For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

2212 122 2212 122

थम ही नहीं रही है,रफ़्तार ज़िन्दगी में ।

हर दर्द की दवा है,बस प्यार ज़िन्दगी में ।।

बैठो न चुप दबाके, तुम राज़ सारे दिल के ।

जज़्बात का ज़रूरी,इज़हार ज़िन्दगी में ।।

माशूक़ से कलह का,यूं ग़म न कीजियेगा ।

पनपाती* है मुहब्बत,तक़रार ज़िन्दगी में ।।

इक़रार हर रज़ा का,है लाज़मी नहीं अब ।

है वक़्त पे जरूरी,इनकार ज़िन्दगी में ।।

'सागर' ख़री मुहब्बत,करके दिखो किसी से ।

हरदम रहे खुशी की,भरमार ज़िन्दगी में ।।

- प्रशांत दीक्षित 'सागर'

मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 49

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by प्रशांत दीक्षित 'सागर' on October 13, 2019 at 9:09pm

बहुत बहुत धन्यवाद Samar kabeer जी सुझावों के लिए ।

मुझे ऐसे ही मार्गदर्शन की बहुत आवश्यकता है  

Comment by Samar kabeer on October 13, 2019 at 8:49pm

जनाब प्रशांत दीक्षित 'सागर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है,बधाई स्वीकार करें ।

ज़िन्दगी में ।

'हर मर्ज़ की दवा है,बस प्यार ज़िन्दगी में'

इस मिसरे में 'मर्ज़' शब्द ग़लत है,सहीह शब्द है "मरज़",इसकी जगह "दर्द" ले सकते हैं ।

'पनपाति है मुहब्बत,तक़रार ज़िन्दगी में'

इस मिसरे में 'पनपाति' शब्द आपने शायद वज़्न 

पूरा करने के लिए लिया है,ये शब्द शुद्ध नहीं है,देखियेगा ।

'इक़रार हर रज़ा का,है लाज़मी नहीं'

ये मिसरा बह्र से ख़ारिज है,देखियेगा ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अजय गुप्ता updated their profile
1 minute ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"बहुत अच्छी और रोचक रचना सतविंदर भाई जी बधाई हो"
9 minutes ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
" प्रस्तुत चित्र पर सार छंद की अच्छी रचना हुई है लक्ष्मण धामी जी बहुत-बहुत बधाई"
9 minutes ago
सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी, सादर नमन सह बधाई।"
3 hours ago
सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर नमन, अभिवादन आदरणीय सौरभ सर"
3 hours ago
सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"किट-किट पिट-पिट किटर-पिटर में बचपन पूरा डूबा। कदमों में जो फैली पिट है लगती नहीं अजूबा।। साधन…"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"इईघढ"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"सार छंद ज्ञान  बाँटता  सारे  जग  को,  अद्भुत  देश  हमारागया न…"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर अभिवादन.."
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 103 in the group चित्र से काव्य तक
"सार छंद ज्ञान  बाँटता  सारे  जग  को,  अद्भुत  देश  हमारागया न…"
6 hours ago
vijay nikore posted a blog post

आशंका के कगार

आशंका  के  कगारजानता हूँहर पिघलती सचाई मेंफीकी सचाई के पारकुछ झुठाई भी हैतभी तो आशंका की परतों के…See More
7 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

संघे शक्ति(लघुकथा)

संघे शक्ति ***पका फल पेड़ पर लटका हुआ था।भालू परेशान था।वह चाहता था कि पका फल उसका रेंगता हुआ बेटा…See More
8 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service