For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

नहीं माँगता जीवन अपना, पर बेवजह मुझको काटो ना

जो ना आये जहां में अब तक, उनके लिए भी वृक्ष छोड़ो ना ||

 

नहीं रहेगा जहर हवा में, पेड़ पौधो को लगा दो ना

वायु प्रदूषण नाम ना होगा, बारे आक्सीजन के भी सोचो ना ||

 

पृकृति का संतुलन बना रहे यूं, करना खिलवाड़ उससे छोड़ो ना

मन, स्वास्थ्य बिगड़ जाएगा, जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ो ना ||

 

वायु प्रदूषण एक विकट समस्या, इसका समाधान कुछ खोजो ना

आक्सीजन की किल्लत भारी, फिर से वन उपवन लगा दो ना ||

 

अपना जीवन तो कट जाएगा, स्वार्थ को अपने छोड़ो ना

नयें वृक्षों की पौध लगा कर, अभियान वृक्षारोपण का छेड़ों ना ||

 

नई पीढ़ी हमे गाली ना दे, एक स्वच्छ वातावरण तो छोड़ो ना

स्वस्थ, सफल जीवन हो नई पीढ़ी का, उसे, ये मनभावन सौगात दे दो ना ||

 

रंग बिरंगे फूल लगाकर, भू-धरा को फिर से सजा दो ना

वृक्ष लगे एक भव्य मुकुट सा, ओढ़नी हरियाली की ऊढ़ा दो ना ||

 

महक उठे जग ये सारा, लहर पेड़-पौधो की चला दो ना

स्वागत करने नई पीढ़ी का, भीनी-भीनी खुशबू फैला दो ना ||

 

याद करेगी तेरे कर्म को, कोई अमूल्य उपहार तो छोड़ो ना

एक वृक्ष की पुकार को सुनकर यारों, मूहीम वृक्षारोपण की चला दो ना ||

मौलिक व अप्रकाशित 

 

Views: 64

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on December 5, 2020 at 4:40pm

आ. भाई फूलसिंह जी, सादर अभिवादन । अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।

Comment by Samar kabeer on December 4, 2020 at 5:12pm

जनाब फूल सिंह जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"कोई अपना न हो तन्हाई ही तन्हाई हो,कैसे जीये कोई जब जान पे बन आई हो। ऐसे हँस कर गले मिलते हैं मेरे…"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"प्रिय, अभी समय है, इसे सुधारने का यहीं प्रयास करें ।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"2122 1122 1122 22 1 मैं नहीं कहती हूँ तुम झूठे हो हरजाई हो पर कहीं बातों में थोड़ी सी तो सच्चाई…"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय रिचा यादव जी अच्छा प्रयास है आपका। बधाई। सुधार के बाद बहुत अच्छी ग़ज़ल हो गई है।"
1 hour ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय sir जी, अभिवादन बहुत बहुत शुक्रिया आपका इस correction के लिए, बहुत बेहतर है। सादर।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय संजय शुक्ला जी नये अंदाज़ लिए आपकी ग़ज़ल बहुत ख़ूब लगी। बधाई।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय तस्दीक अहमद ख़ान जी। वाह वाह बहुत खूब ग़ज़ल। बधाई स्वीकार करें।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय नवीन मणि त्रिपाठी जी नमस्कार। बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई बधाई।पाँचवा बहुत पसंद आया।"
1 hour ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आदरणीय लक्ष्मण धामी'मुसाफ़िर'जी नमस्कार। भाई अच्छी ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें। कुछ…"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"शुक्रिया आ० रचना जी मैं गलतियाँ सुधारने की पूरी कोशिस करूँगा"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"शुक्रिया गुरु जी बिल्कुल"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-127
"आपके मशवरे से इतना कर पाया हूँ आपका बहुत बहुत आभारी हूँ सीखने का पूरा प्रयास करते हुये गलतियां…"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service