For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

दुनिया से जाने वाले जानें चले जाते हैं कहाँ


संगीत -जगत के मकबूल हस्ताक्षर डॉक्टर भूपेन हजारिका का अपराह्न 4  बजकर 37 मिनट पर मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में निधन हो गया.दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित तथा पद्मविभूषण से विभूषित  भूपेन दा को फिल्म शकुन्तला, प्रतिध्वनि एवं लोटी - घोटी के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. रुदाली, आरोप, पपीहा, साज़, एक पल जैसी फिल्मों के संगीत के लिए भूपेन दा को ज़माना हमेशा याद रखेगा. अभी संगीत - जगत  जगजीत सिंह के ग़म से उबर भी नहीं पाया था कि मौत ने एक और संगीत - शिरोमणि को हमसे छीन लिया. मैं भूपेन दा की मधुर एवं पुण्य
स्मृति को नमन करते हुए अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा हूँ.

Views: 395

Reply to This

Replies to This Discussion

एक बूँद...  मेरी अँखियों से बरसाये....    

विनम्र श्रद्धांजलि ..  ..

हाँ, मैंने उनके बारे में थोड़ा सा पढ़ा है, वे महान व्यक्तित्व के धनी थे. श्रीलाल शुक्ल को मैं राग दरबारी जैसे उपन्यासों के माध्यम से जाना जिनकी पहली पंक्ति ही मन को उद्वेलित कर गयी थी. परन्तु मैं चाहकर भी उन महान हस्तियों से मिल न सका और न कभी अब इसका मौंका ही मिलने वाला है. जिसकी कसक शायद हमेशा रहे.

किनकी बात कर रहे हैं? श्री लाल शुक्ल के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि वो होती यदि सटीक स्थान पर कहीगयी होती.

आप तो लिखते हैं न ! फिर तो आपका कायदे से कुछ पढना बहुत आवश्यक है.

 

"दिल हूम-हूम करे.. घबराए..$$"- फिल्म 'रुदाली' यह गाना मेरे दिल के काफी करीब है. यह सच है कि 'लता जी' और 'गुलज़ार साहब' ने इसे ऊँचे आयाम दिए हैं. पर 'भूपेन दा' की आवाज में इसको सुनते हुए, एक अलग ही दुनिया में चले जाने का सा अहसास होता है. निश्चित रूप से उनके निधन से संगीत जगत को अभूतपूर्व क्षति हुई है. श्रद्धा के दो फूल मेरी ओर से भी.. :(

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद' जी आदाब ! उम्दा ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई  स्वीकार करें सभी…"
7 minutes ago
Md. Anis arman replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आ.  राज़ साहब उम्दा ग़ज़ल के लिए बहुत बहुत बधाई "
11 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीया अंजलि गुप्ता 'सिफ़र' जी आदाब बेहतरीन ग़ज़ल के लिए ह्रदय से बधाई  क़ुबूल फरमाएं…"
11 minutes ago
Samar kabeer commented on Usha Awasthi's blog post हिन्दी सी भला मिठास कहाँ?
"जी,आपसे सहमत हूँ,मैं भी इस समस्या से बहुत दुखी हूँ ।"
13 minutes ago
Md. Anis arman replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"जनाब राज़ नवादवी साहब ग़ज़ल तक आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया, इस पटल पर बड़े दिनों बाद आप को देखकर ख़ुशी…"
16 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय अशफ़ाक़ अली जी आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार  करें "
16 minutes ago
Md. Anis arman replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"जनाब तस्दीक़ अहमद साहब बहुत बहुत शुक्रिया "
18 minutes ago
Samar kabeer commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post बोल उठी सच हैं लकीरें तेरी पेशानी की(७६ )
"'हाल मुफ़लिस के नहीं आज भी बेहतर है ख़ुदा' इस मिसरे में 'हाल मुफ़लिस…"
20 minutes ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post हिन्दी सी भला मिठास कहाँ?
"आदाब,मेरा इशारा देश की किसी भाषा की ओर नहीं है ।अग्रेंजी भाषा का प्रसार जिस तरह हमारे देश में बढ़ा…"
22 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय मोहन बेगोवाल जी आदाब ! हौसला बढ़ाने का बहुत बहुत shukriya!"
31 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय राज़ नवादवी  जी आदाब ! बहुत शुक्रिया आपने वक़्त निकाला गजल  तक आये  अशआर आपको…"
33 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-117
"आदरणीय अशफ़ाक़ अली (गुलशन ख़ैराबादी ) जी नमस्कार ! आदाब ! आपको ग़ज़ल अच्छी लगी  मेरा लिखना सार्थक…"
37 minutes ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service