For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सुचिसंदीप अग्रवालl
  • Female
  • Tinsukia
  • India
Share

सुचिसंदीप अग्रवालl's Friends

  • Aazi Tamaam
  • DR ARUN KUMAR SHASTRI
  • बृजमोहन स्वामी 'बैरागी'
  • बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
  • सुरेश कुमार 'कल्याण'
  • बृजेश कुमार 'ब्रज'

सुचिसंदीप अग्रवालl's Groups

 

सुचिसंदीप अग्रवालl's Page

Latest Activity

सुचिसंदीप अग्रवालl is now friends with DR ARUN KUMAR SHASTRI, बासुदेव अग्रवाल 'नमन' and Aazi Tamaam
Monday
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s discussion लावणी छन्द (ईश गरिमा) in the group धार्मिक साहित्य
"बेजोड़ शब्दों का प्रयोग करते हुए बहुत ही मनभावक ईश वंदना हुई है। बधाई स्वीकारें।"
Monday
सुचिसंदीप अग्रवालl added a discussion to the group बाल साहित्य
Thumbnail

#लावणी छन्द,पर्यायवाची शब्द याद करने का आसान उपाय

फूल,कुसुम या पुष्प,सुमन हो,चन्दन,मलयज,मलयोद्भव।आराधन,पूजा,उपासना,कृष्ण,मुरारी,मधु,माधव।कृपा,दया,अनुग्रह,करुणा की,चाह,कामना,अभिलाषा।अम्बा,दुर्गा,देवी,मैया,सरस्वती,वाणी,भाषा।लक्ष्मी,कमला,रमा,मंगला,गणपति,शिवसुत भी आओ,आंजनेय,बजरंगबली,हनु,धन,दौलत,संपत्ति लाओ।सुरतरंगिणी,सुरसरि,गंगा,जैसे स्नेहस,घी,घृत है।नद,सरि,सरिता,नदी,आपगा,अमिय,सुधा,मधु,अमृत है।सागर,अर्णव,जलनिधि,वारिधि,व्योम,गगन,अम्बर,नभ भी।पर्वत,अचल,शैल,नग,भूधर,पूज्य,मान्य,श्रद्धेय सभी।भूतल,धरती,वसुधा पर जब,भानु,अरुण,दिनकर चमके,जग,महितल,दुनिया,भुव …See More
Monday
सुचिसंदीप अग्रवालl joined Admin's group
Thumbnail

बाल साहित्य

यहाँ पर बाल साहित्य लिखा जा सकता है |
Monday
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to सुचिसंदीप अग्रवालl's discussion पञ्चचामर छन्द, श्री हनुमान वंदना in the group धार्मिक साहित्य
"पप्रोत्साहन हेतु हार्दिक आभार आपका भैया।"
Monday
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to सुचिसंदीप अग्रवालl's discussion पञ्चचामर छन्द, श्री हनुमान वंदना in the group धार्मिक साहित्य
"शुचि बहन पंच चामर छंद में बहुत ही ओज पूर्ण हनुमत वंदना की बधाई।"
Monday
सुचिसंदीप अग्रवालl added a discussion to the group धार्मिक साहित्य
Thumbnail

पञ्चचामर छन्द, श्री हनुमान वंदना

उपासना करें सभी,महाबली कपीश की,विराट दिव्य रूप की,दयानिधान ईश की।कराल काल जाल से, प्रभो उबार लीजिये,अपार भक्ति दान की,कृपा सदैव कीजिये।प्रदीप्त बाल सूर्य को,मुखारविंद में लिया,पराक्रमी अबोध ने,डरा सुरेन्द्र को दिया।किया प्रहार इंद्र ने,अचेत केशरी हुये,प्रकोप वायु देव का,अधीर देवता हुये।प्रसंग राम भक्त के,अतुल्य हैं,महान हैं,विशुद्ध धर्म-कर्म के,अनेक ही बखान हैं।अजेय शौर्य भक्ति का,प्रतीक आप ही बने,प्रबुद्ध ज्ञान आपमें,समृद्ध धाम हैं घने।मृदंग-शंखनाद ले,सुकंठ प्रार्थना करें,विभोर भव्य आरती,अखण्ड…See More
Sunday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on सुचिसंदीप अग्रवालl's blog post "करो उजागर प्रतिभा अपनी"
"आ. सुचिसंदीप जी, अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई।"
Sunday
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-73
"जी, सही सुझाव दिया है आपने भाई शेख जी। "
Apr 30
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-73
"उत्साहवर्धन हेतु अतिशय आभार भाई लक्ष्मण जी।"
Apr 30
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-73
"प्रोत्साहन हेतु हार्दिक आभार बबिता जी।"
Apr 30
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-73
"*आदर्श चोर* "इसमें कोरोना के इंजेक्शन हैं,हम भूलवश ये बक्से चुरा कर ले गये थे,सॉरी"पुलीस चौकी के बाहर पड़े कुछ बॉक्स पर यह पर्ची चिपकी देखकर इंस्पेक्टर सत्यार्थ और एक सहकर्मी होठों पर अचंभित मुस्कान लिए सामान का निरीक्षण करने लगे।"वो…"
Apr 29
सुचिसंदीप अग्रवालl replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-73
"वाहः बहुत ही अच्छी लघुकथा भाई मनन जी। शिक्षाप्रद कथानक।"
Apr 29
सुचिसंदीप अग्रवालl commented on सुचिसंदीप अग्रवालl's blog post "करो उजागर प्रतिभा अपनी"
"उत्साहवर्धन हेतु हार्दिक आभार बासुदेव भैया।"
Apr 29
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' commented on सुचिसंदीप अग्रवालl's blog post "करो उजागर प्रतिभा अपनी"
"शुचि बहन बहुत ही सुंदर आत्म बल जगाती हुई कविता की बधाई।"
Apr 29
Aazi Tamaam commented on सुचिसंदीप अग्रवालl's blog post "करो उजागर प्रतिभा अपनी"
"सादर प्रणाम आ सुचसंदीप जी बेहद उत्तम रचना है बधाई स्वीकारें सादर"
Apr 28

Profile Information

Gender
Female
City State
Tinsukia (Assam)
Native Place
Tinsukia
Profession
House wife
About me
नाम - सुचिता अग्रवाल, "सुचिसंदीप" जन्म स्थान - 26.11.1969 सुजानगढ़,राजस्थान सम्प्रति- 'अनुराग हाउस', चालिहा नगर, सेक्टर 3, बाई लेन 3, अथवा 'अनुराग' जी एन बी रोड पो.ओ. तिनसुकिया (असम) 786125 लेखन विधा- कविता, गीत प्रकाशित कृति- "दर्पण"(काव्य संग्रह) सदस्य- नारायणी साहित्य अकादमी तिनसुकिया के सचिव पद पर कार्यरत। email: suchisandeep2010@gmail.com

सुचिसंदीप अग्रवालl's Blog

"करो उजागर प्रतिभा अपनी"

प्रतिभा छुपी हुई है सबमें,करो उजागर,

अथाह ज्ञान,गुण, शौर्य समाहित,तुम हो सागर।

डरकर,छुपकर,बन संकोची,रहते क्यूँ हो?

मन पर निर्बलता की चोटें,सहते क्यूँ हो?

तिमिर चीर रवि द्योत धरा पर ले आता है।

अंधकार से डरकर क्यूँ नहीं छिप जाता है?

पराक्रमी राहों को सुलभ सदा कर देते,

आलस प्रिय जिनको,बहाने बना ही लेते।

तंत्र,मन्त्र,ज्योतिष विद्या,कर्मठ के संगी,

भाग्य भरोसे जो बैठे वो सहते तंगी।

प्रबल भुजाओं को खोलो,प्रशंस्य बनो,…

Continue

Posted on April 27, 2021 at 3:00pm — 5 Comments

हास्य कुंडलिया

(1)

सारे घर के लोग हम, निकले घर से आज

टाटा गाड़ी साथ ले, निपटा कर सब काज।

निपटा कर सब काज, मौज मस्ती थी छाई

तभी हुआ व्यवधान, एक ट्रक थी टकराई।

ट्रक पे लिखा पढ़ हाय, दिखे दिन में ही तारे

'मिलेंगे कल फिर बाय', हो गए घायल सारे।।

(2)

खोया खोया चाँद था, सुखद मिलन की रात

शीतल मन्द बयार थी, रिमझिम सी बरसात।

रिमझिम सी बरसात, प्रेम की अगन लगाये

जोड़ा बैठा साथ, बात की आस लगाये।

गूंगा वर सकुचाय, गोद में उसकी सोया

बहरी दुल्हन पाय, चैन जीवन का…

Continue

Posted on January 17, 2019 at 4:23pm — 9 Comments

इज्जत

*इज्जत*

(ताटंक छन्द)

इज्जत देना जब सीखोगे, इज्जत खुद भी पाओगे,

नेक राह पर चलकर देखो, कितना सबको भाओगे।

शब्द बाँधते हर रिश्ते को, शब्द तोड़ते नातों को।

मधुर भाव जो मन में पनपे, बहरा समझे बातों को।

तनय सुता वनिता माता सब,भूखे प्रेम के होते हैं,

कड़वाहट से व्यथित होय ये, आँसू पीकर सोते हैं।

इज्जत की रोटी जो खाते, सीना ताने जीते हैं,

नींद चैन की उनको आती, अमृत सम जल पीते हैं।

नारी का गहना है इज्जत, भावों…

Continue

Posted on January 10, 2019 at 4:48pm — 3 Comments

गजल

2122 2122 2122 212

प्यार का तुमने दिया मुझको सिला कुछ भी नहीं,

मिट गये हम तुझको लेकिन इत्तिला कुछ भी नहीं।

कोख में ही मारकर मासूम को बेफ़िक्र हैं,

फिर भी अपने ज़ुर्म का जिनको गिला कुछ भी नहीं।



राह जो खुद हैं बनाते मंजिलों की चाह में ,

मायने उनके लिए फिर काफिला कुछ भी नहीं।

हौंसले रख जो जिये पाये सभी कुछ वे यहाँ,

बुज़दिलों को मात से ज्यादा मिला कुछ भी नहीं।

ज़िंदगी चाहें तो बेहतर हम बना सकते यहाँ,

ज़ीस्त में…

Continue

Posted on January 7, 2019 at 8:02pm — 13 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 5:34pm on November 22, 2016,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा व  लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi"'s blog post दोहे
"आ. आकांशी जी, सुन्दर दोहे हुए हैं । हार्दिक बधाई ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post अब हो गये हैं आँख वो भूखे से गिद्ध की- लक्ष्मण धामी'मुसाफिर'
"आ. भाई आज़ी तमाम जी, हार्दिक धन्यवाद।"
14 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मानता हूँ तम गहन सरकार लेकिन-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई विजय शंकर जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
14 hours ago
C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi" commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post सबसे बड़े डॉक्टर (लघुकथा): डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव
"आदरणीय डॉ गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी, आपकी सार्थक लघुकथा पढ़कर बहुत ख़ुशी हुई | वर्तमान में इस प्रकार…"
16 hours ago
C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi" and Pratibha Pandey are now friends
16 hours ago
C.M.Upadhyay "Shoonya Akankshi" posted a blog post

दोहे

देना दाता वर यही, ऐसी हो पहचान | हिन्दू मुस्लिम सिक्ख सब, बोलें यह इंसान ||. कभी धूप कुहरा घना, कभी…See More
21 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मानता हूँ तम गहन सरकार लेकिन-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी , अत्यंत मार्मिक , सामयिक प्रस्तुति के लिए अनेकानेक बधाइयां , सादर।"
yesterday
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post विसंगति —डॉo विजय शंकर
"आदरणीय लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी , आपकी रचना पर उपस्थिति एवं सराहना के लिए ह्रदय से आभार एवं धन्यवाद…"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Dr. Vijai Shanker's blog post विसंगति —डॉo विजय शंकर
"आ. भाई विजय जी, सादर अभिवादन । अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हम तो हल के दास ओ राजा-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. अमिता जी, गजल पर उपस्थिति व स्नेह के लिए आभार ।"
yesterday
amita tiwari commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हम तो हल के दास ओ राजा-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"पीता  हर  उम्मीद  हमारीकैसी तेरी प्यास ओ राजा बहुत उत्तम ,बहुत सटीक  गागर मे…"
Wednesday
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' updated their profile
Wednesday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service