For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

dandpani nahak's Discussions (7)

Discussions Replied To (7) Replies Latest Activity

"यूँ हमेशा दूसरों के दिल में न बुरा देखो देखना ही है तो अक्स खुद का अपना देखो टपकती…"

dandpani nahak replied yesterday to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95

114 2 minutes ago
Reply by नादिर ख़ान

"कहतें है जिन्हें हम मज़दूर किसान वह अन्न उपजाता है उस से फिर रूठा रूठा सा क्यों उसका…"

dandpani nahak replied Mar 23 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-93

316 Mar 24
Reply by Samar kabeer

"मौलिक एवम् अप्रकाशित"

dandpani nahak replied Feb 24 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92

649 Feb 24
Reply by Balram Dhakar

"मोलिक"

dandpani nahak replied Feb 24 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92

649 Feb 24
Reply by Balram Dhakar

"सपने उड़ा के जाए हवाएँ तो क्या करें जब ख्वाब कांच से टुट जाएँ तो क्या करें जिन के लि…"

dandpani nahak replied Feb 24 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92

649 Feb 24
Reply by Balram Dhakar

"नज़रें मिलें नज़र से हैरान हो न जाए गुस्ताखियाँ मगर इस दरम्यान हो न जाए उनसे ही क़त्ल…"

dandpani nahak replied Jan 26 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-91

272 Jan 27
Reply by surender insan

"बज़्म में तेरे चर्चा ये आम है हाँ मुझे उस बेवफा से काम है चार रोज़ की जिंदगी क्या कहे…"

dandpani nahak replied Dec 22, 2017 to "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-90

651 Dec 23, 2017
Reply by Samar kabeer

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"चंद लोगों की सियासत के नतीजे में यहाँहोने वाला है बहुत ख़ून ख़राबा देखो.... बेहतरीन  गिरह भी…"
2 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"बहुत उम्दा राय है जनाब समर साहब मज़ा आ गया इस टिप्स पे ... "
9 minutes ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"रोज़ उठता है किसी सच का जनाज़ा देखो झूठ बैठा है यहाँ बन के दरोगा देखो   हो रहा रोज़ नया एक तमाशा…"
19 minutes ago
Mohan Begowal replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"     सब हैं अपने किसी को भी न पराया देखो हो न जाये कहीं झूठा दिल निभाया देखो कौन अब…"
35 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"आ. मोहन जी,प्रति सदस्य एक ही रचना प्रेषित करने   का नियम है  नियम एवं…"
44 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"हार्दिक बधाई आदरणीय गणेश जी बागी जी। लाज़वाब गज़ल।"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"जनाब दिनेश जी, 'किस क़दर रक़सां है इंसान तमाशा देखो फ़ानी दुनिया में तमन्नाओं का जलवा…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on मेघा राठी's blog post लघुकथा
"हार्दिक बधाई आदरणीय मेघा जी। लाज़वाब लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Mohan Begowal's blog post किराये के रिशते (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय मोहन जी। बेहतरीन लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post चाय पर चर्चा (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख उस्मानी जी। बेहतरीन कटाक्ष पूर्ण लघुकथा।"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post छोटा वकील (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख उस्मानी जी। अच्छी व्यंगपूर्ण लघुकथा।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Er. Ganesh Jee "Bagi"'s blog post ग़ज़ल (गणेश जी बागी)
"जनाब राम अवध जी आदाब,ऐब-ए-तनाफ़ुर उसे कहते हैं कि जिस अक्षर पर जुमला ख़त्म हो रहा है,उसी अक्षर से…"
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service