For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Gajendra Dwivedi "Girish"
  • Male
  • bhilai (chhattisgarh)
  • India
Share
 

Gajendra Dwivedi "Girish"'s Page

Latest Activity

Gajendra Dwivedi "Girish" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 101 in the group चित्र से काव्य तक
"बहुत ही मनमोहक"
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 101 in the group चित्र से काव्य तक
"लाजवाब रचना"
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 101 in the group चित्र से काव्य तक
"बहुत सुन्दर"
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 101 in the group चित्र से काव्य तक
"ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 101 शक्ति छन्द पर एक प्रयास   जयहिंद   वतन पर लुटाने वो अनथक चले,     १२-२-१२२-१-२२-१२ अमर नाम उनका जो मन से ढले|    १२-२१-२२-१-२-२-१२ अकड़ते किसी पल कहीं वो…"
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" replied to Saurabh Pandey's discussion शक्ति छन्द के मूलभूत सिद्धांत // --सौरभ in the group भारतीय छंद विधान
"नवीन जानकारी के लिए हृदयतल से आभार आपका सौरभ जी."
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" joined Admin's group
Thumbnail

भारतीय छंद विधान

इस समूह में भारतीय छंद शास्त्रों पर चर्चा की जा सकती है | जो भी सदस्य इस ग्रुप में चर्चा करने के इच्छुक हों वह सबसे पहले इस ग्रुप को कृपया ज्वाइन कर लें !See More
Sep 21, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" commented on Admin's page Tool Box
"शीर्षक : नमन वीरों को हृदय शूल को और बढ़ाकर, कैसे शमन कर पाउँगा! अपने ही प्रत्यक्ष खड़े हों, कैसे दमन कर पाउँगा! द्वेष राग से दूर खड़ा मैं, अनथक सतत निभाऊंगा! फूटेगा जब अन्तस से फिर,  सबका हवन कर जाउंगा!!   माटी की सौगंध मुझे है, पग ना कभी…"
Sep 16, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" updated their profile
Sep 16, 2019
Gajendra Dwivedi "Girish" is now a member of Open Books Online
Aug 28, 2019

Profile Information

Gender
Male
City State
Bhilai 3 Chhattisgarh
Native Place
Dongargaon Dist Rajnandgaon (C.G.)
Profession
Service
About me
मन की बात को शब्दों में ढालना शौक है! व्याकर्नीय जानकारी पर ज्यादा जोर नहीं रहता!

शीर्षक : नमन वीरों को

हृदय शूल को और बढ़ाकर,

कैसे शमन कर पाउँगा!

अपने ही प्रत्यक्ष खड़े हैं तो,

कैसे दमन कर पाउँगा!

द्वेष राग से दूर खड़ा मैं,

अनथक सतत निभाऊंगा!

फूटेगा जब अन्तस से फिर, 

सबका हवन कर जाउंगा!!

 

माटी की सौगंध मुझे है,

पग ना कभी हटाऊंगा!

प्रलय गिरे हिमसागर से तो,

आरुणि सा अड़ जाउंगा!

जान की बाजी खेलकर भी,

देश की आन बचाऊंगा!

पैटन भी डर जाएगा जब मैं,

हमीद सा टकराऊँगा!

 

समझ देश का रक्षक मुझको, 

दुश्मन मार गिराऊंगा।

नहीं रहूंगा कहीं दुबक के, 

भाला बन टकराऊंगा।।

भूख-प्यास सब सहकर भी मैं, 

पग ना कभी हटाउंगा।

गर सीमा पर आये अकबर,  

मैं राणा बन जाऊँगा।1।

 

#गिरीश

#भिलाई_3

१६.०९.२०१९

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on रवि भसीन 'शाहिद''s blog post उस बेवफ़ा से (ग़ज़ल)
"आ. भाई रवि जी, सादर अभिवादन। उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई । मंच पर काफी दिनों बाद दिखाई दिये ।…"
7 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' and Om Prakash Agrawal are now friends
8 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( नहीं था इतना भी सस्ता कभी मैं....)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
10 hours ago
सालिक गणवीर posted a blog post

ग़ज़ल ( नहीं था इतना भी सस्ता कभी मैं....)

(1222 1222 122)नहीं था इतना भी सस्ता कभी मैं बशर हूँ ,था बहुत मंहगा कभी मैंअभी जिसने रखा है घर से…See More
10 hours ago
Rahul Verma is now a member of Open Books Online
10 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' posted a blog post

उस बेवफ़ा से (ग़ज़ल)

221 / 2121 / 1221 / 212उस बेवफ़ा से दिल का लगाना बहुत हुआमजबूर दिल से हो ये बहाना बहुत हुआ [1]छोड़ो…See More
10 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

मजदूर अब भी जा रहा पैदल चले यहाँ-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

२२१/२१२१/२२२/१२१२कहते भरे हुए हैं अब भण्डार तो बहुतलेकिन गरीब भूख से लाचार तो बहुत।१।**फिरता है आज…See More
10 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

सफेद कौवा(लघुकथा)

कौवा तब सफेद था।बगुलों के साथ आहार के लिए मरी हुई मछलियां, कीड़े वगैरह ढूंढ़ता फिरता। फिर बगुलों…See More
10 hours ago
सतविन्द्र कुमार राणा posted a blog post

नहीं अच्छा है यूँ मजबूर होना- ग़ज़ल

1222 1222 122 नहीं अच्छा है यूँ मजबूर होना दिखो नजदीक लेकिन दूर होना।कली का कुछ समय को ठीक है, पर…See More
10 hours ago
Rakshita Singh commented on विनय कुमार's blog post अब नहीं- लघुकथा
"आदरणीय विनय जी, नमस्कार बहुत ही सुंदर लघुकथा ... बहुत बहुत बधाई !"
11 hours ago
Rakshita Singh commented on Sushil Sarna's blog post रंग काला :
"आदरणीय सुशील जी नमस्कार,  बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ ...  वास्तव  में काले रंग की यह भी…"
11 hours ago
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post बेगैरत
"श्री "मुसाफिर" जी एवं "कबीर " साहब, समीक्षा के लिए धन्यवाद । "
11 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service