutes ago
Shyam Narain Verma commented on Neelam Upadhyaya's blog post कुछ हाइकु
"वसंत ऋतु का सुंदर चित्रण है, हार्दिक शुभकामनाएं l सादर"
28 minutes ago
Neelam Upadhyaya posted a blog post

कुछ हाइकु

झूमी सरसोंधरती इतरायीफगुनाहट बसंत आयाओढ़ पीली चुनरखेत बौराया बौर आम केफैल गयी सुगंधझूमा बसंत टेसू…See More
1 hour ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर posted an event

ओबीओ साहित्योत्सव भोपाल 2018 at महादेवी वर्मा कक्ष, हिंदी भवन

April 15, 2018 from 10:30am to 7pm
आप सादर आमंत्रित हैं.See More
1 hour ago
Mohammed Arif and KALPANA BHATT ('रौनक़') are now friends
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"दिली आभार आदरणीय सुरेंद्रनाथ जी । "
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service