For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Sarthak
Share
 

Sarthak's Page

Latest Activity

Rakshita Singh commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय सार्थक जी नमस्कार सुन्दर पंक्तियों पर हार्दिक बधाई स्वीकार करें ।।"
Jun 27
Mahendra Kumar commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"अच्छी ग़ज़ल है आदरणीय सार्थक जी। हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए। सादर। "
Jun 26
Samar kabeer commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"जनाब सार्थक जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । 'मैं भी भीगे रहता हूँ' इस मिसरे पर कुछ विचार करें।"
Jun 25
रोहित डोबरियाल "मल्हार" commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"बहुत ख़ूब"
Jun 24
Mohammed Arif commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"प्रिय सार्थक जी आदाब,                   बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल । दिली मुबारकबाद क़ुबूल करें । गुणीजनों की बातों का संज्ञान  लेंं ।"
Jun 23
gumnaam pithoragarhi commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"वाह बहुत खूब ग़ज़ल हुई है....... छोटी बह्र में खूब कहा है।।"
Jun 23
Ravi Shukla commented on Sarthak's blog post ग़ज़ल
"आदरणाीय साथर्क जी यद्यपि अापने गजल के अरकान नहीं  लिखें है  फिर भी बहरे मीर पर आपकी इस गजल के लिए बधाई स्वीकार करें । अच्छी गजल कही अापने ।"
Jun 23
Sarthak posted a blog post

ग़ज़ल

तन्हा तन्हा रहता हूँ,मैं भी साये जैसा हूँ।खाली मौसम होता है,तुम बिन जब मैं होता हूँ।मैंने तुमको अपना मानामैं भी देखो कैसा हूँ।उसकी आंखें बादल हैमैं भी भीगे रहता हूँ।चुपके से सुन लेना तुमजो भी तुमसे कहता हूँ।जाने वालों जाओ तुमअब थोड़ी मैं रोता हूँ।अपनी सूखी आंखों मेंअब भी सपने बोता हूँ।मौलिक एवं अप्रकाशितSee More
Jun 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"जी शुक्रिया आपका ।पहला प्रयास है कोशिश रहेगी सीखने में ज्यादा से ज्यादा ध्यान लगाऊं। आप भी मार्गदर्शन करें तो मदद मिलेगी  ।"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आपका तहे दिल से शुक्रिया आरिफ साहब ओर हार्दिक आभार ।ये पहली ग़ज़ल की कोशिश है।आपका साथ रहेगा तो ओर भी अच्छा कर पाऊंगा।पुनः तहे दिल से शुक्रिया।।"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"शुक्रिया नादिर खान जी ,मैं सीखने में यकीन करता हु मैं आपकी ओर गुणी जनों की मदद से अपनी कमियों को दूर करने की कोशिश करूंगा ।"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"समर कबीर आपका आशीर्वाद मिला खुशी हुई ।पहली ग़ज़ल की कोशिश की है ।मार्गदर्शन करें।बहुत बहुत आभारी।"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"धन्यवाद लक्मन जी। बिल्कुल गुणी जनों की सलाह से से परिपक्वता आती है।"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"खूबसूरत रचना"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"बहुत बहुत शुक्रिया रक्षिता जी मगर अभी ग़ज़ल में दोष है उम्मीद करता हु धीरे धीरे कमी दूर होगी ।पुनः शुक्रिया"
Feb 23
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आशीष जी पहली बार बहर में कुछ लिखने की कोशिश की है आपका मार्गदर्शन काम आएगा ।मैं।सीखने में यकीन करता हुँ ओर आगे भी इसपर ही काम करूंगा।"
Feb 23

Profile Information

Gender
Male
City State
Haryana
Native Place
Haryana
Profession
Student
About me
Hard working dedicated

Sarthak's Blog

ग़ज़ल

तन्हा तन्हा रहता हूँ,
मैं भी साये जैसा हूँ।

खाली मौसम होता है,
तुम बिन जब मैं होता हूँ।

मैंने तुमको अपना माना
मैं भी देखो कैसा हूँ।

उसकी आंखें बादल है
मैं भी भीगे रहता हूँ।

चुपके से सुन लेना तुम
जो भी तुमसे कहता हूँ।

जाने वालों जाओ तुम
अब थोड़ी मैं रोता हूँ।

अपनी सूखी आंखों में
अब भी सपने बोता हूँ।

मौलिक एवं अप्रकाशित

Posted on June 22, 2018 at 11:19pm — 7 Comments

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - मुझ को कहा था राह में रुकना नहीं कहीं
"शुक्रिया आ. तेज वीर सिंह जी "
9 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - मुझ को कहा था राह में रुकना नहीं कहीं
"सुक्रिया आ. समर सर "
9 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - मुझ को कहा था राह में रुकना नहीं कहीं
"शुक्रिया आ. सुरखाब भाई "
10 minutes ago
Samar kabeer commented on Pradeep Devisharan Bhatt's blog post "मन मार्जियां "
"जनाब प्रदीप भट्ट साहिब आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,लेकिन ग़ज़ल बह्र और क़वाफ़ी के हिसाब से समय चाहती…"
8 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय नवीन मणि जी।बेहतरीन गज़ल। अब न चर्चा करो तुम मेरी मुहब्बत की हुजूऱ ।अब तलक मुझको…"
13 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - मुझ को कहा था राह में रुकना नहीं कहीं
"हार्दिक बधाई आदरणीय निलेश जी।बेहतरीन गज़ल। तुम क्या गए तमाम नगर अजनबी हुआ मुद्दत हुई है घर से…"
13 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post मुआवज़ा - लघुकथा -
"हार्दिक आभार आदरणीय शेख उस्मानी साहब जी।"
13 hours ago
Samar kabeer commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - मुझ को कहा था राह में रुकना नहीं कहीं
"जनाब निलेश 'नूर' साहिब आदाब,उम्दा ग़ज़ल हुई है,शैर दर शैर दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ…"
13 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Zohaib's blog post ग़ज़ल (ज़ख्म सारे दर्द बन कर)
"वाह बढ़िया ग़ज़ल ज़नाब जोहैब जी..तीसरे शेर में रदीफ़ेन दोष है क्या?"
14 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Zohaib's blog post ग़ज़ल (सुन कर ये तिरी ज़ुल्फ़ के मुबहम से फ़साने)
"वाह बहुत ही खूब ग़ज़ल हुई है ज़नाब..मुबारक़"
14 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on सतविन्द्र कुमार राणा's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय सतविंद्र जी बढ़िया ग़ज़ल कही है..सादर"
14 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Pradeep Devisharan Bhatt's blog post "दीवाना "
"अच्छी ग़ज़ल कही ज़नाब प्रदीप जी..बधाई"
14 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service