For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"मुखियाजी, ई स्साला रॉकिया ’कुक्कुरजात’ के इज्जत खराब करे प तुलल बा."
"अरे का भइल रे शेरुआ..... तनिका सोझ-सोझ बताउ.."
"मुखियाजी, ई ससुरा काल्हु राह चलता एगो छोट लइका के बेमतलबे काटि लिहलस"
"हँ रेऽऽऽ ? सही बात ?.....," मुखियाजी गरजले.
"मुखियाजी, गलती भ गइल.. दरअसल उ लइकवा के गोड़ से एगो ढेला लड़ि के हमरा लागि गइल आ हमरा बुझाइल जे ऊ जान-बुझिके मरलस हऽ. एही भरम में हबका गईल."
"हूँऽऽऽ.. समझ-बुझि के नू कवनो काम करे के चाहीं, ना त हमनी भा ’आदमजात’ में का अंतर रहि जाई ? ओइसहूँ ई बात पंचायत में कौ हाली कहाइल बा जे मेहरारू, छोट लइकन आ बूढ़-पुरनिया के गलतियों प नइखे काटे के.. बाकिर तहनी लउंडा-लफाड़ी के त कुछऊ सुनाते नइखे.. दिन-प-दिन तहनी प ’अदमीपन’ हावी भइल जा रहल बा. हम फेनु कहि रहल बानी.. सुधर जा स, ना त कहियो ’अदमी’ के मउअत मरबs सऽ.."
"माफ़ क दीं मुखियाजी, आगा से अइसन गलती कबो ना होखी."

मौलिक व अप्रकाशित
पिछला पोस्ट ==> भोजपुरी लघुकथा : लक्षुमन रेखा

Views: 503

Replies to This Discussion

कुत्तई को अच्छे से प्रोटेक्ट किया है मुखिया जी ने ... :)

प्रतिक्रिया खातिर आभार भाई वीनस जी.

दिन-प-दिन तहनी प ’अदमीपन’ हावी भइल जा रहल बा. हम फेनु कहि रहल बानी.. सुधर जा स, ना त कहियो ’अदमी’ के मउअत मरबs सऽ.." ....हा....हा.....हा आनंद आ गया ,सुन्दर प्रस्तुति आदरणीय इं गणेश जी "बागी" सर , हार्दिक बधाई !

आदरणीय हरी प्रकाश दुबे जी, राउर सराहना मिलल, लघुकथा सफल बुझाए लागल, आभार.

जबरदस्त लघुकथा, बहुत बहुत बधाई ।

सराहना खातिर बहुते आभार आदरणीय श्याम नारायन वर्मा जी.

एगो आउर धांसू रचना पे आपके बधाई आ. Er. Ganesh Jee "Bagi" जी | 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय मोहन बेगोवाल जी प्रणाम बहुत शुक्रिया आपका"
8 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय रवि भसीन ' शाहिद ' जी आदाब ! बहुत शुक्रिया आपने हौसला बढ़ाया आपने अपना कीमती समय…"
9 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय लक्ष्मण धामी ' मुसाफ़िर ' जी बहुत बहुत शुक्रिया आप ने समय निकला ग़ज़ल तक आये"
11 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"परम आदरणीय समर कबीर साहब प्रणाम ! बहुत बहुत शुक्रिया हौसला बढ़ाने का बाकि सब आपकी कृपा हैं और हमेशा…"
13 minutes ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"सर जी, बहुत शुक्रिया जी"
32 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"जनाब मोहन बेगोवाल जी आदाब,तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । मतले के दोनों…"
37 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"मेरे लायक़ जो भी सेवा हो मैं हर समय हाज़िर हूँ ।"
44 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"//गीत तूने ग़म का ही हमको सुनाया उम्रभर ज़िन्दगी तुझको हसीं नग़्मा समझ बैठे थे हम // मैंने तो कुछ शब्द…"
48 minutes ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"बहुत सुंदर ग़ज़ल की बधाई हो"
49 minutes ago
मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"सुंदर ग़ज़ल की बधाई"
50 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"शुक्रिय:"
54 minutes ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय मोहन बेगोवाल साहब, आदाब। प्रभावशाली मिसरों से सजी इस सुंदर ग़ज़ल की रचना पर आपको हार्दिक बधाई।"
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service