For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार (225)

Discussions Replies Latest Activity

प्रधान संपादक

चित्र से काव्य तक प्रतियोगिता अंक-३ का लेखा जोखा

आदरणीय साथिओ, चित्र से काव्य तक प्रतियोगिता अंक-३ का आयोजन दिनांक १६ जून से  २० जून तक किया गया, जिसका संचालन पिछली दोनों प्रतियोगितायों…

Started by योगराज प्रभाकर

6 Jun 22, 2011
Reply by वीनस केसरी

दो गज़ ज़मीं भी ना मिली ............................

रंगों की दुनिया के जादूगर मकबूल फ़िदा हुसैन के निधन की खबर सुनकर लोग हतप्रभ रह गए. उनके जाने से कला -जगत बेनूर हो गया.यह कितनी बड़ी बिडम्बना…

Started by satish mapatpuri

36 Jun 21, 2011
Reply by Er. Ambarish Srivastava

मुख्य प्रबंधक

१००० सदस्यों का "ओपन बुक्स ऑनलाइन" परिवार

साथियों ! प्रणाम, आपका अपना ओपन बुक्स परिवार आज १००० सदस्यों का हो गया है | मैं अकेले ही चला था कारवाँ बनता गया.....इस सूक्त वाक्य को सत्य…

Started by Er. Ganesh Jee "Bagi"

1 Jun 18, 2011
Reply by Abhinav Arun

बाबा रामदेव

राष्ट्रहित एवं जनहित में बाबा रामदेव को अनशन तोड़ देना चाहिए.उनका जीवन मुल्क के लिए कीमती है. अपने चाहनेवालों के लिए योग -पुरुष को हठयोग छो…

Started by satish mapatpuri

2 Jun 12, 2011
Reply by Rash Bihari Ravi

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार का एक वर्ष का सफ़र : कैसा रहा आपका अनुभव..

साथियों ! सबसे पहले मैं आप सभी को बहुत बहुत बधाई देना चाहता हूँ आपका अपना OBO परिवार एक वर्ष का सफ़र सफलता पूर्वक तय कर लिया है, इस परिवार…

Started by Admin

31 Apr 18, 2011
Reply by Saurabh Pandey

हार्दिक बधाइया

मूर्ख दिवस के अवसर पर एक कोशिश के तहत खोला गया ये OBO कई लोगो के दिल के अंदर के बसे भावनाओ और उनकी लेखनी प्रतिभा को जगजाहिर कर एक भावनात्मक…

Started by Dheeraj

2 Apr 4, 2011
Reply by Abhinav Arun

इस बार होली का रंग कैसा हो

मेरा मानना है कि फागुन कण-कण में हो उल्लास ऐसा मधुर मास। लाल बिहारी लाल,बदरपुर,नई दिल्ली-44    इस बार पावन पर्व होली का रंग  कैसा हो ? आप ब…

Started by Lal Bihari Gupta LAL

0 Mar 1, 2011

जल्‍दी शामि‍ल हो भोजपुरी संवि‍धान की 8वीं अनुसूची में

देवलधाम दिनांक 22 फरवरी 2011 को दिल्‍ली स्‍थित प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में भोजपुरी समाज दिल्‍ली के सौजन्‍य से प्रेस कांफ्रेस का आयोजन किया गय…

Started by देवDevकान्‍तKant पाण्‍डेयPandey

1 Feb 24, 2011
Reply by Rash Bihari Ravi

बहर सारिणी

ग़ज़ल की बहरें समझना बहुत टेढ़ी खीर है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि बहर के बारे में जानकारी तो बहुत ज्यादा मिल जाती है अंतर्जाल पर पर कहीं भी व्यव…

Started by धर्मेन्द्र कुमार सिंह

7 Jan 30, 2011
Reply by Admin

मुख्य प्रबंधक

"यादें" (आईये लिखे कुछ ऐसी यादों को जो भूलता ही नहीं)

हमारे जीवन मे बहुत सारी ऐसी घटनाये हो जाती है जो भुलाये नहीं भूलती, और कभी सोच सोच कर आँखों मे आंशु तो कभी होंठो पर मुस्कान आ जाती है, ये य…

Started by Er. Ganesh Jee "Bagi"

48 Jan 5, 2011

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

TEJ VEER SINGH commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"हार्दिक बधाई आदरणीय  सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' जी। बेहतरीन गज़ल। मुफ़लिसी…"
32 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कितना मुश्किल होता है - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"हार्दिक बधाई आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी। बेहतरीन गज़ल। चाहे जितनी आग…"
36 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय  डॉ नवीन मणि त्रिपाठी जी। बेहतरीन गज़ल। क्यूँ लिये थे मांग मुझसे मेरी…"
42 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post अछूतों सा - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"हार्दिक बधाई आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी। बेहतरीन गज़ल। अछूतों से भी मत करना कभी…"
45 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post ग़ज़ल को सँवारा है इन दिनों.- ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी। बेहतरीन गज़ल। जो भी गए थे शहर सभी लौट आये…"
48 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post शिवत्व
"बृजेश कुमार 'ब्रज जी,लक्षमण धामी 'मुसाफिर' जी,एवं आशीष यादव जी,आप सभी भाइयों को मेरा…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post सितारों के बिना ये आसमाँ अच्छा नहीं लगता
"आ. भाई रूपम जी, बेहतरीन गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
Manoj kumar Ahsaas posted a blog post

अहसास की ग़ज़ल :मनोज अहसास

2×15एक ताज़ा ग़ज़ललाखों ग़म की एक दवा है, सोचो ! कुछ भी याद नहीं. कोई शिकायत करने आए,कह दो कुछ भी याद…See More
3 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
4 hours ago
रमेश कुमार चौहान posted a blog post

पहनावा (कुण्डलियां)

पहनावा ही बोलता, लोगों का व्यक्तित्व । वस्त्रों के हर तंतु में, है वैचारिक स्वरितत्व ।। है वैचारिक…See More
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post अछूतों सा - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई आशीष जी, उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक आभार ।"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कितना मुश्किल होता है - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई आशीष जी, सादर आभार ।"
4 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service