For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कौन अपना कौन पराया

 

कौन अपने है कौन पराये

बात हमे ये

भ्रमित और झकजोर

क्यूँ जाए

विरह के जब

मेघ मंडराए

एकल बैठ के

हम अश्रु बहाए          

वेदना ने

बेहाल किया जब            

असहाए तब

स्वयं को पाए

जग की रीत

है बड़ी पुरानी

हर पीड़ित की

यही कहानी

व्यथा दे जब

हमें सताये

समक्ष स्वयं के

कोई न पाए

जीवन देता

सबक सिखायें

सत्य का तब

बोध करायें

अपना समय जब

फिर फिर जाएँ

धन लक्ष्मी

की कृपा पायें

अपने तो अपने

गैर भी तब 

अपनत्व का

फिर बोध करायें

प्रेम का ऐसे

ढोंग रचाए

दायित्व की फिर

दे दुहाई

कर्तव्य हमको

दिए गिनाये

स्मरण अपने

उपकार करायें

वक़्त-बे-वक़्त

जब अहसान जतायें

ये भी अपना

वो भी अपना

प्रेम मग्न हो

तो जग भी अपना

कथन करनी में

क्यूँ अंतर करना

मानव धर्म का

पालन करना

ऐसे शुद्ध हम

अपना हृदय बनायें

अपने अंतर्मन की

ध्वनि सुन

स्वयं को हम

परिपूर्ण करायें

Views: 89

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sanjay Rajendraprasad Yadav on September 27, 2012 at 10:08am

बहुत सुन्दर आपको बधाई ...पर पढ़ने के लिए कर्सर को बहुत परेशान करना पड़ा..!!

Comment by seema agrawal on September 26, 2012 at 7:19pm

वाह बहुत बढ़िया 

अपना हृदय बनायें

अपने अंतर्मन की

ध्वनि सुन

स्वयं को हम

परिपूर्ण करायें

छंदबद्ध न होते हुए भी यदि रचना में तुक रखने की कोशिश  की गयी है जो रचना को प्रवाह देती है ...बधाई फूल सिंह जी 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post एक गजल - ढूँढ रहा हूँ
"आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी आपका दिल से शुक्रिया "
4 minutes ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post एक गजल - ढूँढ रहा हूँ
"आदरणीय somesh kumar  जी आपका दिल से शुक्रिया "
4 minutes ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post एक गजल - ढूँढ रहा हूँ
"आदरणीय TEJ VEER SINGH जी आपका दिल से शुक्रिया "
5 minutes ago
babitagupta posted a blog post

गोपालदास नीरज जी - श्रद्धांजलि [जीवनी]

काव्य मंचों के अपरिहार्य ,नैसर्गिक प्रतिभा के धनी,प्रख्यात गीतकार ,पद्मभूषण से सम्मानित,जीवन दर्शन…See More
1 hour ago
सतविन्द्र कुमार राणा posted a blog post

डायरी का अंतिम पृष्ठ (लघुकथा)

डायरी का अंतिम पृष्ठएक अरसे बाद, आज मेरे आवरण ने किसी के हाथों की छुअन महसूस की, जो मेरे लिए अजनबी…See More
1 hour ago
Arpana Sharma posted a blog post

लघुकथा- रिसते खूनी नासूर

सुबह से ठंडे चूल्हे को देख आहें भरती वह अपनी छः वर्षीय बेटी और तीन वर्षीय बेटे को पास बिठाए गहरे…See More
1 hour ago
MUZAFFAR IQBAL SIDDIQUI posted a blog post

असमर्थ ( लघुकथा )

इनआर्बिट माल से सागर ने आफिस के लिए फॉर्मल ड्रेसेस तो खरीद लीं थीं। अभी और ज़रूरी परचेसिंग बाकी थी।…See More
1 hour ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

'अद्भुत, अविश्वसनीय, अकल्पनीय (अतुकांत कविता)

सबको तो डस रहे हैं, फंस रहे हैं असरदार या बेअसर? नकली या असली? देशी, विदेशी या एनआरआई? मुंह में…See More
1 hour ago
राज लाली बटाला commented on राज लाली बटाला's blog post आप पर किस की मिह्ऱबानी है
"बहुत प्यार , आभार और सतिकार आप सभी दोस्तों का -अदब से राज लाली बटाला"
3 hours ago
Arpana Sharma commented on Arpana Sharma's blog post "धरा की पाती"/ कविता-अर्पणा शर्मा, भोपाल
"जनाब मो.आरिफ जी - बेशक मानसून आ चुका । लेकिन अभी पर्याप्त बारिश नहीं हुई है। पूरे वर्ष भर के लिये…"
11 hours ago
Arpana Sharma commented on Arpana Sharma's blog post "धरा की पाती"/ कविता-अर्पणा शर्मा, भोपाल
"जनाब मो.आरिफ जी - बेशक मानसून आ चुका । लेकिन अभी पर्याप्त बारिश नहीं हुई है। पूरे वर्ष भर के लिये…"
11 hours ago
babitagupta commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post रिलेशनशिप (लघुकथा)
"दुनियां के तानों से व ओरो से अपनी सुरक्षा के लिए वेबशी में बनाए रिश्ते पर समाज की छींटा कशी तो होती…"
13 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service