For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

गुरु वंदन //छंद झूलना (प्रथम प्रयास) ...डॉ० प्राची

छंद झूलना 

(२६ मात्रा,  ७,७,७,५ पर यति , चार पद , अंत गुरु लघु )

गुरु ज्ञान दो, उत्थान दो, वंदन करो स्वीकार 

अनुभव प्रवण, उज्ज्वल वचन, हे ईश दो आधार 

तज काग तन, मन हंस बन, अनिरुद्ध ले विस्तार 

प्रभु के शरण, जीवन- मरण, पाता सहज उद्धार.....

Views: 1146

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on May 3, 2013 at 10:38am

//झूलना छंद में ७-७-७-५ का नियम है...तब अंतिम दो चरण ७-५ में तो सिर्फ शब्द को ही अलग लिखा गया है, यहाँ तो यति का आभास भी नहीं हो रहा..... क्या रचनाकर्मिता में इसे भी साधने की आवश्यकता है.....//

इसे अपने स्तर से समझ कर ही साझा कर पाऊँगा, आदरणीया.

वैसे प्रथम दृष्ट्या उक्त चरणों के मध्य यति का आभास भले न हो परन्तु वे पद के विशिष्ट भाग तो हैं ही.

सादर


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on May 3, 2013 at 10:33am

आदरणीय सौरभ जी,

व्यस्ततम समय में भी आप इस रचना के लिए समय निकाल सके इसलिए आपकी हृदय से आभारी हूँ..

आपने जिस तथ्य को इंगित किया है (कि दो यतियों के बीच के चरण कथ्य व भाव से समरसता रखते हुई भी स्वतंत्र हो ) वह शिल्प के लिहाज से नियम न होते हुए भी बहुत महत्वपूर्ण प्रतीत होता है, क्योंकि वास्तव में यदि यह स्वतंत्रता नहीं होती तो यति भी महसूस नहीं होती...

जिस तरह आपने दोनों अपेक्षित चरणों में सुधार प्रस्तुत किया है..वह यथोचित है... और हृदय से मान्य है आदरणीय.

अनुभव प्रवण, उज्ज्वल वचन, हे ईश दो आधार

प्रभु के शरण, जीवन-मरण, पाता सहज उद्धार

इस मान्यता को तो नियम ही होना चाहिए...क्योंकि यह शिल्प को और सुगढ़ करता है...:))

अब एक और संशय उत्पन्न हुआ है..... जैसे कि झूलना छंद में ७-७-७-५ का नियम है...तब अंतिम दो चरण ७-५ में तो सिर्फ शब्द को ही अलग लिखा गया है, यहाँ तो यति का आभास भी नहीं हो रहा..... क्या रचनाकर्मिता में इसे भी साधने की आवश्यकता है..... कृपया स्पष्ट करेंगे ! सादर.


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on May 3, 2013 at 12:54am

आपकी रचना पर विलम्ब से आया हूँ. आजकल व्यस्तता सिर से चू रही है.

झूलना छंद पर आधारित रचना सुन्द बन पड़ी है.  एक बात अवश्य है, जो कि अनौपचारिक ही है किन्तु ध्यान दिया जाय तो रचनाओं में सुन्दरता बढ़ जाती है, वह ये कि पद में यतियों का बड़ा महत्त्व तो होता ही है, उसके बाद के चरण पिछले चरण या अन्य चरणों से भावार्थ के लिहाज से एकसार हों किन्तु तनिक स्वतंत्र हो. इसका सुन्दर उदाहरण दोहे या कुण्डलिया या ऐसे ही मात्रिक छंद होते हैं.

गुरु ज्ञान दो, उत्थान दो, वंदन करो स्वीकार
अनुभव प्रवण, उज्ज्वल वचन, का ईश दो आधार

प्रथम पद सम्यक है. दूसरे पद में तृतीय चरण का प्रारंभ का से होना उस चरण की पिछले पद पर निर्भरता बताता है. इस का को यदि हे कर दिया जाय तो इसतरह की बाध्यता या निर्भरता समाप्त हो जायेगी. और भाव भी नहीं बदलेंगे.

इसी तरह,

तज काग तन, मन हंस बन, अनिरुद्ध ले विस्तार
प्रभु लो शरण, जीवन- मरण, से हो सहज उद्धार.....

यहाँ भी दूसरे पद का तृतीय चरण पिछले चरणों पर अपनी निर्भरता दिखा रहा है.

इस पद को यदि यों कहा जाय तो विभक्तियों से चरण को प्रारंभ करने की समस्या समाप्त हो जायेगी --

प्रभु के शरण, जीवन-मरण, पाता सहज उद्धार.. .

ऐसा निवेदन कोई उद्धृत नियम न हो कर मान्यता ही है.

यह अवश्य है कि इस प्रयास के लिए हार्दिक बधाइयाँ.


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on April 26, 2013 at 6:46pm

आदरणीय लून करन छज्जर जी 

//गुरु के प्रति समर्पण ही मोक्ष का मार्ग बन सकता है//

गुरु चरणों में समर्पण ही मानव मन को अहंकार से मुक्त कर सद्ज्ञान का सुपात्र बनाता है... इस रचना के मर्मज को इंगित करने के लिए आपकी आभारी हूँ. सादर.


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on April 26, 2013 at 6:43pm

आदरणीय प्रदीप जी,

मंच पर सीखने के अनेक अवसर सुलभ है... पर सीखता वही है जो सीखने की प्रबल चाह रखता है... यह छंद रचना आपका आशीर्वाद पा सकी, इसलिए आभारी हूँ. सादर.


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on April 26, 2013 at 6:40pm

आदरणीय लक्ष्मण जी,

नव्यता ही जीवन में विविधता के स्फूर्तिदायक रंग भरती है और सुहाती है... और यहाँ मंच पर हमेशा ही नए नए छंद हम सब एक दुसरे से सीखते सीखते समवेत बढ़ते चलते हैं... यह छंद झूलना पर गुरु वंदन आपको पसंद आया इस हेतु आपकी आभारी हूँ..

//"उज्ज्वल वचन, का ईश दो आधार" और "जीवन- मरण, से हो सहज उद्धार" में मध्य में , (कौमा) अनिवार्य है

क्या ?//

अल्पविराम यति के स्थान पर ही लगाया गया है..जिससे रचना को उच्चारित करते समय स्वतः ही एक गेय धुन पर पाठक इसे गुनगुनाता चले.

सादर. 

Comment by LOON KARAN CHHAJER on April 26, 2013 at 5:04pm

गुरु के प्रति समर्पण ही मोक्ष का मार्ग बन सकता है .

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on April 26, 2013 at 1:33pm

आदरणीया प्राची जी 

सादर अभिवादन 

बस वही एक बात कि सीखने के पर्याप्त अवसर दे रही हैं आप. 

बधाई, आभार 

Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on April 26, 2013 at 10:32am

ओबीओ ही एक मात्र मंच है जहा नए नए छंद पढने को मिलते है | इसकेलिए ओबीओ और नए नए छंद विधा 

के प्यासे विद्वजन बहाई के पात्र है | गुरु वंदन (छंद झुलना) रचना के लिए हार्दिक बधाई डॉ प्राची जी | हां इसमें

"उज्ज्वल वचन, का ईश दो आधार" और "जीवन- मरण, से हो सहज उद्धार" में मध्य में , (कौमा) अनिवार्य है

क्या ?


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on April 26, 2013 at 8:37am

आदरणीय अशोक कुमार रक्ताले जी 

छंद झूलना आपको पसंद आया यह जाना उत्साहवर्धक है... जब इस प्रकार सब छंदों पर रूचि प्रकट करते हैं, तब ही रचना धर्मिता को आगे बढने की प्रेरणा मिलती है...

छंद झूलना में किसी भी पद में अंतर्गेयता के लिए यति के स्थान पर तुकांतता की अनिवार्यता का विधान नहीं है...यह मैंने अपनी ही अभिव्यक्ति में नवीनता के लिए लिया है. यहाँ तक की चारों पंक्तियों के अंत में भी सम्तुकान्ताता की बाध्यता नहीं है, दो-दो पंक्तियों में तुकांतता ली जा सकती है 

सादर

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

amita tiwari posted a blog post

बरगद गोद ले लिया

ज़मीन पर पड़ा  अवशेषबरगद का मूल आधार शेष सोचता है आजकल तक था बरगद विशालबरगदी सोच,बरगदी ख्यालबरगदी…See More
5 hours ago
amita tiwari commented on amita tiwari's blog post बरगद गोद ले लिया
"आ ०  नाथ सोनांचली जी आपकी  टिप्पणी के लिए  आभार .मुझे  प्रोत्साहन मिला है…"
5 hours ago
amita tiwari commented on amita tiwari's blog post बरगद गोद ले लिया
"आ०  चेतन प्रकाश जी  सुप्रभात  आपकी  टिप्पणी और सुझावों के लिए आभारी हूँ…"
5 hours ago
Rakshita Singh commented on Sushil Sarna's blog post आँधियों से क्या गिला. . . . .
"आदरणीय सुशील जी, सादर प्रणाम । बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ हार्दिक बधाई स्वीकार करें। "
6 hours ago
AMAN SINHA posted a blog post

क्या रंग है आँसू का

क्या रंग है आँसू का कैसे कोई बतलाएगा?सुख का है या दु:ख का है ये कोई कैसे समझाएगा?कभी किसी के खो…See More
10 hours ago
नाथ सोनांचली posted a blog post

अर्धांगिनी को समर्पित (दुर्मिल सवैया पर आधारित)

तुम फूल कली तुम चन्द्र मुखी तुम स्वर्ग परी चित चंचल हो तुम लौकिक केवल देह  नहीं  मकरन्द  भरा नव …See More
10 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
10 hours ago
नाथ सोनांचली commented on amita tiwari's blog post बरगद गोद ले लिया
"आद0 अमिता तिवारी जी सादर अभिवादन। बढ़िया सृजन है। बधाई स्वीकार जी"
13 hours ago
नाथ सोनांचली commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आद0 सुशील सरना जी सादर अभिवादन। बढ़िया दोहा मुक्तक हुआ है। बधाई स्वीकार कीजिये"
13 hours ago
नाथ सोनांचली commented on AMAN SINHA's blog post पश्चाताप
"आद0 अम्न सिन्हा जी सादर अभिवादन बढ़िया सृजन है। बधाई स्वीकार कीजिये"
13 hours ago
नाथ सोनांचली commented on Sushil Sarna's blog post सिन्दूर -(क्षणिकाएँ )
"आद 0 सुशील सरना जी सादर अभिवादन। बेहतरीन सृजन,, भाव परक।बधाई स्वीकार कीजिये"
13 hours ago
नाथ सोनांचली commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मातृ दिवस पर गजल -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आद0 लक्ष्मण धामी मुसाफिर जी सादर अभिवादन बढ़िया माँ को समर्पित रचना है। बधाई स्वीकार कीजिये"
13 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service