For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Om Parkash Sharma
MySpace

Om Parkash Sharma's Friends

  • बृजेश कुमार 'ब्रज'
  • डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव
  • लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
  • Sushil Sarna

Om Parkash Sharma's Groups

 

Om Parkash Sharma's Page

Latest Activity

डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव and Om Parkash Sharma are now friends
Oct 30, 2021
Om Parkash Sharma posted a blog post

दोहे

1 सांसारिक कर्मों संग, याद रहे प्रभु नाम। ईश कृपा बनी रहे, बन जाएँ सब काम॥2.जैसा जैसा समय हो, वैसे होते काम।चिंता काहे हम करें, मदद करें श्री राम॥ 3.कोमल तन कटि क्षीण सी, सुंदर मोहक रूप।वेणी नागिन सी बनी, चंचल नयन अनूप ॥4.कर्म कमाई आपकी, बदले सब संस्कार।अनुचित अर्जित संपदा, हो दुख का आधार॥ 5.दुर्योधन ने कब  किया, मित्रोचित व्यवहार।दिया स्वार्थवश कर्ण को, अंग राज्य उपहार॥6बेटी विवाहित मत करें,प्रतिदिन सीख सलाह।बसते घर अब उजड़ते, बढ़े कलह अरु ढाह ॥7.मोबाइल पर दे रही ,माँ जब सीख सलाह ।मुश्किल घर तब…See More
Sep 8, 2021
Chetan Prakash commented on Om Parkash Sharma's blog post दोहे
"नमस्कार, शर्मा जी, 'सुन्दर उज्ज्वल रूप' तीसरे दोहे का सम चरण है, किन्तु मात्रा एं बारह हैं! ' बदले यहाँ संस्कार' चौथे दोहे का द्वितीय चरण, मात्राओं की संख्या तेरह है! 'मित्रोचित व्यवहार' पांचवा दोहा, द्वितीय चरण,…"
Sep 4, 2021
Samar kabeer commented on Om Parkash Sharma's blog post दोहे
"जनाब ओमप्रकाश जी आदाब, आपके दोहे अभी बहुत समय चाहते हैं, लिखना चाहते हैं, पहले भी आपकी बताया था,अगर आप दोहे लिखना चाहते हैं तो आपको इसका विधान पढ़ना होगा ।"
Sep 3, 2021
मनोज अहसास commented on Om Parkash Sharma's blog post दोहे
"आपने बहुत अच्छे दोहे लिखे आदरणीय सादर बधाई"
Sep 2, 2021
Om Parkash Sharma posted a blog post

दोहे

1 सांसारिक कर्मों संग, याद रहे प्रभु नाम। ईश कृपा बनी रहे, बन जाएँ सब काम॥2.जैसा जैसा समय हो, वैसे होते काम।चिंता काहे हम करें, मदद करें श्री राम॥ 3.कोमल तन कटि क्षीण सी, सुंदर मोहक रूप।वेणी नागिन सी बनी, चंचल नयन अनूप ॥4.कर्म कमाई आपकी, बदले सब संस्कार।अनुचित अर्जित संपदा, हो दुख का आधार॥ 5.दुर्योधन ने कब  किया, मित्रोचित व्यवहार।दिया स्वार्थवश कर्ण को, अंग राज्य उपहार॥6बेटी विवाहित मत करें,प्रतिदिन सीख सलाह।बसते घर अब उजड़ते, बढ़े कलह अरु ढाह ॥7.मोबाइल पर दे रही ,माँ जब सीख सलाह ।मुश्किल घर तब…See More
Sep 2, 2021
Om Parkash Sharma commented on Om Parkash Sharma's blog post चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।
"आदरणीय  Saurabh Pandey जी नमस्कार व उत्साहवर्धन तथा मार्गदर्शन के लिए आभार ।"
Sep 2, 2021
Om Parkash Sharma commented on Om Parkash Sharma's blog post चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।
"बृजेश कुमार 'ब्रज' जी दोहे पढ़ने और उस पर प्रतिक्रिया  देने के लिए धन्यवाद। 'बिन बोले दे सैन'  से अभिप्राय कुछ भी कहे बिना इशारे से समझाना। नायिका नाक के निकट आ  मुस्कुराई, नेत्र मटका कर इशारा किया, मुँह से एक…"
Sep 2, 2021
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Om Parkash Sharma's blog post चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।
"बढ़िया दोहे लगे आदरणीय शर्मा जी...कुछ दोहे समझ नहीं आये जैसे "बिन बोले दो सैन" का क्या अर्थ हुआ?"
Aug 26, 2021

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Om Parkash Sharma's blog post चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।
"आपके प्रयास हेतु हार्दिक शुभकामनाएँ, आदरणीय.  दोहा छंद पर आप सार्थक प्रयास करें, आपके दोहे विधानसम्मत हो जाएँगे.  शुभातिशुभ"
Aug 23, 2021
Om Parkash Sharma posted a blog post

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।साँसद संसद रोक के, करते वहाँ धमाल॥निज कर्मों के साथ ही, याद रहे प्रभु  नाम। ईश कृपा जब तो मिले, बनते सारे काम॥करे कमाई जिस तरह, वैसा रहे प्रभाव ।अर्जित धन अनुचित सदा, देता रहता घाव॥  न व्यक्तित्व हो एक सा,  अंतर होता मीत।विचार जिससे जब मिले, जग जाती तब प्रीत॥दो छोटों की बात पर, आप हमेशा ध्यान।उनके कथनो में मिले, कभी अनूठा ज्ञान॥छूट लूट का लाभ तो, सभी उठाते लोग।­­­­­ऐसी ही हालत रही, बढ़ सकता है रोग॥­­­­­­­ मुस्काई जाकर निकट, मटका दोनों नैन।समझा प्रियतम को गई, बिन…See More
Aug 17, 2021
Samar kabeer commented on Om Parkash Sharma's blog post नकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।
"जनाब ओमप्रकाश जी आदाब, दोहों पर आपका प्रयास अच्छा है,लेकिन अभी आपको इसके विधान का अध्यन करने की ज़रूरत है, ओबीओ पर इस पर आलेख मौजूद हैं,उनका लाभ लें, इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
Aug 16, 2021
Om Parkash Sharma posted a blog post

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।साँसद संसद रोक के, करते वहाँ धमाल॥निज कर्मों के साथ ही, याद रहे प्रभु  नाम। ईश कृपा जब तो मिले, बनते सारे काम॥करे कमाई जिस तरह, वैसा रहे प्रभाव ।अर्जित धन अनुचित सदा, देता रहता घाव॥  न व्यक्तित्व हो एक सा,  अंतर होता मीत।विचार जिससे जब मिले, जग जाती तब प्रीत॥दो छोटों की बात पर, आप हमेशा ध्यान।उनके कथनो में मिले, कभी अनूठा ज्ञान॥छूट लूट का लाभ तो, सभी उठाते लोग।­­­­­ऐसी ही हालत रही, बढ़ सकता है रोग॥­­­­­­­ मुस्काई जाकर निकट, मटका दोनों नैन।समझा प्रियतम को गई, बिन…See More
Aug 14, 2021
Om Parkash Sharma left a comment for Sushil Sarna
"आदरणीय सुशील सरना जी , सादर अभिवादन , आपके नाम और सावन पर लिखे सभी दोहे मन मोह गए । दोनों कविताएं 'मौसम को' व प्रश्न गंभीर भावों को लिए हुए है। साधुवाद । "
Aug 13, 2021
Om Parkash Sharma commented on Om Parkash Sharma's blog post दोहे
"Saurabh Pandey जी उत्साहवर्धन के लिए आपका हार्दिक आभार ।"
Aug 5, 2021

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Om Parkash Sharma's blog post दोहे
"आदरणीय ओमप्रकाश शर्मा जी, आपके रचना-प्रयास से संभवत: पहली बार दो-चार हो रहा हूँ क्या ?  तनिक सचेत रहें, तो दोहे छंद पर आपकी पकड़ बेहतर हो सकेगी.  इस मंच पर उपलब्ध दोहा छंद के विधान को पढ़ कर कृपया मनन करें. यह ही उचित…"
Aug 1, 2021

Profile Information

Gender
Male
City State
shimla
Native Place
shimla

Om Parkash Sharma's Blog

दोहे

सांसारिक कर्मों संग, याद रहे प्रभु नाम। 

ईश कृपा बनी रहे, बन जाएँ सब काम॥

2.

जैसा जैसा समय हो, वैसे होते काम।

चिंता काहे हम करें, मदद करें श्री राम॥ 

3.

कोमल तन कटि क्षीण सी, सुंदर मोहक रूप।

वेणी नागिन सी बनी, चंचल नयन अनूप ॥

4.

कर्म कमाई आपकी, बदले सब संस्कार।

अनुचित अर्जित संपदा, हो दुख का आधार॥ 

5.

दुर्योधन ने कब  किया,…

Continue

Posted on September 2, 2021 at 2:30pm — 3 Comments

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।

चुनकर संसद भेजते, उठें उचित सवाल।

साँसद संसद रोक के, करते वहाँ धमाल॥

निज कर्मों के साथ ही, याद रहे प्रभु  नाम। 

ईश कृपा जब तो मिले, बनते सारे काम॥

करे कमाई जिस तरह, वैसा रहे प्रभाव ।

अर्जित धन अनुचित सदा, देता रहता घाव॥  

न व्यक्तित्व हो एक सा,  अंतर होता मीत।

विचार जिससे जब मिले, जग जाती तब प्रीत॥

दो छोटों की बात पर, आप हमेशा…

Continue

Posted on August 13, 2021 at 8:30pm — 5 Comments

दोहे

कलयुग में ऋण के बिना, सरे न कोई काम।

बड़ी बड़ी जो हस्तियाँ , ऋण ले बनी तमाम ॥ 

टाँक पैबंद वस्त्र  में, तब ढकते थे लाज।

लोग प्रदर्शन कर रहे, उन्हें फाड़कर आज॥

मूर्ति मात्र साधन सदा, ध्यान लगाएँ नित्य।

निराकार ईश्वर सदा, देखता सबके कृत्य॥ 

मान पुरुष को दे भले, सामाजिक परिवेश।

घर पर तो चलता सदा, पत्नी का आदेश॥  

कर…

Continue

Posted on July 21, 2021 at 12:00am — 5 Comments

दोहे

सासु यहाँ घर पर करे, अब बाई का काम।

बहू सुबह है निकलती, आती है फिर शाम॥

.

शिक्षा सारी व्यर्थ है, व्यर्थ समझ सब ज्ञान।

पदवी पा करता नही, मात पिता सम्मान।।

.

शिक्षा जिसमें सीख हो, और श्रेष्ठ संस्कार।

जीवन को उज्ज्वल करे, सिखलाए व्यवहार॥

.

मेघ छटे अब खिल गई, यहाँ सुनहली धूप।

धुली धुली सी लग रही। मोहक प्रकृति अनूप॥

 .

हम चिंता निज की…

Continue

Posted on July 14, 2021 at 11:00pm

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-अलग है
"आदरणीय अवनीश जी सादर धन्यवाद"
19 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-अलग है
"आदरणीय अमीरुद्दीन जी सुधार किए हैं...हाँ मआनी के लिए कुछ उचित अभी कर नहीं पाया...लेकिन उसमें भी…"
19 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post राखी पर कुछ दोहे. . . .
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार आदरणीय जी । रक्षा बंधन की हार्दिक…"
19 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post राखी पर कुछ दोहे. . . .
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुन्दर दोहे हुए है। हार्दिक बधाई।"
22 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

राखी पर कुछ दोहे. . . .

राखी पर कुछ दोहे. . . .भाई बहिन के प्यार का, राखी है त्योहार ।पावन धागों में छुपी , बहना की मनुहार…See More
22 hours ago
Sushil Sarna and Anita Maurya are now friends
22 hours ago
Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post गज़ल
"कृपया मतले के सानी  मिसरे को  कुछ  यूँ  पढ़ें, " बहतर ख़ुदा क़सम …"
yesterday
Chetan Prakash commented on Awanish Dhar Dvivedi's blog post गज़ल
"कृपया, मतले के सानी  मिसरे  को कुछ  यूँ  पढ़ें :  " बहतर ख़ुदा क़सम…"
yesterday
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-अलग है

122     122     122     122हक़ीक़त जुदा थी कहानी अलग है सुनो ख़्वाब से ज़िंदगानी अलग  है ये गरमी की…See More
yesterday
Awanish Dhar Dvivedi posted photos
yesterday
Awanish Dhar Dvivedi posted blog posts
Wednesday
Chetan Prakash posted a blog post

गज़ल

गज़ल221 2121 1221 212उम्मीद अब नहीं कोई वो दीदावर मिले बहतर खुुदा कसम वही चारागर मिले ( मतला )लगता…See More
Wednesday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service