For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Neeta Tayal
Share on Facebook MySpace
 

Neeta Tayal's Page

Latest Activity

Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए
"aadardiya समीर सर जी ,बधाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया, टंकण त्रुटियों को सुधारने की पूरी कोशिश करूंगी"
Sep 17, 2020
Samar kabeer commented on Neeta Tayal's blog post अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए
"मुहतरमा नीता तायल जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें । टंकण त्रुटियों की तरफ़ जनाब हर्ष जी ने बता ही दिया है, मैं भी मोबाइल का ही प्रयोग करता हूँ मुझे तो ये परेशानी नहीं होती ।"
Sep 17, 2020
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Neeta Tayal's blog post वो बीता हुआ बचपन
"आ. नीता जी, अभिवादन। अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
Sep 17, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए
"आदरणीय सर, मैं मोबाइल से टाइपिंग करती हूं HT -EN version जिसमें ये ही आता है ,शायद इसलिए ये गलती बार बार हो रही है,आगे से ध्यान रखूंगी,आपके प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद"
Sep 16, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए
"आदरणीय सर, मैं मोबाइल से टाइपिंग करती हूं HT -EN version जिसमें ये ही आता है ,शायद इसलिए ये गलती बार बार हो रही है,आगे से ध्यान रखूंगी,आपके प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद"
Sep 16, 2020
Harash Mahajan commented on Neeta Tayal's blog post अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए
"आदरणीय नीता तयाल जी आदाब । अच्छे भाव लिए आपकी रचना । बहुत वहुत बधाई । कुछ शब्दों में टंकण पर ध्यान दीजियेगा । जैसे...हँसते हँसते/ख़ुशियाँ/यूँही/दुनियाँ ऐसे ही कुछ और । सादर ।"
Sep 16, 2020
Neeta Tayal posted a blog post

अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए

थम सी गई जिन्दगी सबकी, थोड़ी सी हलचल हो जाए। बोर हो गए इतने दिन से , क्यूं ना कुछ मस्ती हो जाए।।ख्वाहिश है मेरी बस, पहले की तरह सब कुछ हो जाए। बहुत हो गए घर में बंद, थोड़ा सैर सपाटा हो जाए।।याद रहेंगे ये पल भी, कैसे एक दूजे से दूर रहे। कहने को तो बहुत पास थे , फिर भी दीदार को तरस रहे।।ऑनलाईन तो मात्र एक जरिया था, जीवन में खुशियां लाने का। ऑनलाईन की इस दुनियां से, अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए।।अर्जी यही है मेरी बस प्रभु से, इतिहास इसे न फिर दोहराए। बड़े से बड़ा कोई भी संकट, हंसते हंसते यूूंही कट…See More
Sep 16, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post वो बीता हुआ बचपन
"आदरणीय सर जी आपके प्रोत्साहित शब्दों के लिए आपका भौत बहुत शुक्रिया"
Sep 15, 2020
Harash Mahajan commented on Neeta Tayal's blog post वो बीता हुआ बचपन
"वाह नीता तयाल जी बेहद सुंदर सृजन । आदरणीय समर कबीर जी ने तफ़सील जो बता दिया है  । सादर ।"
Sep 15, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post वो बीता हुआ बचपन
"आदरणीय सर जी , त्रुटियां बताने के लिए शुक्रिया,ऐसे ही आप बताते रहिएगा,क्योंकि जब तक हमें कोई गलती नहीं बतायेगा तब तक हम वो दोहराते रहेंगे।बहुत बहुत धन्यवाद आपका"
Sep 14, 2020
Samar kabeer commented on Neeta Tayal's blog post वो बीता हुआ बचपन
"मुहतरमा नीता तायल जी आदाब, अच्छी रचना लिखी आपने, बधाई स्वीकार करें । 'वो ममता के आंचल में, जाकर छुप जाऊं' इस पंक्ति में 'वो' की जगह "फिर" शब्द उचित होगा,विचार करें । इसके इलावा रचना में कुछ टंकण त्रुटियाँ…"
Sep 14, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post हिन्दी बोलने में ना सकुचेंगे
"आदरणीय सर बहुत बहुत शुक्रिया आपका,माफी चाहूंगी में आपकी सुन्दर रचनाओं पर अभिव्यक्ति प्रकट नहीं कर पाती"
Sep 13, 2020
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Neeta Tayal's blog post हिन्दी बोलने में ना सकुचेंगे
"आ. नीता जी, सुन्दर रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
Sep 13, 2020
Neeta Tayal posted a blog post

वो बीता हुआ बचपन

वो बीता हुआ बचपन , कहां से लाऊं? ना आज की चिन्ता , ना कल की फिकर, हरदम हरपल बस खुल के मुस्कुराऊं।। खेलूं कूदूं और जी भर के खाऊं। बीमारी के डर को, मैं भूल जाऊं।। स्कूल से घर और घर से स्कूल। के रास्ते भर दोस्तों से, जी भर बतियाऊं।। कभी रूठूं ,कभी मटकूं , नाज नखरे दिखाऊं। मम्मी से हर जिद, अपनी मनवाऊं।। वो ममता के आंचल में, जाकर छुप जाऊं। जिम्मेदारियों से कुछ पल, निजात मैं पाऊं।। नीता तायल मौलिक और अप्रकाशितSee More
Sep 13, 2020
Neeta Tayal commented on Neeta Tayal's blog post नाम आपका रोशन कर दूं
"आदरणीय सर जी ,आपके प्रोत्साहित शब्दों ने मुझ में एक नई ऊर्जा भर दी है"
Sep 12, 2020
Harash Mahajan commented on Neeta Tayal's blog post नाम आपका रोशन कर दूं
"आदरणीय नीता तयाल जी खूबसूरत आगाज़ किया है आपने । बहुत अच्छी रचना । दाद कबूल कीजियेगा ।"
Sep 12, 2020

Profile Information

Gender
Female
City State
Kasganj, Uttar Pradesh
Native Place
Agra
Profession
Housewife

Neeta Tayal's Blog

अब तो जीवन ऑफलाइन हो जाए

थम सी गई जिन्दगी सबकी,

थोड़ी सी हलचल हो जाए।

बोर हो गए इतने दिन से ,

क्यूं ना कुछ मस्ती हो जाए।।

ख्वाहिश है मेरी बस,

पहले की तरह सब कुछ हो जाए।

बहुत हो गए घर में बंद,

थोड़ा सैर सपाटा हो जाए।।

याद रहेंगे ये पल भी,

कैसे एक दूजे से दूर रहे।

कहने को तो बहुत पास थे ,

फिर भी दीदार को तरस रहे।।

ऑनलाईन तो मात्र एक जरिया था,

जीवन में खुशियां लाने का।

ऑनलाईन की इस दुनियां से,

अब तो जीवन ऑफलाइन…

Continue

Posted on September 15, 2020 at 10:30pm — 5 Comments

वो बीता हुआ बचपन

  • वो बीता हुआ बचपन , कहां से लाऊं? ना आज की चिन्ता , ना कल की फिकर, हरदम हरपल बस खुल के मुस्कुराऊं।। खेलूं कूदूं और जी भर के खाऊं। बीमारी के डर को, मैं भूल जाऊं।। स्कूल से घर और घर से स्कूल। के रास्ते भर दोस्तों से, जी भर बतियाऊं।। कभी रूठूं ,कभी मटकूं , नाज नखरे दिखाऊं। मम्मी से हर जिद, अपनी मनवाऊं।। वो ममता के आंचल में, जाकर छुप जाऊं। जिम्मेदारियों से कुछ पल, निजात मैं पाऊं।। नीता तायल मौलिक और अप्रकाशित

Posted on September 12, 2020 at 11:02pm — 5 Comments

हिन्दी बोलने में ना सकुचेंगे

"हिन्दी बोलने में ना सकुचेंगे"

हिन्दी मातृभाषा है मेरी,

फिर क्यूं बोलने में शरमाऊं।

पट पट पट पट अंग्रेजी बोलना,

क्यूं ही मैं हरदम चाहूँ।।

हिन्दी बोलूं तो गंवार लगूं,

जो अंग्रेजी बोलूं तो शान।

क्यूं हम हिन्दी होकर भी,

नहीं करते हिन्दी का सम्मान।।

विदेशी भारत आकर भी,

इंग्लिश में ही बातें करता।

फिर भारतीय विदेश में जाकर ,

क्यूं हिन्दी बोलने में है कतराता ।।

गीता का उपदेश भी कृष्ण ने ,

हिन्दी में ही सुनाया है।…

Continue

Posted on September 8, 2020 at 10:00am — 4 Comments

गुरू नमन

कच्ची मिट्टी का ढेला था,

छोटा सा जीव नादान था।

क्या सही और क्या गलत,

इस सबसे अनजान था।।



प्रथम गुरु मेरे मात पिता हैं,

चरणों में उनके नमन करूं।।

ज्ञान दिया है मुझको इतना,

शब्दों में कैसे बयां करूं?



नमन मेरा सभी गुरुओं को,

वंदन बारंबार है।

अज्ञानता के अन्धकार को मिटा,

फैलाया जीवन में प्रकाश है।



धन्यवाद उन मित्रों का भी,

जो हरदम मुझको ज्ञान हैं देते।

खेल खेल में सहज भाव से,

मुझमें नई ऊर्जा भर… Continue

Posted on September 3, 2020 at 3:27pm — 4 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 6:25pm on July 7, 2020, Neeta Tayal said…
मायका और ससुराल दोनों हैं तुल्य
नारी जीवन में दोनों ही बहुमूल्य
मायका वो है ,जहां बचपन बिताया
शादी के बाद, घर ससुराल का सजाया
मां बाप के जैसे, सास ससुर का प्यार
आशीर्वाद से उनके, खुल जाए किस्मत के द्वार
भाई समान मिलता, देवर का रिश्ता
कई मुश्किलों से उबारे ,वो बनकर फरिश्ता
बहन समान, प्यारी नखरीली नंद
भाभी हैं लड्डू, तो वो है कंद
प्यार करो दोनों से, बिल्कुल एक समान
झोली भरे खुशियों से और जिंदगी बने आसान
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Anjuman Mansury 'Arzoo' posted a blog post

ग़ज़ल - मैं अँधेरी रात हूंँ और शम्स के अनवर-से आप

2122 2122 2122 212मैं अँधेरी रात हूंँ और शम्स के अनवर-से आप शाम-सी मुझ में उदासी, सुब्ह के मंज़र-से…See More
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल - अभी बस पर ही टूटे हैं अभी अंबर नहीं टूटा
"आ. अंजुमन जी, अभिवादन। गजल का प्रयास अच्छा है हार्दिक बधाई।"
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

गीत -६ ( लक्ष्मण धामी "मुसाफिर")

रूठ रही नित गौरय्या  भी, देख प्रदूषण गाँव में।दम घुटता है कह उपवन की, छितरी-छितरी छाँव में।।*बीते…See More
14 hours ago
Anjuman Mansury 'Arzoo' posted a blog post

ग़ज़ल - अभी बस पर ही टूटे हैं अभी अंबर नहीं टूटा

1222 1222 1222 1222अभी बस पर ही टूटे हैं अभी अंबर नहीं टूटा परिंदा टूटा है बाहर अभी अंदर नहीं टूटा…See More
yesterday
AMAN SINHA posted a blog post

नर हूँ ना मैं नारी हूँ

नर हूँ ना मैं नारी हूँ, लिंग भेद पर भारी हूँपर समाज का हिस्सा हूँ मैं, और जीने का अधिकारी हूँ जो है…See More
Monday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"मिली मुझे शुभकामना, मिले प्यार के बोलभरा हुआ हूँ स्नेह से,दिन बीता अनमोलतिथि को अति विशिष्ट बनाने…"
Sunday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आ. भाई सौरभ जी को जन्मदिन की ढेरों हार्दिक शुभकामनाएँ ।।"
Saturday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

तिनका तिनका टूटा मन(गजल) - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

२२/२२/२२/२ सोचा था हो बच्चा मन लेकिन पाया  बूढ़ा मन।१। * नीड़  सरीखा  आँधी  में तिनका तिनका…See More
Saturday
आचार्य शीलक राम posted blog posts
Saturday
pratibha pande replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ आदरणीय सौरभ जी"
Saturday

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"दीर्घायुरारोग्यमस्तु,सुयशः भवतु,विजयः भवतु, जन्मदिनशुभेच्छाः"
Saturday

सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं आदरणीय सौरभ जी "
Saturday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service