For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

=====नज्म=====

तुम्हारी भीगी पलकें
याद हैं मुझे
भीगी पलकें
झरने सी छलकीं
पिरो न पाया था
एक मोती भी
और मेरे समन्दर-ए-दिल में
बाढ़ आ गयी

उठती मौजें
डुबोये देती थी
इश्क की खूबसूरत इमारत
ये लम्हा-ए-फुरकत था
या रोज-ए-महशर
शायद
वही था रूह कांप रही थी
जिस्म ठंडा सा
बेजान
बर्फाब सा

आँखें गर्म आब से
भरी भरी डबडबाई
याद है या
कोई जुस्तजू लिए
गुमराह सा सफ़र

वो नाजुक से लम्स
जिनमे नजाकत थी
कपास के फोहों सी
वो लम्स जो जगा देते थे
सोये हर एहसास को
रूह में उतार लेते थे
पल भर में
वो लम्स देर तक लबों पे
सुलगा देते थे
कपकपाती सर्द हवाओं को
अब वो यादों में
जगा देते हैं सारी रात
चुभते हैं खारों से

सदायें वो
सुनो न
जी उठती तमन्ना
एक बार फिर
बार बार जीने की
ग़ज़ल थी
या नज्म रूहानी सी
वो सदायें
जिसे सुन कर
जिन्दगी जन्नत हो जाती
और जन्नत
जन्नत तुम
अब तरसते हैं कान
सुनने वो सदा
मजबूर कर देते हैं
लिखने को वो हर्फ़
जो उड़ते हैं
सफाहों के इर्द गिर्द
पकडूँ वो तितली
जिनमे भरे हैं तुम्हारे रंग
रूकती ही नहीं
उड़ जाती है
खुशबू के जैसे

एहसासों की तपिश से
नर्म सी जर्ब से
तराशा था
मैंने पिघलते संग को
बनाया था सनम
लेकिन न पिघला सका
कोहे-मजबूरियों को
खड़े रहे वो
पत्थर से बंजर कोह
टूट गया
टकरा टकरा के
छूट गया साथ
तुम्हारा हमारा
पर याद रही
साए सी
हमेशा तकिये के गीलेपन में
बिस्तर में सलवटें लिए
करवटें बदलती
तुम्हारी खुशबू के साथ

संदीप पटेल "दीप"

Views: 183

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by SANDEEP KUMAR PATEL on September 28, 2012 at 6:02pm

आदरणीय झा साहब सादर नमन
आपको नज्म के भाव भा गए
मेरा लिखना सफल हुआ
बहुत बहुत शुक्रिया आपका सादर आभार
स्नेह यूँ ही बनाये रखिये सादर 

Comment by राजेश 'मृदु' on September 28, 2012 at 12:53pm

अद्भुत भाव हैं इस रचना के, बहुत-बहुत बधाई

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"लीजिए उस्ताद मुहतरम की मुहर भी लग गई है। "
10 minutes ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदाब 'रिया' जी, आपकी ग़ज़ल का संशोधित स्वरूप  का अवलोकन कर रहा हूँ । अच्छी ग़ज़ल…"
21 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"//जाम पी कर आँखों से हो जाते है मस्ताना हम इस तरह अंदाज़ रखते हैैं ज़रा रिंदाना हम// अच्छा तरमीम है,…"
32 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"शुक्रिय:"
37 minutes ago
Deepanjali Dubey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीया राजेश कुमारी जी सादर प्रणाम, आदरणीय समर कबीर सर जी की इस्लाह ए अनुसार सुंदर ग़ज़ल हुई है…"
53 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीय  Chetan Prakash जी सादर  अभिवादन  ग़ज़ल पर आपकी शिर्कत और सराहना के…"
54 minutes ago
Deepanjali Dubey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीय सलिक गणवीर जी बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें।"
59 minutes ago
Rozina Dighe replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' जी शेर को बहतर बनाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिय:!  रिंदाना…"
1 hour ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीय सर जी, बहुत बहुत शुक्रियः आपका सादर"
1 hour ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"आदरणीया  Richa Yadav जी सादर अभिवादन बढ़िया तरही ग़ज़ल कही है आपने बधाइयाँ स्वीकार…"
1 hour ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"भाई  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'  सादर अभिवादन बढ़िया तरही ग़ज़ल कही है आपने…"
1 hour ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-133
"सहृदय शुक्रिया गुरु जी इतनी बारीकी से तफ्तीस करने के लिये कोशिश करता हूँ दुरुस्त करने की सादर"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service