For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

अट्टालिका पर अटका हुआ बयान

अट्टालिका पर अटका हुआ बयान
...........................
रतन टाटा ने मुकेश अम्बानी की उस शानदार अट्टालिका पर आश्चर्य व्यक्त किया,जिसमें वह सपरिवार रहते हैं और जिसकी कीमत इतनी है कि दस डिजिट के कैल्कुलेटर में भी न समाये.उन्होंने मुकेश अम्बानी को संवेदनशील बनने की सलाह देते हुए कहा कि अकूत धन सम्पदाधारी लोगों को जनसामान्य के  जीवन स्तर में सुधार के लिए कुछ न कुछ ज़रूर करना चाहिये.
रतन टाटा बाद में अपने बयान से यह कहते हुए मुकर गए कि उनके कहे को मीडिया ने तोडमरोड कर शरारतपूर्ण अंदाज़ में प्रस्तुत किया है.यही तो त्रासदी है कि जब तक मीडिया इन धन्ना सेठों की खबर मनमाफिक छापता रहे तब तक स्नेह का पात्र और खरी-खरी कह दी तो ताडन की अधिकारी.यह समय ऐसा ही है जहाँ पेशेवर मीडियाकर्मी और लाबियिस्ट की सीमारेखा धुंधला चुकी है.मेरे शहर में तो यह सीमारेखा सिरे से नदारद हुए अरसा हुआ.
रतन टाटा रिटायरमेंट में निहायत करीब हैं.उनके उत्तराधिकारी की खोज जोर-शोर से चल रही है.उनकी अवस्था ही अब ऐसी है जब आदमी स्वत: ही उपदेशक बन जाता है.एक पुरानी कहावत है कि हर आदमी  नदी के सुनसान किनारे पर,जलती चिता के करीब और रिटायरमेंट को नज़दीक पा कर दार्शनिक हो जाता है.वह भी इस कहावत का कोई  अपवाद नहीं हैं.यकीनन अब उन पर उपदेशक हावी है.पर उनके भीतर का उपदेशक यह भूल गया कि हर कार्य व्यापार के कुछ लिखित और अधिकांश अलिखित नियम होते हैं,जिनका पालन सभी को करना होता है.क्रिकेट का खेल गुल्ली डंडे के नियमों के तहत तो नहीं खेला जा सकता.कारपोरेट जगत में यदि शिखर पर बने रहना है तो अपनी धन सम्पदा का लगातार भव्य प्रदर्शन आवश्यक होता है.अम्बानी की अट्टालिका इसी नियम के तहत उनके वैभव की धवजावाहक है.
मेरे शहर के तमाम टाटाओं,अम्बानियों,लक्ष्मी मित्तलों,बिरलाओं,अज़ीम प्रेमजीयों को भी पता है कि धन सम्पदा का सार्वजानिक प्रदर्शन की क्या अहमियत होती है .विवाह समारोह से लेकर पोते के कर्णछेदन तक,गृह प्रवेश से लेकर पौत्र के नामकरण तक और अपने बर्थडे बैश ,मैरिज अनिवेरसिरी से लेकर घर के किसी बुजुर्ग के गुजर जाने पर आयोजित होने वाले मृत्यु भोज तक पर अपनी सम्पदा की चमक दिखाने का अवसर भला कौन चूकना चाहता है.कभी-कभी तो यह ही नहीं पता चलता कि यह मृत्यु भोज है या किसी पांच सितारा होटल का लंच.सारी व्यवस्था एकदम चाक चौबंद रहती है.वातावरण में किसी अन्य मांगलिक कार्यक्रम जैसा उत्साह.सच तो यह है कि यदि आप संपन्न हैं तो उसकी चकाचौंध सबको दिखनी भी चाहिए. अब जंगल के एकांत में नाचने वाला  मोर नहीं,अपनी सरेबाजार नृत्यकला का प्रदर्शन करने का दमखम रखने वाले  मोरों की प्रसांगिकता रह गई है.
रतन टाटा अब व्यवसाय की मुख्य धारा से बाहर होने के करीब हैं.उनकी स्थिति अब क्रिकेट के उस भूतपूर्व खिलाड़ी जैसी है जो साइड लाइन पर पर खड़ा रह कर अपने बेतुके से खेल में शामिल खिलाडियों को बेवजह चिढ़ाया करता है.अम्बानी की अट्टालिका पर अटका रतन टाटा का यह बयान उस फटी हुई पतंग जैसा है ,जिसका शायद ही कोई तलबगार हो.











Views: 134

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on May 28, 2011 at 5:49pm

निर्मल गुप्त जी, व्यंगात्मक शैली भले ही हो पर कही न कही यह सत्यता के काफी नजदीक है, आप का यह भी कथन कि "एक पुरानी कहावत है कि हर आदमी  नदी के सुनसान किनारे पर,जलती चिता के करीब और रिटायरमेंट को नज़दीक पा कर दार्शनिक हो जाता है" बिलकुल सत्य और इस आलेख में उल्लेख करना आवश्यक ही है |

कटु सत्य और खरी खरी कहने हेतु धन्यवाद आपको |  

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

vijay nikore posted a blog post

सूर्यास्त के बाद

निर्जन समुद्र तटरहस्यमय सागर सपाट अपारउछल-उछलकर मानो कोई भेद खोलतीबार-बार टूट-टूट पड़ती लहरें…See More
38 minutes ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

221 2121 1221 212ता-उम्र उजालों का असर ढूढ़ता रहा । मैं तो सियाह शब…See More
20 hours ago
Dr. Vijai Shanker posted a blog post

जिंदगी के लिए — डॉo विजय शंकर

कभी लगता है , वक़्त हमारे साथ नहीं है , फिर भी हम वक़्त का साथ नहीं छोड़ते। कभी लगता है , हवा हमारे…See More
20 hours ago
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

हो गए - ग़ज़ल

मापनी २१२*4 चाहते हम नहीं थे मगर हो गएप्यार में जून की दोपहर हो गए हर कहानी खुशी की भुला दी गईदर्द…See More
20 hours ago
Archana Tripathi posted a blog post

लघुकथा

प्रतिफलचन्द दिनों मे ही पर्याप्त नींद लेकर मैं स्वस्थ सी लगने लगी थी। उसमे करना भी कुछ ना था बस…See More
20 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a photo

पंडितन केर पिछलगा

मलिक मुहम्मद ‘जायसी’ की प्रसिद्धि हिन्दी साहित्य में एक सिद्ध सूफी संत और प्रेमाश्रयी शाखा के…
yesterday
dandpani nahak replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"परम आदरणीय समर कबीर साहब आदाब आपकी बायीं आँख की तकलीफ का सुना ईश्वर से प्रार्थना है की आप शीघ्र…"
Sunday
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-104
"आदरणीय सुरेंद्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप जी, प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार।"
Saturday
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-104
"आदरणीय हरिआेम श्रीवास्तव जी, प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार।"
Saturday
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-104
"आदरणीय शैलेश चंद्राकर जी, प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।"
Saturday
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-104
"प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार आदरणीय नीलम उपाघ्याय जी।"
Saturday
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-104
"प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार आदरणीय वासुदेव अग्रवाल जी।"
Saturday

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service