For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

विडिओ : "ओ बी ओ कवि सम्मेलन सह मुशायरा" हल्द्वानी १५ जून-१३

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on November 17, 2014 at 7:44pm

ओह! ऐसा है क्या.... अभी कर देती हूँ 

असुविधा के लिए खेद है 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on November 17, 2014 at 7:19pm

ये विडियो प्राइवेट हैं| आदरणीया प्राची जी से निवेदन है कि इन्हें पब्लिक कर दें|

Comment by डॉ नूतन डिमरी गैरोला on September 24, 2014 at 5:11am

ये विडियो तो दिख ही नहीं रहे हैं ... कृपया कुछ करिए की हम देख सकें इन्हें 

Comment by Nilesh Shevgaonkar on July 19, 2014 at 9:19am

मै ये विडियो नहीं देख पा रहा हूँ .. :(

Comment by vijay nikore on June 18, 2014 at 2:14am

१५ जून २०१३ - १५ जून २०१४

इस सफ़ल सम्मेलन की सालगिरह पर ओ बी ओ को हार्दिक बधाई


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on March 28, 2014 at 2:45pm

रेफ़ेरेंस तो दिया गया होता.

फिर भी समय को जीवित संजो लेने के लिए हार्दिक धन्यवाद.


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on January 27, 2014 at 10:30am

हल्द्वानी काव्य गोष्ठी की सभी विडियो का संकलन देख कर बहुत हर्षित हूँ पुरानी  यादे ताजा  हो गई हार्दिक धन्यवाद. 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"//इसलिए लो (2122) ग मिलाते (1122) रहे हाँ में (1122) हाँ तेरी (112) अगर तक्तीअ करने में कोई गलती…"
6 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय dandpani nahak जी अच्छी गजल हुयी मुबारकबाद आपको 3 रे शेर के उला में लेकिन की जगह मुझको और…"
33 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदमी सब ही बराबर हैं ख़ुदा क्यों फिर भीमुफ़लिसी और अमीरी की ये खाई न गई । ख़ूब कहा आदरणीय दिनेश जी…"
43 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय अमित जी गजल की अच्छी कोशिश हुयी है बधाई स्वीकारें |"
47 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"मुहतरम अमीरूद्दीन "अमीर" साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी शिर्क़त और सराहना के लिए शुक्रियः। इसलिए…"
52 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"//शबे ग़म तनहा रहे थे भीड भी दुनिया में"  2122, के स्थान पर 1122, लिया  गया …"
1 hour ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"ज़िन्दगी क्या है यही बात बताई न गईआग है प्यास है जो हमसे बुझाई न गई। रोशनी अम्न की आ के जहाँ…"
1 hour ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"जनाब आज़ी तमाम साहिब आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद सुख़न नवाज़ी और हौसला अफ़ज़ाई का तह-ए-दिल से शुक्रिया।…"
2 hours ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
" आदरणीय राजेश कुमारी जी सादर प्रणाम  ग़ज़ल तक आने और मार्गदर्शन करने के लिये दिल से…"
2 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का उम्दा प्रयास है मुबारकबाद पेश करता…"
2 hours ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय चेतन जी खूबसूरत ग़ज़ल और मुशायरा प्रारंभ के लिये दिल से बधाई स्वीकार करें"
3 hours ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"2122 1122 1122 22 अपने ही दिल को सज़ा हमसे सुनाई न गई बे-वफ़ा से तो वफ़ा हमसे निभाई न…"
3 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service