For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

AMAN SINHA
Share

AMAN SINHA's Friends

  • अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी
  • Samar kabeer
  • लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
 

AMAN SINHA's Page

Latest Activity

AMAN SINHA posted a blog post

मैं जताना जानता तो

मैं जताना जानता तो बन बैरागी यूं ना फिरता मेरे ही ख़िलाफ़ ना होता आज ये उसूल मेरा मैं ठहरना जानता तो बन के यूं भंवरा ना फिरता मेरे पग को बांध लेता फिर कोई अरमान मेरा  मैं बताना जानता तो दाग़ लेकर यूं ना फिरता आज मेरे साथ होता  धौला सा दामन वो मेरा मैं हँसाना जानता तो मुंह छुपाकर यूं ना रोता आज फिर बिकता नहीं सिक्कों में यूं ईमान मेरा मैं दिखाना जानता तो राख़ मेरा मन ना होता आज मेरे साथ होता आस्थियों का भाँड़ मेरा मैं बुलाना जनता तो राह से मैं यूं ना भटकता संग मेरे रहता फिर हँसता हुआ संसार मेरा मैं…See More
16 hours ago
AMAN SINHA posted a blog post

किराए का मकान

दीवारें हैं छत हैंसंगमरमर का फर्श भीफिर भी ये मकान अपना घर नहीं लगताचुकाता हूँमैं इसका दाम, हर तारीख पहली कोलेकिन फिर भी यहाँ मुझको, वो अपनापन नहीं मिलतादीवारें साफ रखता हूँ, धीमी आवाज रखता हूँबच्चों के खिलौने सेज़रा नाराज रहता हूँकोई खट-खट ना हो जाएकोई खट-पट ना हो जाएज़रा सी बात पर कहींकोई गड़बड़ ना हो जाएयहाँ है सबकमरे, रसोई, झरोखे कई सारेमगर खुला वो अपना आँगन नहीं मिलतापड़ोसी है यहाँ भीपर सब गुमसुम से रहते हैंखुल के जो अपना ले वो दामन नहीं मिलता"मौलिक व अप्रकाशित" अमन सिन्हा  See More
Saturday
AMAN SINHA posted a blog post

ले चल अपने संग हमराही

ले चल अपने संग हमराही, उन भूली बिसरी राहों मेंजहां बिताते थे कुछ लम्हे हम एक दूजे की बाहों में चल चले उन गलियों में फिर थाम कर एक दूजे का हाथ क्या पता मिल जाए हमको फिर वो जुगनू की बारात जहां चाँद की मद्धिम बुँदे वादी से छन कर आती है और ताल की जल पर पड़ कर चांदी सी छितरा जाती है जहां डाल पर तोता मैना बातें मीठी करते हैं जहां चाँद को देख चकोरे, आंहें भरते रहते है वहीं झील में नांव चाले तो मांझी गान सुनाता है वहीं पेड़ पर बैठ पपीहा, अपनी व्यथा दोहराता है वहीं जहां पर नभ के तारे रोज़ हम से बतियाते…See More
Jun 27
AMAN SINHA posted a blog post

कब चाहा मैंने

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे नैना चार करो कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मुझसा प्यार करो कब चाहा मैंने के तुम मेरे जैसा इज़हार करो कब चाहा मैंने के तुम अपने प्रेम का इकरार करो कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मिलने को तड़पो कब चाहा मैंने के तुम बादल जैसे मुझपर बरसो कब चाहा मैंने के तुम अपना सबकुछ मुझपर लूटा बैठो कब चाहा मैंने के तुम अपना चैन सुकून गवा बैठो कब चाहा मैंने के तुम चाहो मुझको दीवानों सा कब चाहा मैंने के तुम याद करो मुझे बहानों सा कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मिलो बहाने से कब चाहा मैंने के तुम मुझे…See More
Jun 24
AMAN SINHA posted a blog post

यायावर

मैं बंजारा, मैं आवारा, फिरता दर दर पर ना बेचारा ना मन पर मेरा ज़ोर कोई, मैं अपने मन से हूँ हारा ठिठक नहीं कोई ठौर नहीं, आगे बढ़ने की होड नहींकोई मेरा रास्ता ताके, जीवन में ऐसी कोई और नहीं ना रिश्ता है ना नाता है, बस अपना खुद से वादा है जब तक जिंदा हूँ चलना है, बस यायावर ही रहना है जब सबने हांथ बाढ़ाया था, तब मैंने हीं ठुकराया था अपने पथ का चुनाव किया, मैंने सूख का परित्याग किया हाव भाव से फक्कर हूँ, घुल जाऊँ तो शक्कर हूँ स्वाद मेरा पहचान गया, जो मेरे मन को जान गया मैं अपनी धुन में रहता हूँ, बस…See More
Jun 21
AMAN SINHA posted a blog post

आह्वान

जागो मेरे वीर सपूतो, मैंने है आह्वान किया आज किसी कपटी नज़रों ने मेरा है अपमान किया किसी पापी के नापाक कदम, मेरी छाती पर ना पड़ने पाए आज सभी तुम प्रण ये कर लो, जो आया, कुछ, ना लौट के जाने पाये दिखला दो तुम दुश्मन को, तुम भारत के वीर सिपाही हो तुमको ना कोई रोक सका, जितनी भी गहरी खाई हो हिमालय से भी ऊंची है तेरे आत्मबल की चोटी तोड़ दो उनके अरमानो को, जिनकी नियत सदा है खोटी घुस कर मेरी सीमा में, जिसने तुमको ललकारा है उसको उसकी औकात दिखा, मैंने भी हुंकारा है जब तक थक कर वो लौट ना जाए तबतक तुझको लड़ना…See More
Jun 18
नाथ सोनांचली commented on AMAN SINHA's blog post क्यों परेशान होता है तू
"आद0 अमन सिन्हा जी सादर अभिवादन।बढ़िया लिखा है आपने। बधाई स्वीकार कीजिये"
Jun 15
AMAN SINHA posted a blog post

क्यों परेशान होता है तू

क्यों परेशान होता है तू , जिसे जाना है वो जाएगा हाथ जोड़ कर पैर पकड कर, तू उसको रोक ना पाएगा वो जाता है तो जाने दे, पर याद न उसकी जाने दे तू उसको ये अवसर ना दे, वो बाद मे तुझे बहाने दे  जिसको आँसू की क़दर नहीं, ना होने का तेरे असर नहीं उसे रोक के क्या तू पाएगा, तेरी खातिर जो बेसबर नहीं तू रोके तो रुक जाएगा, घड़ियाली आँसू बहाएगा अपनी हर नाकामी का फिर, जिम्मेदार तुझे बताएगा  तू उसके बीन ना जी पाएगा, वो गया तो तू मर जाएगा उसे भी ये एहसास तो होने दे, तुझे खोकर वो क्या पाएगा चलते-चलते जब थक जाएगा, खुद…See More
Jun 14
AMAN SINHA posted blog posts
Jun 11
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post मानसिक रोग
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर साहब,  कई दिनों के बाद आपसे मिले तारिफ से फिर से लिखने का मन कर रहा है।  धन्यवाद्। "
Jun 6
AMAN SINHA posted blog posts
Jun 3
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on AMAN SINHA's blog post मानसिक रोग
"आ. भाई अमन जी, रचना का प्रयास अच्छा है। विषय भी अच्छा है। कुछ टंकण त्रुटियाँ रह गयी हैं देखिएगा। शेष हार्दिक बधाई।"
Jun 2
Dayaram Methani commented on AMAN SINHA's blog post क्या रंग है आँसू का
"आदरणीय अमन सिन्हा जी, आंसुओं पर सुंदर रचना के लिए हार्दिक बधाई।"
Jun 2
सूबे सिंह सुजान commented on AMAN SINHA's blog post क्या रंग है आँसू का
"बहुत सुंदर कविता"
May 27
AMAN SINHA commented on नाथ सोनांचली's blog post अर्धांगिनी को समर्पित (दुर्मिल सवैया पर आधारित)
"आदरणीय  नाथ सोनांचली जी,  बहुत मनमोहक रचना हेतु बधाई।"
May 26
AMAN SINHA posted a blog post

क्या रंग है आँसू का

क्या रंग है आँसू का कैसे कोई बतलाएगा?सुख का है या दु:ख का है ये कोई कैसे समझाएगा?कभी किसी के खो जाने से, कोई कभी मिल जाए तो कभी कोई जो दूर हो गया, कोई पास कभी आ जाए तो किस भाव में कितना बहता, कोई ध्यान नहीं रखताहर हाल में इसका एक ही रंग है, फर्क ना कोई कर सकता कभी दर्द में बह जाता है, हंसी में भी ये दूर नहीं हम इस पर काबू कर पाये, ये इतना भी कमजोर नहीं हरेक काल में एक जैसा है, चाहे धूप या छाया हो भूखे पेट कोई हो या फिर, कई दिनों पर खाया हो पैसे कोई लूट ले जाए, या ज्यादा पैसा घर आ जाए दुनिया कोई…See More
May 25

Profile Information

Gender
Male
City State
KOLKATA
Native Place
KOLKATA
Profession
WRITER
About me
NEW WRITER

AMAN SINHA's Blog

मैं जताना जानता तो

मैं जताना जानता तो बन बैरागी यूं ना फिरता 

मेरे ही ख़िलाफ़ ना होता आज ये उसूल मेरा 

मैं ठहरना जानता तो बन के यूं भंवरा ना फिरता 

मेरे पग को बांध लेता फिर कोई अरमान मेरा 

 

मैं बताना जानता तो दाग़ लेकर यूं ना…

Continue

Posted on July 6, 2022 at 11:40am

किराए का मकान

दीवारें हैं छत हैं

संगमरमर का फर्श भी

फिर भी ये मकान अपना घर नहीं लगता

चुकाता हूँ

मैं इसका दाम, हर तारीख पहली…

Continue

Posted on July 1, 2022 at 11:30am

ले चल अपने संग हमराही

ले चल अपने संग हमराही, उन भूली बिसरी राहों में

जहां बिताते थे कुछ लम्हे हम एक दूजे की बाहों में 

चल चले उन गलियों में फिर थाम कर एक दूजे का हाथ 

क्या पता मिल जाए हमको फिर वो जुगनू की बारात 

जहां चाँद की मद्धिम बुँदे वादी से छन कर आती…

Continue

Posted on June 27, 2022 at 12:25pm

कब चाहा मैंने

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे नैना चार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मुझसा प्यार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मेरे जैसा इज़हार करो 

कब चाहा मैंने के तुम अपने प्रेम का इकरार करो 

कब चाहा मैंने के तुम मुझसे मिलने को तड़पो 

कब…

Continue

Posted on June 24, 2022 at 10:59am

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Dayaram Methani commented on Sushil Sarna's blog post बुढ़ापा .....
"आदरणीय सुशील सरना जी, बुढ़ापे पर अति सुंदर सृजन के लिए बधाई।"
5 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कालिख दिलों के साथ में ठूँसी दिमाग में - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"वाह भाई साहब वाह , बहुत खूब ..."
6 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"आप दोनो का बहुत बहुत शुक्रिया ....में कुछ सुधार करता हूं ... धन्यवाद मेरी जानकारी में वृद्धि करने…"
6 hours ago
Usha Awasthi posted a blog post

कुछ उक्तियाँ

कुछ उक्तियाँ उषा अवस्थी आज 'गधे' को पीट कर 'घोड़ा' दिया बनाय कल फिर तुम क्या करोगे जब रेंकेगा जाय?…See More
12 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

बुढ़ापा .....

बुढ़ापा ....तन पर दस्तक दे रही, ज़रा काल की शाम ।काया को भाने लगा, अच्छा  अब  आराम ।1।बीते कल की आज…See More
12 hours ago
Samar kabeer is now friends with Dayaram Methani and Kamal purohit
13 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post ग़ज़ल :- हज़रत-ए-'मीर' की ज़मीन में
"जनाब कमल पुरोहित जी आदाब, सुख़न नवाज़ीऔर आपकी महब्बत के लिए बहुत शुक्रिय: ।"
14 hours ago
Samar kabeer left a comment for Kamal purohit
"ख़ुश रहो ।"
15 hours ago
Kamal purohit commented on Samar kabeer's blog post ग़ज़ल :- हज़रत-ए-'मीर' की ज़मीन में
"वाह सर जी कमाल ग़ज़ल बेजोड़ काफ़िये इस मिसरे पर मैं सहमत नहीं (बेअदब हूँ अदब नहीं आता) इसके लिए मैं…"
16 hours ago
AMAN SINHA posted a blog post

मैं जताना जानता तो

मैं जताना जानता तो बन बैरागी यूं ना फिरता मेरे ही ख़िलाफ़ ना होता आज ये उसूल मेरा मैं ठहरना जानता तो…See More
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुन्दर मुक्तक हुए हैं । हार्दिक बधाई।"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
21 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service