For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

 

ओ बी ओ स्मारिका

 

Photos

Loading…
  • Add Photos
  • View All
 

ओपन बुक्स ऑनलाइन (OBO) परिवार मे आपका हार्दिक स्वागत है

Forum

Feature Blog Posts

छाँव

Posted by KALPANA BHATT on April 21, 2017 at 9:02am — 7 Comments

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"बढ़िया ग़ज़ल है आ. लक्ष्मण जी. हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए. चौथा मिसरा बह्र में नहीं है देख लीजिएगा.…"
13 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"उदाहरण सहित बहुत बढ़िया समझाया आपने. धन्यवाद."
20 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"बढ़िया ग़ज़ल है आ. सतीश जी. हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए. आ. तस्दीक़ जी ने बहुत अच्छी इस्लाह दी है. ध्यान…"
22 minutes ago
विनय कुमार posted a blog post

बढ़ता धुआं- लघुकथा

खाला अपने रसोई में लगी हुई थीं, अब रमजान महीने के बस दो ही दिन तो बचे थे और अलीम बड़के शहर से आज ही…See More
33 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"वाह आ. शिज्जु "शकूर" सर, क्या शानदार ग़ज़ल पेश की है आपने. हर शेर लाजवाब है. दिल से ढेर…"
35 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"जा कर कोई बता दे पड़ोसी मेरे हैं वो जो मेरे घर को आग लगा कर चले गए ...वाह! बहुत ख़ूब ग़ज़ल कही है…"
45 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"सहरा में है सराब सा उनका ये इश्क़ कुछ, पूरे न हों वो ख्वाब दिखा कर चले गये। ...बहुत ख़ूब आ.…"
49 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"मेले से हाथ ख़ाली उठा कर चले गएहम लोग वक़्त यूँ ही बिता कर चले गए हम यूँ चराग़-ए-इश्क़ जला कर चले गएलौ…"
1 hour ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"जनाब निलेश साहिब,अच्छी ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल फरमायें"
1 hour ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"मुहतर्मा राजेश कुमारी साहिबा, अपने अंदाज़ से हटकर आपने अच्छी ग़ज़ल कही है,दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल…"
1 hour ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"सुश्री सीमा सिंह जी को इस उल्लेखनीय और विशिष्ट सम्मान हेतु हृदयतल से बधाइयाँ. यह पूरे ओबीओ परिवार…"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-84
"वाहहहह आ0 राजेश कुमारी जी बहुत खूब। पढ़ के मजा आ गया। मेहमान वे हमारे थे जालिम बुखार से। ताजिंदगी…"
1 hour ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service