For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हम होगें कामयाब

लेन देन जगत में, कुदरत रखे सब हिसाब ।
मिलता न कुछ मुफ्त में, हम हो कामयाब ॥
अपने आतीत से सीख लें,
पलटकर देख लो इतिहास
मुसीबतों से कुछ सबक ले,
रख सुखी भविश्य की आस ।
हर बाधा की दिशा मोड दो,
कर जीवन में सतत प्रयास ।
विपत्ती में धैर्य से निर्णय लें,
ह्र्दय जगे सफलता की आस ।
मन में जगा विश्वास, आंखों से देखे ख्वाब !
टूटे न मन से आस, लोग होगें कामयाब !!
वक्त रहते आज तू संवार ले,
कल तेरा होगा न उपहास ।
दुख में हिम्मत हार मत,
कल सूरज देगा प्रकाश.।
करूणा मैत्री को छोड मत,
विजय आ गयी अब पास ।
सुख में दुखियों का साथ दें,
सबका मिट जाए संताप ।
शत्रु मित्र को पहचान, संग अपने हाथ किताब ।
जंग होगी आसान, सभी होगें कामयाब॥
सब संचित पुण्य को बांट दे,
धरती पर बचे कहीं न पाप ।
मरुभूमि में सरिता निकाल दे,
मिटा दे धरती का अभिशाप ।
तू जीवन का संचार कर दे,
अपने मिटा ले सभी पाप ।
अपने कर्मों से मंगल कर दे,
सब प्राणी का हर संताप ।
निर्मल ज्योति जब जली, ग्यान का बहा सैलाब।
कली बाग में खिली, तभी होगें कामयाब॥
धरती अम्बर को जोड दो,
अपने ह्रदय रख लें आस ।
शत्रु मित्र का भेद मिटा दो,
संकट के पल न रहे पास ।
अकुशल कर्म को छोड दो,
याद रहे जीवन मंत्र खास ।
स्वविजय का झंडा गाड दो,
रखकर खुद पर विश्वास ।
कुशल पथ पालन कर, कुदरत सब रखे हिसाब ।
जीवन में प्रगति कर होगें सभी कामयाब ॥
मौलिक एवम अप्रकाशित

Views: 89

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post दम नहीं रहा मेरे यार मे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय Samar kabeer साहिब आदाब ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिती और सराहना के लिए तह-ए -दिल से…"
3 hours ago
Samar kabeer commented on सालिक गणवीर's blog post दम नहीं रहा मेरे यार मे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सर पर पिता का हाथ है जिसके बना हुआ - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सत्तर बरस में बचपना इसका गया नहीं-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें…"
4 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"सादर प्रणाम गुरु जी सहृदय शुक्रिया ग़ज़ल तक आने व बारीकियों से गलतियां बताने के लिये जी गुरु में…"
5 hours ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post इस को जरूरी रात में कोई जगा रहे-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । केवल…"
7 hours ago
Samar kabeer commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है
"जनाब आज़ी तमाम जी आदाब, ग़ज़ल अभी समय चाहती है । 'उठाकर शहंशाह क़लम बोलता है' इस मिसरे में…"
7 hours ago
Samar kabeer commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -ख़ुद को ऐसे सँवार कर जागा
"जनाब निलेश 'नूर' जी आदाब, ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें ।"
7 hours ago
Samar kabeer commented on vijay nikore's blog post आश्वासन
"प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब,हमेशा की तरह एक उम्द: रचना से मंच को नवाज़ा है,आपने, बधाई स्वीकार करें ।"
7 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey and Aazi Tamaam are now friends
11 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल ( हो के पशेमाँ याद करोगे)
"आ. भाई अमीरुद्दीन जी, सादर अभिवादन । सुंदर गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
11 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post दम नहीं रहा मेरे यार मे.....( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"प्रिय भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिती और सराहना के लिए आपको…"
12 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service