For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

लघुकथा : गिफ्ट (गणेश जी बागी)

साफ साफ बताओं, आख़िर बात क्या है ? जबसे तुम अपनी छोटी बहन की शादी से लौटी हो, तुम्हारा मूड उखड़ा उखड़ा है और ढंग से बात भी नही कर रही हो, प्रकाश नें अपनी पत्नी नीतू से पूछा | 
"कुछ नही बस यूँ ही" 
"देखो 'बस यूँ ही' कहने से काम नही चलने वाला, तुम्हे मेरी कसम, सच सच बताओं हुआ क्या ?"

"प्रकाश आपने मेरी बहन की शादी मे जो अँगूठी गिफ्ट की थी न, वह किसी को पसंद नही आयी, भाभी और माँ ने आपका खूब मज़ाक उड़ाया, वो लोग कह रही थीं कि यह घटिया अँगूठी कहाँ से खरीदी है, एक तो बेहद हल्की है और डिजाइन भी देहाती टाइप, चेहरा लटकाए नीतू एक साथ बोल गयी | 

"हूउउउ तो यह बात है, अरे भाई तुम्हे तो पता ही है आजकल पैसे की दिक्कत चल रही है इसलिए अँगूठी खरीदी कहाँ, शादी में तुम्हारी माँ ने जो अँगूठी मुझे दी थी वो नई ही पड़ी थी उसी को साफ करवा कर गिफ्ट कर दिया था |

(मौलिक व अप्रकाशित)

पिछला पोस्ट => लघुकथा : कन्या पूजन

Views: 724

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on February 12, 2015 at 2:17am

नायक के सादगीपूर्ण व्यक्तित्व को खूब उभारा है 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on February 12, 2015 at 2:15am

हा हा हा .... गज़ब सर 

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on October 18, 2013 at 2:25pm

ऐसा नहीं है आदरणीय मेरा कहना है कि "लघु कथा में गिफ्ट से जुड़े भावनात्मक सम्बन्ध,महंगाई की मार और मार्मिक

दर्द की झलक बताने में सफल रही है | इसके लिए हार्दिक बधाई आदरणीय श्री गणेशजी" आपकी लघु कथा पढ़ते समय मुझे

बचपन में जो बाते सुनता था उसका समारंण हो आया, जिसका जिक्र किया था | आपकी कथा तो मार्मिक होने के साथ ही  

संदेशात्मक भी है | इसके लिए पुनः हार्दिक बधाई  

Comment by DR SHRI KRISHAN NARANG on October 18, 2013 at 7:44am

Gnesh Baghi ji, aap ki laghu katha, "Gift" bahut achhi lagi. man ko chhoo gayee. Bahut dinon ke baad mein yeh shabad likh raha hun.  Bahut sateek aur zameen par likhi hai yeh katha. laga ke mere saath hi yeh ghatna ghati hai.  Aap ki kalam aise hi chalti rahe, prabhu yeh prarthana hai. 


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on October 17, 2013 at 11:13pm

सराहना हेतु बहुत बहुत आभार आदरणीया शशि पुरवा जी । 


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on October 17, 2013 at 11:12pm

//पति की यह बात पत्नी का मूड और बिगाड़ गयी// 

//लघु कथा में गिफ्ट से जुड़े भावनात्मक सम्बन्ध,महंगाई की मार और मार्मिक दर्द//

आदरणीय लक्ष्मण लडिवाला जी, आपकी टिप्पणी से स्पष्ट है कि लघुकथा आपके आस पास भी नहीं पहुँच सकी है जिसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ , शायद यह लेखन की कमी है । 


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on October 17, 2013 at 11:09pm

आदरणीया राजेश कुमारी जी, आपकी टिप्पणी सदैव आत्मबल प्रदान करती है, सादर आभार । 


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on October 17, 2013 at 11:07pm

आदरणीय सौरभ भईया जी, आपकी टिप्पणी इस लघुकथा की सार्थकता है, बहुत बहुत आभार आदरणीय । 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on October 17, 2013 at 9:25pm

तोहफा लेते हुए ही सारी डिजाइन, वज़न आदि की बातें मन में आयीं... देते हुए इस बारे में सोचा भी न गया 

तोहफों के लेन देन की परिपाटी का खोखला सतही स्वरुप और रिश्तों में व्याप्त घटिया मानसिकता को दर्शाती संदेशपरक सार्थक लघुकथा 

हार्दिक बधाई आ० गणेश जी 


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on October 16, 2013 at 9:23pm

बहुत बहुत आभार आदरणीय जवाहर भाई साहब, आपकी टिप्पणी उत्साहवर्धन करती है । 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rachna Bhatia replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"वाववाआआहहह।लाजवाब।हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
7 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणिय बहुत खूब रचना।हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
8 minutes ago
Profile IconRachna Bhatia and Pratibha Pandey joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
9 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"प्रतिभा जी के दोहरे, प्रतिभा का परिणाम। देख आपकी लेखनी, करता अरुण प्रणाम।। गूढ़ भाव औ शब्द से,…"
21 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"सुन्दर रचना भ्राता राणा। परिभाषित है चित्र सुहाना।। एक बात पर समझ न आई। नहीं अन्यथा लेना…"
35 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"प्रत्युत्तर में राणा जी का, अद्भुत अनुपम आल्हा छन्द। सौवें आयोजन की गरिमा, ऐसे में देती…"
48 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"सत्यनरायण सिंह जी आकर, लुटा गए हैं अपना प्यार। हाथ जोड़ कर भ्राता श्री का, अरुण प्रकट करता आभार।।"
54 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अखिलेश जी, प्रदत्त चित्रानुरूप बेहतरीन रचना से मंच का शुभारम्भभ करने के लिए  हार्दिक…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अशोक जी, प्रदत्त चित्रानुरूप सुंदर छंद हुए हैं । हार्दिक बधाई।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"दोहा छंद फिर से बरसीं बदलियाँ, जल का बढ़ा बहावबचपन लेकर आ गया, फिर कागज की नाव।१। हिरनी, कोयल, मोर…"
1 hour ago
Satyanarayan Singh replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"द्वितीय प्रयास सुंदरी सवैया बरखा बिन सूख रही फसलें, कहुँ नाव चले सड़कों पर पानी।समतोल न मानव राख…"
3 hours ago
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो…"
9 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service