For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कबूतर बाजी आ गईं
बालकनी पर बैठ गईं।

लू-लपटें चल रहीं
आसरा वो ढूंढ रहीं।

कबूतर बाजी अंदर आईं
फ्लैट पूरा जब घूम आईं।

मिला न कोई अड्डा मन का
पंखों से था ख़तरा तन का।

कौने में दुबक कर बैठ गईं
जैसे-तैसे प्राण बचा पाईं।

चुन्नी ने पंखे ऑफ़ किये
कबूतरनी के फोटो लिये।

सेल्फ़ी भी ख़ूब ली गईं
खाना-पानी ही भूल गईं।

रात जब होने को आई
चुन्नी को अब याद आई।

भोजन-पानी भर कटोरी
पास कबूतरनी रख आईं।

बड़े सबेरे दुपट्टा फैंका
कबूतरनी पकड़ न पाईं।

पंख ताक़त से फड़फड़ाकर
कबूतर बाजी अब उड़ पाईं।

नज़र गई दरवाज़े पर जब
ठंडी हवा में वो भाग पाईं।

चुन्नी खड़ी हो बालकनी पर
टाटा कर वीडियो बना रहीं।

कबूतर बाजी गोते लगाकर
साथियों संग अब उड़ती रहीं।

(मौलिक व अप्रकाशित)
शेख़ शहज़ाद उस्मानी
शिवपुरी (मध्यप्रदेश)
[03 जून, 2019]

Views: 224

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

TEJ VEER SINGH commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"हार्दिक बधाई आदरणीय  सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' जी। बेहतरीन गज़ल। मुफ़लिसी…"
58 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कितना मुश्किल होता है - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"हार्दिक बधाई आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी। बेहतरीन गज़ल। चाहे जितनी आग…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय  डॉ नवीन मणि त्रिपाठी जी। बेहतरीन गज़ल। क्यूँ लिये थे मांग मुझसे मेरी…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post अछूतों सा - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"हार्दिक बधाई आदरणीय लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी। बेहतरीन गज़ल। अछूतों से भी मत करना कभी…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post ग़ज़ल को सँवारा है इन दिनों.- ग़ज़ल
"हार्दिक बधाई आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी। बेहतरीन गज़ल। जो भी गए थे शहर सभी लौट आये…"
1 hour ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post शिवत्व
"बृजेश कुमार 'ब्रज जी,लक्षमण धामी 'मुसाफिर' जी,एवं आशीष यादव जी,आप सभी भाइयों को मेरा…"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post सितारों के बिना ये आसमाँ अच्छा नहीं लगता
"आ. भाई रूपम जी, बेहतरीन गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
2 hours ago
Manoj kumar Ahsaas posted a blog post

अहसास की ग़ज़ल :मनोज अहसास

2×15एक ताज़ा ग़ज़ललाखों ग़म की एक दवा है, सोचो ! कुछ भी याद नहीं. कोई शिकायत करने आए,कह दो कुछ भी याद…See More
4 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted blog posts
4 hours ago
रमेश कुमार चौहान posted a blog post

पहनावा (कुण्डलियां)

पहनावा ही बोलता, लोगों का व्यक्तित्व । वस्त्रों के हर तंतु में, है वैचारिक स्वरितत्व ।। है वैचारिक…See More
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post अछूतों सा - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई आशीष जी, उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक आभार ।"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कितना मुश्किल होता है - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई आशीष जी, सादर आभार ।"
5 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service