For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

गुलज़ार प्यार का

गुलज़ार प्यार का

हर रात  उसी ग़मरात का  ज़िक्र  न  कर

नातुवां  ग़म को अपने  तू  गैरअहम  कर

ज़िन्दगी  में  माना गर्द-ए-सफ़र  है  बहुत

ग़म-ए-पिनहाँ का रोज़ रंज-ओ-ग़म न कर

यूँ खामोश न रह,  उदास और न हो

वादा यह पक्का कि लौट आऊँगा मैं

दिन में  सही या रातों में तुम्हारी.. या

आ कर मुस्कराऊँगा ख़्वाबों में कभी

गालों पर मेरे छुअन तुम्हारी गुलअंदाम

मोहब्बत से तुम्हारी  ज़रखेज़ रहा दिल

“फिर मिलने की” बाकी हो आस  जहाँ

छोड़ जाने का फिर यह इलज़ाम क्यूँ हो

गुलशन की मेरे  गुलशन-आरा रही हो

बिछोह में इश्क  फिर बदनाम क्यूँ हो

प्यार को जिसके मिला हो प्यार तुम्हारा

मोहब्बत में वहाँ कोई मुफ़्लिसी क्यूँ हो

मिलते ही खिल जाती हो देख तब्बसुम मेरा

मैं भी तलबगार हूँ हमेशा खुशी का तुम्हारी

जब तक है तुमको  मुझ पर एतिबार इतना

दिल तेरा मायूस क्यूँ हो, गर्दिशज़द: क्यूँ हो

                       ------

 ---  विजय निकोर

(मौलिक व अप्रकाशित}

              -----

गुलज़ार         = बाग, वाटिका

ग़मरात          = मुसीबत, कष्ट

नातुवाँ           = अशक्त, निर्बल

ग़ैरअहम कर   = महत्व्हीन

गर्द-ए-सफ़र    = यात्रा की थकान

ग़म-ए-पिनहाँ   = प्रेम की व्यथा

रंज-ओ-गम     = रंज और ग़म

गुलज़ार          = बाग

गुलअंदाम       = फूल जैसा कोमल

ज़रखेज़          = अच्छी उपजाऊ भूमि

गुलशन-आरा  = माली

मुफ़्लिसी         = गरीबी

तब्बसुम          = मुस्कराहट

तलबगार         = अभिलाषी

गर्दिशज़द:      = मुसीबत का मारा, काल चक्र ग्रस्त

Views: 99

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by vijay nikore on May 9, 2018 at 7:44am

आपका हार्दिक आभार, आदरणीय लक्ष्मण जी

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on May 9, 2018 at 6:04am

आ. भाई विजय जी, सुंदर रचना हुई है। हार्दिक बधाई ।

Comment by vijay nikore on April 25, 2018 at 2:21pm

आपका हार्दिक आभार, आदरणीय आशुतोष जी

Comment by vijay nikore on April 25, 2018 at 2:18pm

आपका हार्दिक आभार, आदरणीय शेख शहजाद उस्मानी जी

Comment by Dr Ashutosh Mishra on April 23, 2018 at 12:12pm

आदरणीय विजय सर ..आपकी इस रचना के साथ उर्दू के शब्दों के अर्थ से इस दिलकश रचना का लुत्फ़ उठाने के साथ शब्दकोष में बृद्धि का सुअवसर प्राप्त हुआ. रचना पर हार्दिक बधाई स्वीकार करें सादर प्रणाम के साथ 

Comment by Sheikh Shahzad Usmani on April 21, 2018 at 4:14pm

कठिन शब्दों के अर्थ सहित बेहतरीन  बहुआयामी अर्थ लिए सार्थक रोमांटिक सृजन के लिए तहे दिल से बहुत-बहुत शुक्रिया मुहतरम जनाब विजय निकोरे साहिब।

Comment by vijay nikore on April 21, 2018 at 12:50pm

आदरणीय भाई समर जी, रचना की सराहना के लिए और मार्ग-दर्शन के लिए दिल से आभार। संशोधन कर दिए हैं ... बहुत-बहुत धन्यवाद।

Comment by Samar kabeer on April 21, 2018 at 10:59am

जनाब भाई विजय निकोर जी आदाब,बहुत उम्दा रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।

'गमो रंज' की सहीह तरकीब है,"रंज-ओ-ग़म"

'वायदा' कोई शब्द ही नहीं है,सहीह शब्द है "वादा"

'हमेशां' को "हमेशा" कर लें ।

'ऐतबार' को "एतिबार" कर लें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"चंद लोगों की सियासत के नतीजे में यहाँहोने वाला है बहुत ख़ून ख़राबा देखो.... बेहतरीन  गिरह भी…"
22 seconds ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"बहुत उम्दा राय है जनाब समर साहब मज़ा आ गया इस टिप्स पे ... "
7 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"रोज़ उठता है किसी सच का जनाज़ा देखो झूठ बैठा है यहाँ बन के दरोगा देखो   हो रहा रोज़ नया एक तमाशा…"
17 minutes ago
Mohan Begowal replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"     सब हैं अपने किसी को भी न पराया देखो हो न जाये कहीं झूठा दिल निभाया देखो कौन अब…"
33 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"आ. मोहन जी,प्रति सदस्य एक ही रचना प्रेषित करने   का नियम है  नियम एवं…"
42 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"हार्दिक बधाई आदरणीय गणेश जी बागी जी। लाज़वाब गज़ल।"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"जनाब दिनेश जी, 'किस क़दर रक़सां है इंसान तमाशा देखो फ़ानी दुनिया में तमन्नाओं का जलवा…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on मेघा राठी's blog post लघुकथा
"हार्दिक बधाई आदरणीय मेघा जी। लाज़वाब लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Mohan Begowal's blog post किराये के रिशते (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मोहन जी। बेहतरीन लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post चाय पर चर्चा (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख उस्मानी जी। बेहतरीन कटाक्ष पूर्ण लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post छोटा वकील (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख उस्मानी जी। अच्छी व्यंगपूर्ण लघुकथा।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"जनाब राम अवध जी आदाब,ऐब-ए-तनाफ़ुर उसे कहते हैं कि जिस अक्षर पर जुमला ख़त्म हो रहा है,उसी अक्षर से…"
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service