For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

1-
जब से जीवन में आया है, साथी तेरा प्यार।
तब से शीतल और सुगंधित,चलने लगी बयार।।
उठने लगा ज्वार नस-नस में, आभासित मधुमास।
प्रिय मैं तो धनवान हो गया, तुम हो मेरे पास।।
2-
आँखों ही आँखों में अलिखित, जब हो गया करार।
ख्वाब हकीकत होते देखा, मैंने पहली बार।।
पंख लगे मेरी खुशियों को, रहा न पारावार।
आसमान में उड़ा ले गया, साथी तेरा प्यार।।
3-
जीवन की अनजान डगर पर, कदम बढ़ाए साथ।
हम दोंनों ने थाम लिथा था, इक दूजे का हाथ।।
कभी-कभी संघर्षों में जब, सफर लगा दुष्वार।
तब-तब मेरा बना हौसला, साथी तेरा प्यार।।
4-
पथरीली राहों पर आए, झंझावात हजार।
साथ तुम्हारा पाकर साथी, जीत लिया संसार।।
जब-जब इस धरती पर जन्मूँ, साथ मिले हर बार।
सात जन्म का साथ रहे यह, साथी तेरा प्यार।।
(मौलिक व अप्रकाशित)
**हरिओम श्रीवास्तव**

Views: 208

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Hariom Shrivastava on September 27, 2017 at 5:59pm
हार्दिक आभार आदरणीया कल्पना जी।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on September 24, 2017 at 8:57pm

सादर धन्यवाद् आदरणीय मेरे प्रश्न का  समाधान देने हेतु | बेहद प्रभावशाली सरसी छंद लिखे हैं आपने जिसके लिए पुनः बधाई |

Comment by Hariom Shrivastava on September 24, 2017 at 8:28pm
हार्दिक आभार आदरणीया कल्पना जी। पारावार यानी असीमित। खुशियों का पारावार न रहा।
Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on September 23, 2017 at 1:57pm

आदरणीय पारावार के माने ? बहुत ही सुंदर सरसी छंद रचे हैं आपने | हार्दिक बधाई आपको |

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

mirza javed baig updated their profile
23 minutes ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"उम्दा भाव और विचार के छंद. बधाई रक्ताले जी "
27 minutes ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"कुण्डलिया छंद   सावन ने जल भर दिया, आया तीर समीप | नदिया फिर रानी बनी , निर्धन बने महीप…"
43 minutes ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"उत्तम, दो कुंडलिया, दोनों में अलग अंदाज़ और रस. बेहद पसंद आये. बधाई "
46 minutes ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"बुढ़ापे के साथी ------------------- गीत  (कुंडलिया+ताटंक+कुंडलिया+ताटंक) देख हमारी सब दशा,…"
49 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया अनामिका जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय छोटे लाल जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अखिलेश जी आदाब,                      …"
1 hour ago
Anamika singh Ana replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"कुण्डलिया - -------------- 1- बीवी नदिया घाट पर , बैठी धोये शर्ट ।  रगड़ -रगड़ कर हाथ से ,…"
1 hour ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया प्रतिभा जी, आपकी दोनों प्रस्तुतियाँ चित्र को परिभाषित करती हुई तो हैं ही, इनमें सहज…"
3 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey posted a blog post

नवगीत : जग-जगती में // -- सौरभ

आग जला कर जग-जगती की  धूनी तज करसाँसें लेलें ! खप्पर का तो सुख नश्वर है चलो मसानी रोटी बेलें !! जगत…See More
3 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 88 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अजयजी छंदों की प्रशंसा के लिए हृदय से धन्यवाद आभार।"
5 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service