For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"धरा की पाती"/ कविता-अर्पणा शर्मा, भोपाल

मैं तृषित धरा ,
आकुल ह्रदया,
रचती हूँ ये पाती,
मेरे बदरा,
तुम खोए कहाँ,
मुझसे रूठे क्यों,
हे जल के थाती,

दूर-दूर तलक,
ना पाऊँ तुम्हें,
कब और कैसे,
मनाऊँ तुम्हें,
नित यही मैं ,
जुगत लगाती,
साँझ- सबेरे,
राह निहारे ,
मैं अनवरत ,
थकती जाती,

आओ जलधर,
जीवन लेकर,
बिखेरो सतरंग,
सब ओर मुझपर,
तड़ित चपला की,
शुभ्र चमक में,
श्रृंगारित हो,
सुसज्जित हो,
हरी चूनर मैं,
ओढ़ लजाऊँ,
जल-मोतीयों का,
पहन नवलखा,
जीवन के,
हर रंग सजाऊँ,
यह मन्नत मैं
सदा मनाती,

उमड़ो बदरा,
घिर आओ नभ में,
सूर्य रथ भेजो,
विश्राम गृह में,
गरजो घन-घन,
बरसो रिमझिम,
मनुहार करूँ,
बारम्बार करूँ,
मेरे आँगन,
करो आगमन,
इंद्रधनुषी ओढ़ा दो,
मुझे वसन,
तप्त-व्याकुल मैं ,
गुहार यही लगाती,


आ जाओ ,
जीवन संवाहक बन,
 भर घटाओं में,
 जल-सुमन,
देर ना करना,
शीघ्र बरसना,
पढ़ आस भरी यह पाती ...!!

मौलिक एवं  अप्रकाशित


Views: 97

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Shyam Narain Verma on July 23, 2018 at 2:58pm
"क्या बात है ..... बहुत खूब ... बधाई आप को " .सादर 
Comment by Neelam Upadhyaya on July 23, 2018 at 2:53pm

आदरणीया अर्पणा शर्मा जी, बरखा को मनाती मनुहार करती अच्छी रचना  की प्रस्तुति। बधाई स्वीकार करें । 

Comment by Arpana Sharma on July 22, 2018 at 11:55pm

जनाब मो.आरिफ जी - बेशक मानसून आ चुका । लेकिन अभी पर्याप्त बारिश नहीं हुई है। पूरे वर्ष भर के लिये नदी-तालाबों में पेयजल एकत्र नहीं हुआ है। 

अधिकांश शहरों में बाढ़ के हालात तो पहली तेज बारिश के बाद से ही दिखने लगते हैं जो कि शहरों के अव्यवस्थित   विकास और जल-निकासी व्यवस्था के अवरूद्ध या अनयोजित होने का नतीजा है।

मई-जून की प्रचंड़ गर्मी और सूखे को याद कीजिए । हमारे भोपाल का बड़ा तालाब भी अभी तक आधा भी नहीं भरा सो "धरा की ये मनुहार" उचित बैठती है। 

शुक्रिया आपने कविता पसंद की। 

Comment by Mohammed Arif on July 22, 2018 at 8:54pm

आदरणीया अर्पणा शर्मा जी आदाब,

                               बदरा के बरसने की मान मनुहार करती बेहतरीन भावाभिव्यक्ति । मगर पूरे देश में बदरा मेहरबान होकर झमाझम बरस रहे हैं । बाढ़ से कहीं-कहीं हालात बेकाबू हैं । हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।

Comment by Arpana Sharma on July 22, 2018 at 3:37pm

आदरणीया जनाब समय कबीर जी, जनाब उस्मानी जी, नरेन्द्र जी एवं बीता-  आप सभी के सह्रदय प्रोत्साहन का बहुत धन्यवाद 

Comment by narendrasinh chauhan on July 22, 2018 at 12:39pm
सुन्दर रचना
Comment by Samar kabeer on July 22, 2018 at 11:56am

मुहतरमा अर्पणा शर्मा जी आदाब,बहुत सुंदर कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।

Comment by babitagupta on July 21, 2018 at 11:16pm

बेहतरीन रचना द्वारा वरखा बहार को बयां करती पंक्तियाँ, बधाई स्वीकार कीजिएगा आदरणीया अपर्णा दी।

Comment by Sheikh Shahzad Usmani on July 21, 2018 at 12:31am

बहुत सुंदर अलंकृत शब्द मोतियों से परिपूर्ण रचना हेतु हार्दिक बधाई आदरणीया अपर्णा शर्मा जी।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Ravi Shukla's blog post गीत दफ्तर पर
"आ. भाई रवि जी, प्रभावी गीत हुआ है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- फ़लक में उड़ने का क़ल्बो-जिगर नहीं रखता / दिनेश कुमार
"आ. भाई दिनेश जी, सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हुस्न तेरी आशिकी से कौन रखता दूरियाँ - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर" ( गजल )
"आ. भाई राजनवादवी जी, सादर आभार।"
1 hour ago
Profile IconRozina Dighe and Jitendra sharma joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post सन्नाटा  -  लघुकथा  -
"हार्दिक आभार आदरणीय राज नवादवी साहब जी।सच कहा आपने, मैंने अपनी सत्तर साल की उम्र में राजनीति का…"
2 hours ago
Profile IconRozina Dighe, Ahmed Maris, gorkhesailo and 1 more joined Open Books Online
2 hours ago
राज़ नवादवी commented on TEJ VEER SINGH's blog post सन्नाटा  -  लघुकथा  -
"आदरणीय तेज वीर सिंह साहब, सशक्त लघुकथा की प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई, सचमुच, राजनीति और नेता, ये…"
4 hours ago
Samar kabeer commented on क़मर जौनपुरी's blog post गज़ल -6 ( चल गया जादू सभी अंधे औ बहरे हो गए)
"जनाब क़मर जौनपुरी साहिब आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा हुआ है,बधाई स्वीकार करें । ' यूँ किया…"
5 hours ago
Samar kabeer commented on babitagupta's blog post बदहाल जनता (तुकांत अतुकांत कविता)
"मुहतरमा बबीता गुप्ता जी आदाब,बहुत अच्छी कविता लिखी आपने, इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । कुछ…"
6 hours ago
राज़ नवादवी posted a blog post

राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ७१

2212 1212 2212 1212 ख़ुशियों से क्या मिले मज़ा, ग़म ज़िंदगी में गर न होशामे हसीं का लुत्फ़ क्या जब जलती…See More
6 hours ago
TEJ VEER SINGH posted a blog post

सन्नाटा  -  लघुकथा  -

सन्नाटा  -  लघुकथा  - सोनू ने स्कूल से आते ही, स्कूल बैग  पटक कर, सीधे दादा जी के कमरे का रुख किया,…See More
6 hours ago
राज़ नवादवी commented on राज़ नवादवी's blog post राज़ नवादवी: एक अंजान शायर का कलाम- ७१
"जी, बहुत बहुत शुक्रिया जनाब समर कबीर साहब, बदलाव के बाद रेपोस्ट करता हूँ. सादर "
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service