For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

ओपन बुक्स ऑनलाइन के सभी सदस्यों को प्रणाम, बहुत दिनों से मेरे मन मे एक विचार आ रहा था कि एक ऐसा फोरम भी होना चाहिये जिसमे हम लोग अपने सदस्यों की ख़ुशी और गम को नजदीक से महसूस कर सके, इसी बात को ध्यान मे रखकर यह फोरम प्रारंभ किया जा रहा है, जिसमे सदस्य गण एक दूसरे के सुख और दुःख की बातो को यहाँ लिख सकते है और एक दूसरे के सुख दुःख मे शामिल हो सकते है |

धन्यवाद सहित
आप सब का अपना
ADMIN
OBO

Views: 52273

Reply to This

Replies to This Discussion

Bahut badhiya News dehani Preetam bhai, chacha chachi key shadi key salgirah bahut bahut mubarak ho,
यह सुन कर बुत ही दुःख हुआ की माँ दिवस पर कोई अपने माँ को उपहार भेट कर रहा है,और भगवन ने किसी की माँ ही छीन लिया.खैर कहा गया है ----------होइहे उहे जवन राम रची राखा".............प्रभु के माया से कोई परे नहीं है,एक हर किसी को अपने माँ से, अपने पिता जी से जुदा होना है ,फर्क सिर्फ समय का है.
हम भगवन से आपके माँ की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना कर ते है.
kuldeep je ke swargwasi mata jee ke liye


Admin said:
बड़े ही दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि ऒपन बुक्स आनलाइन परिवार के सदस्य श्री कुलदीप श्रीवास्तव जी के माता जी का स्वर्गवास दिनांक ३ मई को हो गया है, ईश्वर उनके आत्मा को शांति प्रदान करे तथा पूरे परिवार को इस अपार दुःख को सहने कि शक्ति दे, इस दुःख कि घड़ी मे ऒपन बुक्स आनलाइन परिवार आप के साथ है ।
ADMIN OBO
प्रीतम भाई बहुत ही अछि खबर भेट किये ओपन बुक्स परिवार को ,सबसे पहले आपको धन्यवाद उसके बाद ...............चाचा- चाची को उनके शादी की सालगिरह की ढेर सारी बधाइयाँ ,भगवन करे की उनका यह पवित्र रिश्ता का बंधन जन्मो जन्मो तक बंधा रहे


PREETAM TIWARY said:
aaj mother's day ke saath ek aur baat hum batawe ke chahat bani ki aaj hamar maa aur papa ke shaaadi ke saalgirah ha......aaj hi ke din hamar maa aur papa ke shaadi bhail rahe.........
आज ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के सक्रिय सदस्य आदरणीय श्री सतीश मापतपुरी जी का जन्म दिन है, ईश्वर श्री मापतपुरी जी को दीर्घ आयु एवम स्वस्थ जीवन प्रदान करे, यही हमारी कामना है, जन्म दिन बहुत बहुत मुबारक हो,
satish jeee janamdin ki bahut bahut shubhkamnaye....bhagwaan se prarthana hai ki aapki har icchha puri ho....

प्रिय भाई मापतपुरी जी, जन्म दिन कि बहुत बहुत बधाई हो आपको ! भगवान आपको लम्बी और सेहतमंद आयु दे और आपकी हर मनोकामना पूरी करे ! मेरी दुआ है कि प्रभु आपकी कलम को बल बख्शे !
आज ओपन बुक्स ऑनलाइन के सक्रिय सदस्य आदरणीय श्री दुष्यंत सेवक जी का जन्म दिन है, जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनाए,
Happy birthday to you Dear Dushyant and Many Many Happy Returns of the day. God bless you always.

Admin said:
आज ओपन बुक्स ऑनलाइन के सक्रिय सदस्य आदरणीय श्री दुष्यंत सेवक जी का जन्म दिन है, जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनाए,


Admin said:
आज ओपन बुक्स ऑनलाइन के सक्रिय सदस्य आदरणीय श्री दुष्यंत सेवक जी का जन्म दिन है, जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनाए,
many many happy returns of the day dushyant jee....

i wish all your dreams come true this day...

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

बसंत कुमार शर्मा commented on Neelam Dixit's blog post गीत- नेह बदरिया नीर नदी बन
"आदरणीया नीलम दीक्षित जी सादर नमस्कार  अच्छा श्रंगार गीत हुआ हुआ  कहीं कहीं टंकण…"
1 hour ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post प्यार से भरपूर हो जाना- ग़ज़ल
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर नमस्कार , आपकी हौसलाअफजाई के लिए…"
2 hours ago
PHOOL SINGH commented on PHOOL SINGH's blog post रानी अच्छन कुमारी
"लक्ष्मण मेरा उत्साह वर्धन करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद "
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post तेरे ख्वाहिशों के शह्र में- लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, उसका भाव यह है कि अब राम जैसा सात्विक मत बनाना।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on PHOOL SINGH's blog post रानी अच्छन कुमारी
"आ. भाई फूलसिंह जी, महत्वपू्ण ऐतिहासिक जानकारी की प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई ।"
3 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

ओबीओ लखनऊ-चैप्टर की साहित्य-संध्या माह जून 2020–एक प्रतिवेदन  :: डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव

ओबीओ लखनऊ-चैप्टर की ऑनलाइन मासिक काव्य गोष्ठी 21 जून 2020 (रविवार) को हुई I सभी उत्साही सुधीजनों ने…See More
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" commented on शिज्जु "शकूर"'s blog post ज़िन्दगी गर मुझको तेरी आरज़ू होती नहीं(ग़ज़ल)
"आदरणीय बसंत कुमार शर्मा सर आपका बहुत बहुत शुक्रिया"
6 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" commented on शिज्जु "शकूर"'s blog post ज़िन्दगी गर मुझको तेरी आरज़ू होती नहीं(ग़ज़ल)
"आदरणीय सुरेंद्रनाथ जी आपका तहेदिल से शुक्रिया, प्रयास रहेगा कि दोबारा सक्रियता के साथ हिस्सा…"
6 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" commented on शिज्जु "शकूर"'s blog post ज़िन्दगी गर मुझको तेरी आरज़ू होती नहीं(ग़ज़ल)
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया, कोशिश करूंगा कि नियमित रह सकूं।"
6 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल- रोज़ सितम वो ढाते देखो हम बेबस बेचारों पर
"आद0 लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और प्रतिक्रिया का हृदयतल से आभार…"
6 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल- रोज़ सितम वो ढाते देखो हम बेबस बेचारों पर
"आद0 तेजवीर सिंह जी सादर अभिवादन। ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार निवेदित…"
6 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post ग़ज़ल- रोज़ सितम वो ढाते देखो हम बेबस बेचारों पर
"आद0 प्रिय भाई सालिक गणवीर जी सादर अभिवादन। ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और दाद के लिए हृदयतल से अभिनन्दन,…"
6 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service