For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सुरेश कुमार 'कल्याण'
  • Male
  • कैथल (हरियाणा)
  • India
Share on Facebook MySpace

सुरेश कुमार 'कल्याण''s Friends

  • शुचिता अग्रवाल "शुचिसंदीप"
  • SudhenduOjha
  • Kalipad Prasad Mandal
  • स्वाति सोनी 'मानसी'
  • रामबली गुप्ता
  • Arpana Sharma
  • बृजेश कुमार 'ब्रज'
  • Rahila
  • सतविन्द्र कुमार राणा
  • asha jugran
  • Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"
  • pratibha pande
  • Seema Singh
  • Manan Kumar singh
  • डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव

सुरेश कुमार 'कल्याण''s Discussions

दीवाली

*कुंडलियां*हर घर की मुंडेर पर,दीप जले चहुँ ओर।दीवाली की रात है,बाल मचाएं शोर।बाल मचाएं शोर,शोर ये बड़ा सुहाना।भूलचूक सब भूल,रहा लग गले जमाना।खाओ रे *'कल्याण',* मिठाई डिब्बे भर - भर।खुशियाँ मिली…Continue

Started Oct 23

 

सुरेश कुमार 'कल्याण''s Page

Latest Activity

सुरेश कुमार 'कल्याण' commented on Admin's group आंचलिक साहित्य
"दिल आपणे नै डाट भाई रै ।क्यूं ठारया सिर पै खाटभाई रै । अस्त्र शस्त्र बतेरे देखे।देखी सबकी काट भाई रै । भाइयां मैं तो रल कै रै ले।क्यूं बण रया तों लाट भाई रै । बाहर कितनिए मौज मिल्ज्या।घर बरगे नी ठाठ भाई रै । बुराई जे तनै आंदी दिखै।भेड़ ले आपने…"
Nov 10
सुरेश कुमार 'कल्याण' posted a blog post

दीवाली

कुंडलियां*हर घर की मुंडेर पर, दीप जले चहुँ ओर। दीवाली की रात है, बाल मचाएं शोर। बाल मचाएं शोर, शोर ये बड़ा सुहाना। भूलचूक सब भूल, रहा लग गले जमाना। खाओ रे *'कल्याण',* मिठाई डिब्बे भर - भर। खुशियाँ मिली अपार, हुआ है रोशन हर घर। *दोहा*बढ़ें उजाले की तरफ, हम सबके ही पांव। इस दीवाली ना रहे, अंधेरे में गांव।।मौलिक एवम् अप्रकाशित सुरेश कुमार 'कल्याण'See More
Oct 27
सुरेश कुमार 'कल्याण' posted a discussion

दीवाली

*कुंडलियां*हर घर की मुंडेर पर,दीप जले चहुँ ओर।दीवाली की रात है,बाल मचाएं शोर।बाल मचाएं शोर,शोर ये बड़ा सुहाना।भूलचूक सब भूल,रहा लग गले जमाना।खाओ रे *'कल्याण',* मिठाई डिब्बे भर - भर।खुशियाँ मिली अपार,हुआ है रोशन हर घर। *दोहा*बढ़ें उजाले की तरफ,हम सबके ही पांव।इस दीवाली ना रहे,अंधेरे में गांव।।मौलिक एवम् अप्रकाशितसुरेश कुमार 'कल्याण'See More
Oct 23
सुरेश कुमार 'कल्याण' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-143
"                      अधूरी कहानी   कहते रहो तुम अपनी जुबानी । अभी पूरी हुई ना अधूरी कहानी ।। रहे भागते जिद्द के पीछे हमेशा । बहा मेरा बचपन बीती जवानी ।। सूखा पड़ा था वो सावन महीना । सूखे…"
Sep 18
सुरेश कुमार 'कल्याण' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-134
"             मन की व्यथा मुझसे क्यों नाराज है, उदासी का क्या राज है। बोल दो मन की व्यथा, कौन सी गिरी गाज है।। दिन है कि ये रात है, कैसी ये मुलाकात है । आंख हैं जो मूंदी - मूंदी, खास कोई बात है।। प्यार में ही मौज…"
Dec 19, 2021
Samar kabeer commented on सुरेश कुमार 'कल्याण''s blog post समयानुकूल
"जनाब सुरेश कुमार कल्याण जी आदाब, दोहों का अच्छा प्रयास हुआ है, बधाई स्वीकार करें । 'सुखदुख चलते साथ में,जीवन इक जंजाल' इस पंक्ति के विषम चरण में 'साथ' शब्द के साथ 'में' का प्रयोग उचित नहीं होता 'में' की जगह…"
Sep 22, 2021
सुरेश कुमार 'कल्याण' posted a blog post

समयानुकूल

बयालीस हैं जा चुके,बीत रहा है काल।सुखदुख चलते साथ में,जीवन इक जंजाल।।यारों की ये कामना,रहे सदा ही साथ।यार सलामत हों सदा, हे नाथों के नाथ।।उन्यासी उन्नीस सौ,माह सितंबर जान।सोलहवीं तारीख थी, जब जन्मे 'कल्याण'।।गुरु आभे ने लिख दई,यही जन्म तारीख।गुरु न देते ज्ञान तो, फिरूं मांगता भीख।।मौलिक एवम् अप्रकाशितSee More
Sep 17, 2021
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on सुरेश कुमार 'कल्याण''s blog post मातृभाषा हिंदी
"आ. भाई सुरेश कल्याण जी, सादर अभिवादन । हिन्दी दिवस पर सुन्दर रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
Sep 17, 2020
सुरेश कुमार 'कल्याण' commented on सुरेश कुमार 'कल्याण''s blog post मातृभाषा हिंदी
"आदरणीय समर कबीर साहब सादर आभार, आपकी राय सर्वदा उचित ही होती हैं ।"
Sep 14, 2020
Samar kabeer commented on सुरेश कुमार 'कल्याण''s blog post मातृभाषा हिंदी
"जनाब सुरेश कुमार कल्याण जी आदाब, हिन्दी दिवस पर बहुत सुंदर रचना हुई है,बधाई स्वीकार करें । जहाँ तक मेरी जानकारी है 'हिंदी' को "हिन्दी" लिखना उचित होता है ?"
Sep 14, 2020
सुरेश कुमार 'कल्याण' posted a blog post

मातृभाषा हिंदी

हिंदी हमारी मातृभाषा, हिंदी जीवन का आधार ।हिंदी की महिमा को गाते,करते हम इसका प्रचार ।।हिंदी के बिना जीवन सूना,हिंदी देती सबको ज्ञान ।मन के भाव प्रकट हों सारे, पूरे करती ये अरमान ।मातृभाषा की महिमा देखो, सुनकर होता है अभिमान ।कोर्ट कचहरी दफ्तर सारे, बाबू कलेक्टर चौकीदार ।हिंदी की महिमा........................................... ।माँस से नाखून दूर ना जाएँ, कौए चलें ना हंस की चाल ।हिंदी के सब रंग में रंग लो, अपनी पगड़ी अपने बाल ।हिंदी दिवस मने हमेशा, चौदह सितंबर को हर साल ।युगों युगों से बहती आई,…See More
Sep 13, 2020
सुरेश कुमार 'कल्याण' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post बारूदों की जिस ढेरी पर-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"आदरणीय लक्ष्मण धामी साहब बहुत सुंदर। बधाई "
Feb 3, 2020
सुरेश कुमार 'कल्याण' commented on ARVIND BHATNAGAR's blog post वो एक नींद ही तो थी
"आदरणीय अरविंद भटनागर जी बहुत सुंदर। हार्दिक बधाई"
Feb 3, 2020

Profile Information

Gender
Male
City State
हरियाणा
Native Place
कैथल
Profession
प्राध्यापक (हिन्दी)

सुरेश कुमार 'कल्याण''s Blog

दीवाली

कुंडलियां*

हर घर की मुंडेर पर,
दीप जले चहुँ ओर।
दीवाली की रात है,
बाल मचाएं शोर।
बाल मचाएं शोर,
शोर ये बड़ा सुहाना।
भूलचूक सब भूल,
रहा लग गले जमाना।
खाओ रे *'कल्याण',*
मिठाई डिब्बे भर - भर।
खुशियाँ मिली अपार,
हुआ है रोशन हर घर।

*दोहा*

बढ़ें उजाले की तरफ,
हम सबके ही पांव।
इस दीवाली ना रहे,
अंधेरे में गांव।।

मौलिक एवम् अप्रकाशित
सुरेश कुमार 'कल्याण'

Posted on October 27, 2022 at 8:34pm

समयानुकूल

बयालीस हैं जा चुके,बीत रहा है काल।

सुखदुख चलते साथ में,जीवन इक जंजाल।।

यारों की ये कामना,रहे सदा ही साथ।

यार सलामत हों सदा, हे नाथों के नाथ।।

उन्यासी उन्नीस सौ,माह सितंबर जान।

सोलहवीं तारीख थी, जब जन्मे 'कल्याण'।।

गुरु आभे ने लिख दई,यही जन्म तारीख।

गुरु न देते ज्ञान तो, फिरूं मांगता भीख।।

मौलिक एवम् अप्रकाशित

Posted on September 17, 2021 at 12:01pm — 1 Comment

मातृभाषा हिंदी

हिंदी हमारी मातृभाषा, हिंदी जीवन का आधार ।

हिंदी की महिमा को गाते,करते हम इसका प्रचार ।।

हिंदी के बिना जीवन सूना,हिंदी देती सबको ज्ञान ।

मन के भाव प्रकट हों सारे, पूरे करती ये अरमान ।

मातृभाषा की महिमा देखो, सुनकर होता है अभिमान ।

कोर्ट कचहरी दफ्तर सारे, बाबू कलेक्टर चौकीदार ।

हिंदी की महिमा........................................... ।

माँस से नाखून दूर ना जाएँ, कौए चलें ना हंस की चाल ।

हिंदी के सब रंग में रंग लो, अपनी…

Continue

Posted on September 13, 2020 at 11:30am — 3 Comments

बसंत पंचमी

माघ शुक्ल की पंचमी, कामदेव के लाल।

दोनों मिलकर आ गए, कण-कण हुआ निहाल ।।



कोयल काली कूकती, खुश हो नाचे मोर ।

माया जिसकी मोहनी,वही मदन चितचोर ।

गेंदा गुलाब ज्यों खिले,खिले गुलाबी गाल।

दोनों मिलकर-------------------।



आई बसंत पंचमी, खुशियों का आगाज ।

वाणी में रस घोलकर, गले मिलें सब आज।

सर्द रैन अब जा चुकी, हटा धुंध का जाल।

दोनों मिलकर --------------------।



ताजा-ताजा लग रहे,गिरा पुराने पात।

डाल डाल को चूमती, भूल अहं औकात… Continue

Posted on January 31, 2017 at 11:30am — 6 Comments

Comment Wall (4 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:37pm on July 5, 2016, asha jugran said…

आद.सुरेश कुमार जी ,आपकी  कविताओं में  खूबसूरत बहाव है.सहजता है जो हर पाठक से  सहज में  जुड़  जाती  है. 

At 12:44pm on June 18, 2016,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय

सुरेश कुमार 'कल्याण'  जी,

सादर अभिवादन,
यह बताते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है कि ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार में विगत माह आपकी सक्रियता को देखते हुए OBO प्रबंधन ने आपको "महीने का सक्रिय सदस्य" (Active Member of the Month) घोषित किया है, बधाई स्वीकार करें | प्रशस्ति पत्र उपलब्ध कराने हेतु कृपया अपना पता एडमिन ओ बी ओ को उनके इ मेल admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध करा दें | ध्यान रहे मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई है |
हम सभी उम्मीद करते है कि आपका सहयोग इसी तरह से पूरे OBO परिवार को सदैव मिलता रहेगा |
सादर ।
आपका
गणेश जी "बागी"
संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक
ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 12:27am on May 5, 2016, स्वाति सोनी 'मानसी' said…
सादर धन्यवाद सुरेश कुमार कल्याण सर :)
At 9:17pm on April 11, 2016, सतविन्द्र कुमार राणा said…
सुस्वागतम्!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"बहुत शुक्रिय: जनाब सौरभ पाण्डेय साहिब ।"
23 minutes ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय मुसाफिर साहब हार्दिक आभार सादर"
44 minutes ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय समर कबीर साहब सादर प्रणाम कृपा दृष्टि बनाये रखें बहुत बहुत आभार सादर"
45 minutes ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"कहते हैं न, धीरे-धीरे रे मना, धीरे सबकुछ होय..  एक समय से इस निर्णय की प्रतीक्षा थी. देर आयद,…"
9 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"वाह। एक बहुत ही उम्दा सृजन विषयांतर्गत। निश्चित रूप से यह एक संस्मरणात्मक शैली की बढ़िया लघुकथा हो…"
11 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। आपकी धारदार रोचक शैली और शिल्प में बढ़िया रचना। हार्दिक बधाई जनाब मनन कुमार सिंह जी। आप जैसे…"
12 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"सादर नमस्कार। मेरी जानकारी अनुसार गद्य में 'संस्मरण' सर्वथा एक भिन्न महत्वपूर्ण विधा है…"
12 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। हार्दिक स्वागत। पंक्ति इंगित करते हुए कम शब्दों में सारगर्भित समीक्षात्मक टिप्पणी, राय और…"
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आ. भाई नाथ सोनांचली जी, अभिवादन। अच्छी लघुकथा हुई है। हार्दिक बधाई।"
13 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आपको रचना पर देखना सुखद है।हार्दिक आभार आदरणीया प्राची जी"
14 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"हार्दिक आभार आदरणीय "
14 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"हार्दिक आभार आदरणीय तेज वीर सिंह जी"
14 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service