For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ratnesh Raman Pathak's Comments

Comment Wall (24 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:42am on September 13, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 7:48pm on May 4, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
बहुत बहुत धन्यवाद प्रिय मित्र और अनुज रत्नेश जी, आपका प्यार आज के दिन मिला, मैं धन्य हुआ |
At 8:52pm on February 22, 2011, Prakash Pakhi said…
thanks!
At 12:25am on February 8, 2011, Dr. Ajmal khan said…
आप का बहुत बहुत शुक़्रिया
At 1:16pm on December 22, 2010, RAHUL RAI BHOJPURIYA said…
thank,,,,,u,,,pathak,,,,ji
At 1:42pm on December 2, 2010, Azeez Belgaumi said…
Thanks Ramesh ji... aap se istefaade ka mauqa milta rahega.
At 10:25am on November 29, 2010, Binod Kumar Rai said…
Ji bahut Sukriya....
At 10:23am on November 28, 2010, Ekta Nahar said…
shukrya Ratnesh ji...
plz OBO se jude rahne me meri help karein.Mein OBO se familiar nahi hoo.
kya aap mujhe bataa sakte hein ki yha kya kya functions hein
At 3:31pm on November 19, 2010, peter said…
ratnash how are you? i hope you are fine i have tryed to check your comment but i could not get it.thanks God loves you,in jesus name amen!
At 10:28am on November 18, 2010, Deepak Sharma Kuluvi said…
THANKS FOR YOUR VALUABLE COMMENTS

DEEPAK KULUVI
At 11:29am on November 17, 2010, Akshay Thakur " परब्रह्म " said…
Bahut Bahut dhanyavaad bhai
At 10:08pm on November 16, 2010, TK SHRIVASTAVA said…
रतनेशजी वाकई आप समाजसेवा करके समाज को उपकृत कर रहे है
हमारे लायक यदि कोई सेवा हो तो अवश्य बतावे
At 9:38pm on November 16, 2010, TK SHRIVASTAVA said…


Thnk U very much for UR warming WELCOME
At 9:31pm on November 16, 2010, TK SHRIVASTAVA said…
THANK YOU VERY MUCH
RATNESH FOR UR WARMING WELCOME

At 10:31pm on October 18, 2010, Priti Kumari said…
Thanks a lot!
At 7:38pm on October 5, 2010, manish kumar said…
kya hal hai aj kal yaha byast raheta hai
At 7:55am on September 24, 2010, Sureshchandra Gupta said…
Aapka bahut bahut dhanyavaad Ratnesh ji.
At 3:07pm on May 25, 2010, ANIL KUMAR SINHA said…
dhanyabad pathak ji. age bate hongi.
At 5:34pm on May 12, 2010, Satyendra Kumar Upadhyay said…
RAtnesh Ji Swagat khatir bahut bahut dhanyabad, Kahawa baani
At 9:41am on May 6, 2010, Pankaj Trivedi said…
श्रीमान, आपने मुझे दोस्त बनाया उसके लिएं धन्यवाद |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post जानता हूँ मैं (ग़ज़ल)
"जनाब रवि भसीन 'शाहिद' जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें…"
13 minutes ago
Samar kabeer commented on मोहन बेगोवाल's blog post तरही ग़ज़ल
"जनाब मोहन बेगोवाल जी आदाब,ओबीओ के तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें…"
20 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post धरणी भी आखिर रोती है
"हार्दिक धन्यवाद आपका"
27 minutes ago
Samar kabeer commented on vijay nikore's blog post जीवन्तता
"प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब, बहुत अच्छी रचना हुई है, इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
28 minutes ago
vijay nikore commented on TEJ VEER SINGH's blog post प्रेम पत्र - लघुकथा -
"लघु कथा अच्छी बनी है। आनन्द आ गया , मित्र तेज वीर सिहं जी।"
1 hour ago
vijay nikore commented on Usha Awasthi's blog post धरणी भी आखिर रोती है
"रचना अच्छी लगी। हार्दिक बधाई, मित्र ऊषा जी।"
1 hour ago
vijay nikore commented on Samar kabeer's blog post एक ताज़ा ग़ज़ल
"सोचा, बता दूँ, जाने कितनी बार आपकी इस गज़ल ने मुझको बुलाया, इसे पढ़ कर हर बार मुझको बहुत लुत्फ़ आया।"
1 hour ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post प्यार का प्रपात
"आपका हार्दिक आभार, मेरे भाई समर कबीर जी। मनोबल बढ़ाते रहें।"
1 hour ago
रवि भसीन 'शाहिद' posted a blog post

जानता हूँ मैं (ग़ज़ल)

221 2121 1221 212मज़ारे मुसम्मन अख़रब मक्फूफ़ महज़ूफ़ मफ़ऊलु फ़ाइलातु मुफ़ाईलु फ़ाइलुन.तेरे फ़रेब-ओ-मक्र सभी…See More
2 hours ago
मोहन बेगोवाल posted a blog post

तरही ग़ज़ल

 शख्स उसको भी तो दीवाना समझ बैठे थे हम l जो था अच्छा उस को बेचारा समझ बैठे थे हम lअब न जीतेगा ज़माना…See More
2 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"//गढ़ गये पुरखे जो मजहब की हमारे बीच में'// इस मिसरे को यूँ कर सकते हैं:- 'बीच जिसके दफ़्न…"
20 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तरही गजल - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर कबीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और मार्गदर्शन के लिए आभार ।  इंगित मिसरे को…"
23 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service