For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

pratibha tripathi
Share

Pratibha tripathi's Friends

  • सुरेश कुमार 'कल्याण'
  • gaurav bhargava
  • Nisha
  • Prashant Priyadarshi
  • डिम्पल गौड़ 'अनन्या'
  • maharshi tripathi
  • Hari Prakash Dubey
  • Manan Kumar singh
  • khursheed khairadi
  • Dr. Vijai Shanker
  • डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव
  • umesh katara
  • लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
  • Sulabh Agnihotri
  • Madan Mohan saxena
 

Welcome, pratibha tripathi!

Latest Activity

Samar kabeer commented on pratibha tripathi's blog post किस पर हक़ जताऊं
"मोहतरमा प्रतिभा पांडे जी,आदाब,बहुत अच्छी लगी आपकी यह कविता,इस प्रस्तुति पर दिल से बधाई स्वीकार करें ।"
Sep 25, 2016
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on pratibha tripathi's blog post किस पर हक़ जताऊं
"matr shakti ko apne par bharosaa rakhnaa chahiye . saadar /"
Sep 25, 2016
pratibha tripathi posted a blog post

किस पर हक़ जताऊं

मैं बिकी नहीं थी फिर भी मेरे खरीदार थे वोमेरी देह आत्मा अभिलाषा सबके हक़दार थे वोकिसी ने नुमाइश की ,किसी ने पसंद कियाकिसी ने भर दी मांग बेपनाह हसरतों सेकिसी ने दरकार की वारिस कीकिसी ने छोड़ दिया अनाथों की तरहकिसी ने पुछा तो बस स्वार्थ को भरमायान किसी ने अपना समझा न मुझे अपनायाइस दहलीज़ से उस दहलीज़ पर मेरा एकइंच भी नहीं अपनाकिस पर हक़ जताऊं ,मैं किस घर जाऊँजिसने मुझे बोझ समझा या जिसनेमुझे रिश्तों का बोझ ढोंने वाली ।किसी ने न समझा मुझे इक जीवनकिसी ने नेह की बूँद भी न देनी चाहीबस चाहा तो सिर्फ मुझसे…See More
Sep 24, 2016
Rahila commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"वाह...बहुत शानदार ग़ज़ल ।बहुत बधाई आपको!सादर"
Aug 25, 2016
धर्मेन्द्र कुमार सिंह commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"खूबसूरत ग़ज़ल हुई है आदरणीया प्रतिभा जी, दाद कुबूल कीजिए"
Aug 25, 2016
pratibha tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल - वो दिल मांगते दिल बसाने से पहले
"शानदार ग़ज़ल बधाई ।"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल - मेरे दर्दे गम की कहानी न पूछो
"बहुत खूब बधाई सादर।"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on rajesh kumari's blog post पकड़कर हाथ राधा का चले जो नूर का बेटा (फिल्बदीह ग़ज़ल 'राज '
"आदरणीया राजेश कुमारी जी आपकी ग़ज़ल अद्भुत है अलग और यथार्थ है 5वां शेर तो बहुत ही लाजवाब है ।दाद कुबूल कीजे सादर"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल - गुड़ मिला पानी पिला महमान को ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय सर ग़ज़ल बेहतरीन हुई है इसके साथ शब्दों का प्रयोग भी सुन्दर किया हम जैसे काम जानकार को कुछ सीखने को मिले शब्द ।मुबारक हो सादर"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on Manan Kumar singh's blog post गजल (पुरस्कारों को इंगित) (मनन)
"आदरणीय मनन सर बहुत खूब ग़ज़ल लिखी एक एक शेर का अर्थ पूरा इंसाफ कर रहा है ग़ज़ल के साथ मतले की खूबसूरती ही ग़ज़ल में चार चांद लगा रही है । मुबारक हो सर"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"आदरणीय गिरिराज सर आपकी इस्लाह के लिए आभार 8 वें शेर को ख़ारिज ही कर लेती हूँ इसके बिना भी ग़ज़ल मुकम्मल हो रही है ,साथ ही आप सही कह रहे है बदलाव आया है बेटियों के लिए सोच में किन्तु मैंने अपने बचपन से यही भेदभाव देखा झेला है उस घर और ससुराल में भी और…"
Aug 24, 2016
pratibha tripathi commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"आदरणीय गोपाल सर बहुत बहुत आभारी हूँ ।आपकी प्रेरणावर्धक प्रतिक्रिया के लिए सादर।"
Aug 24, 2016
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"बेहतरीन --- कुछ गलतियां तो उस्तादों से भी हो जाती हैं कभी कभी . सादर"
Aug 23, 2016
Samar kabeer commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"आपने आठवें शैर का सानी मिसरा बदलने में जल्दी की,मैने ये मिसरा तजवीज़ किया था:- "कब हमारे सीने पे तमग़ा लगाया जायेगा" "बुलाया जाएगा"ठीक नहीं,पुकारा होना चाहिए,जो क़ाफ़िया नहीं बन सकता ।"
Aug 23, 2016
pratibha tripathi posted blog posts
Aug 23, 2016
pratibha tripathi commented on pratibha tripathi's blog post बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ
"आदरणीय समर कबीर जी ग़ज़ल को ग़ज़ल कहने की हिमाक़त नहीं कर पाती आप सभी गुनी जनों के आगे किन्तु जो कुछ भी ही लिखते लिखते ही सुधार आसकता है आठवें शेर को ख़ारिज मान भी लूँ तब सही क्या होगा बताने की कृपा करे सादर ।आप सभी की इतनी कृपा भी मुझे ग़ज़ल लिखने के लिए…"
Aug 23, 2016

Profile Information

Gender
Female
City State
Ghaziabad
Native Place
jhansi
Profession
house wife
About me
writing gazal &poetry,singing ,dansing,

मन का दुस्साहस

मन का दुस्साहस

तो देखो।

नापना चाहता है ,

आकाश की ऊंचाई ,सागर की गहराई ,

और

पृथ्वी पर अपनी परछाईं  । 

वो सब कुछ जो ,

उसकी पहुँच से दूर है ,असीमित है । 

चौतरफ़े विचार उसे ,

बरगलाना चाहते है । 

और वो है कि,

एक हाथ से नापता ,

और दूसरे पोरों पर गिनता जा रहा है । 

जैसे उसे अनुमान ही नहीं ,

कि असंभव भी कुछ होता है । 

'मन ' ये जानकर भी यह 

जानना नहीं चाहता । 

क्यूंकी वो तो भली भांति 

समझता है कि

शरीर में दो हाथ  और उँगलियाँ । 

और उँगलियों में पोरे तो 

सीमित हो सकते है । 

किन्तु उँगलियों कि थिरकन ,

विश्वास का आयाम ,

आँखों कि दृष्टि सीमित नहीं ।

बस एक असीमित लगन से ,

उपजा एक साहस है । 

कि वो गगन सा विशाल ,

समुद्र सा गहरा और 

पृथ्वी सा ठहरा ,

बना लेगा स्वयं को । 

 मौलिक व  अप्रकाशित 

   प्रतिभा 

pratibha tripathi's Photos

  • Add Photos
  • View All

Pratibha tripathi's Blog

किस पर हक़ जताऊं

मैं बिकी नहीं थी फिर भी मेरे खरीदार थे वो

मेरी देह आत्मा अभिलाषा सबके हक़दार थे वो

किसी ने नुमाइश की ,किसी ने पसंद किया

किसी ने भर दी मांग बेपनाह हसरतों से

किसी ने दरकार की वारिस की

किसी ने छोड़ दिया अनाथों की तरह

किसी ने पुछा तो बस स्वार्थ को भरमाया

न किसी ने अपना समझा न मुझे अपनाया

इस दहलीज़ से उस दहलीज़ पर मेरा एक

इंच भी नहीं अपना

किस पर हक़ जताऊं ,मैं किस घर जाऊँ

जिसने मुझे बोझ समझा या जिसने

मुझे रिश्तों का बोझ ढोंने वाली ।

किसी ने… Continue

Posted on September 23, 2016 at 6:12pm — 2 Comments

बेटियां है रौशनी रौशन करें सारा जहाँ

बेटियों को कोख में कब तक गिराया जाएगा

क़त्ल का ये सिलसिला कब तक चलाया जायेगा ।



कब तलक लड़ते रहें हम अपने ही अस्तित्व को

फ़ासला यह सोच का कब तक निभाया जायेगा ।



हम ही चाहत और रहमत को तरसते क्यों रहें

कब हमें सबके बराबर में बिठाया जायेगा ।



हम तो घर की खूबसूरत चीज़ बनकर रह गए

कब हमें भी फैसलों में हक़ दिलाया जाएगा ।



हम हमारी हसरतों की थैलियाँ क्यूँ फेंक दें

कब हमारे ख्वाब को सर पर उठाया जाएगा ।



आज इस दहलीज़ पर तो कल किसी… Continue

Posted on August 23, 2016 at 10:00am — 9 Comments

लम्हा लम्हा -गीत

लम्हा लम्हा तेरी यादों में बिताया हमने ।

तिनका तिनका खोये लम्हों को चुराया हमने ।

कभी रोये कभी हंसकर तुझे महसूस किया

कतरा कतरा तेरे वादों को निभाया हमने ।



साथ रहकर भी न तुम जान सके

मेरी आदत को न पहचान सके

कभी रूठे कभी मुझको ही नाराज़ किया

कतरा कतरा तेरे नखरों को उठाया हमने



जितना चाहा है मेरे दिल ने तुम्हें

उतना पाया है मेरे दिल ने तुम्हे

कभी तूने यही दिल तोड़कर मायूस किया

कतरा कतरा इन्हीं टुकड़ों को बचाया हमने



फिर भी…

Continue

Posted on July 28, 2016 at 4:00pm — 8 Comments

नफरत का सैलाब दबाकर देख ज़रा [22 22 22 22 22 2]

नफरत का सैलाब दबाकर देख ज़रा

दिल से इक आवाज़ लगाकर देख ज़रा ।

तनहाई भी एक मसर्रत देती है

कुछ रिश्तों से हाथ छुड़ाकर देख ज़रा ।

मरते मरते जीवन को कुछ जी लेगा

एक हसीं एहसास बसाकर देख ज़रा ।

जीवन की हर मुश्किल हल हो जाती है

चेहरे पर मुस्कान खिलाकर देख ज़रा ।

धरती प्यासी रूठ गए हैं बादल…

Continue

Posted on July 10, 2015 at 12:00am — 9 Comments

Comment Wall (15 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:29am on July 14, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…
आदरणीया प्रतिभा त्रिपाठी जी ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें।
At 8:42am on May 24, 2015, pratibha tripathi said…

मित्रो आज इतने अंतराल के बाद इस मंच पर आई हूँ तो सबसे पहले इस मंच को प्रणाम करती हूँ ।  आप सभी को सुप्रभात मित्रों मेरा स्वस्थ्य काफी दिनो से ठीक न चलने के  कारण मैं अपनी पोस्ट पर भी न आ सकी आप सभी से इसके लिए क्षमा चाहती हूँ । मैं आजसे 15 दिन पहले हॉस्पिटल मे अपने maigrain के दर्द से पीढ़ित थी 5 दिन admit रहने के बाद विश्राम ही कर रही हूँ ,सर दर्द की वजह से ज़्यादा laptop पर काम  नहीं कर पा रही थी ,किन्तु अब ayurvaidik उपचार ले रही हूँ आराम भी है ,आप सभी के स्नेह भरे comment देखकर प्रसन्न हूँ आशा करती हूँ की काव्यात्मक निखार और सुधार करने का और प्रयास करुगीऔर  आप सभी को बेहतर रचनाए देने की पूरी कोशिश करूंगी । आप ऐसे ही स्नेह बनाए रखिए । धन्यवाद 

At 12:33pm on May 1, 2015, Madan Mohan saxena said…

Nice Poems & Pictures too. keep sharing

At 7:46am on April 18, 2015, pratibha tripathi said…

सभी को सुप्रभात ,   कृष्णा मिश्रा भाई जी आपको महीने के सक्रिय सदस्य होने की हार्दिक शुभकामनाए । आदरणीय मोहन सेठी जी को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना के लिए मनोनीत होने पर बहुत बहुत शुभकामनाए । 

At 5:55am on March 21, 2015, Dr. Vijai Shanker said…
आपका स्वागत है। सादर ।
At 9:02pm on March 6, 2015, pratibha tripathi said…

आप सभी ओ बी ओ सदस्यों और मित्रों को मेरे और मेरे परिवार की ओर से होली की बहुत शुभकामनायें । ये होली  आपके जीवन और मन को रंग दे बस इसी कामना के साथ आप सभी को होली शुभ हो । 

At 8:06pm on February 20, 2015, khursheed khairadi said…

आदरणीया प्रतिभा जी ,हार्दिक बधाई स्वीकार करें |सादर अभिनंदन |

At 5:59pm on February 18, 2015, maharshi tripathi said…

आ. प्रतिभा जी आपकी कविता को महीने की  सर्वश्रेष्ठ रचना चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई| 

At 4:48pm on February 17, 2015, डिम्पल गौड़ 'अनन्या' said…

आदरणीया प्रतिभा जी,  आपको हार्दिक बधाई |

At 3:22pm on February 17, 2015, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

क्रपया वकाला  को' व् कला ' पढ़े i सादर i

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Abha saxena Doonwi updated their profile
8 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

अहसास .. कुछ क्षणिकाएं

अहसास .. कुछ क्षणिकाएंछुप गया दर्द आँखों के मुखौटों में मुखौटे सिर्फ चेहरे पर नहीं हुआ…See More
10 hours ago
Sushil Sarna commented on TEJ VEER SINGH's blog post दूरदृष्टि -  लघुकथा  -
"खुली सोच का प्रदर्शन करती इस सुंदर लघु कथा के लिए हार्दिक बधाई आदरणीय तेज वीर सिंह जी।"
11 hours ago
Sushil Sarna commented on vijay nikore's blog post आज फिर ...
"भटक गई हवायों को पलटने दो आज फिर प्यार के दर्द के पन्ने प्यार जो पागल-सा तैर-तैर दीप्त आँखों में…"
11 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post ये भँव तिरी तो कमान लगे----ग़ज़ल
"आदरणीय बाऊजी इस ग़ज़ल को सुधारता हूँ, शीघ्र ही"
yesterday
amod shrivastav (bindouri) posted a blog post

उसने इतना कह मुझे मेरी ग़लतियों को रख दिया (ग़जल)

बहर.2122-2122-2122-212एक दिन उसने मेरी खामोशियों को रख दिया ।।मेरे पेश-ए-आईने मे'री' हिचकियों को रख…See More
yesterday
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' posted a blog post

बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्बा सालिम (ग़ज़ल)

ग़ज़ल (वो जब भी मिली)बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्बा सालिम (12112*2)वो जब भी मिली, महकती मिली,गुलाब सी वो, खिली…See More
yesterday
vijay nikore posted a blog post

आज फिर ...

आज फिर ... क्या हुआथरथरा रहादुखात्मक भावों कातकलीफ़ भरा, गंभीरभयानक चेहराआज फिरदुख के आरोह-अवरोह…See More
yesterday
Gurpreet Singh posted a blog post

दो ग़ज़लें (2122-1212-22)

1.शमअ  देखी न रोशनी देखी । मैने ता उम्र तीरगी देखी । देखा जो आइना तो आंखों में, ख़्वाब की लाश तैरती…See More
yesterday
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post दूरदृष्टि -  लघुकथा  -
"हार्दिक आभार आदरणीय समर क़बीर साहब जी।आदाब आदरणीय।"
yesterday
Samar kabeer commented on TEJ VEER SINGH's blog post दूरदृष्टि -  लघुकथा  -
"जनाब तेजवीर सिंह जी आदाब,अच्छी लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
yesterday
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है,बधाई स्वीकार करें । 'नौकरी मत …"
yesterday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service