For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

                         चीस बरिस पहिले राजेश्वर सिंह गाँव छोड़ बम्बई के एगो उद्योगपति के दमाद बनि ओहिजे बस गइले. हाइ-फाइ माहौल में जनमल आ पढ़ल-बढ़ल सिंह साहब के बेटा जिद करे लागल जे ऊ होली गाँवे में मनाई. बबुआ केनियो पढ़ लेले रहे जे गाँव में होली मस्त होला.

                          एक हप्ता के बाद बबुआ होली मना के वापिस बम्बई चहुँपल आ चहुँपते अपना डैड आ मॉम के गोड़ धइ के परनाम कइलस. हाय-बाय करे वाला लइका प गाँव के रंग आ बसंती बयार के असर साफा लउकत रहे.

(मौलिक व अप्रकाशित)
पिछला पोस्ट ==> भोजपुरी लघुकथा : माई किरिया

Views: 269

Replies to This Discussion

बहुत बढ़िया लघुकथा भईल भा आ.  Er. Ganesh Jee "Bagi" जी साहिब ,,,आपके धेरकुल बधाई |

लघुकथा सराहे बदे बहुते आभार महर्षि भाई.

बहुतै सुन्दर. बधाई , आदरणीय इंजीo गणेश जी बागी जी , सादर।

बहुते आभार आदरणीय डॉ विजय शंकर जी, राउर सराहना हमरा खातिर आशीर्वाद बा.

राउर खड़ी बोली  लघुकथा जेतना प्रभावी होला ओतना ई कथा ना लगत बा ,तबो भोजपुरी में आप लिखेलीं अउर एकर प्रसार-प्रचार करे लीं ,ये खातिर बधाई |

सोमेश भाई रउआ एह लघुकथा प अईनी आ आपन विचार दिहनी इहो बहुत बा, निक ना लागल उ त ठीक बा बाकिर रौआ त खुदे एगो नीमन साहित्यकार हई, कुछो सुझाव देहती त औरों निक रहित, आभार आपके.

बढ़िया बा

राउर धन्यवाद बा श्वेतांक जी.

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आद० अफरोज़ साहब ,आपको ग़ज़ल पसंद आई आपका बहुत बहुत शुक्रिया "
1 minute ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आद० मनन कुमार जी,आपको ग़ज़ल पसंद आई आपका बहुत बहुत शुक्रिया   "
2 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आद० मोहम्मद आरिफ जी ,आपको ग़ज़ल पसंद आई आपका बहुत बहुत शुक्रिया "
3 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"जनाब अमित कुमार'अमित'जी आदाब,अभी आपको क़ाफिये की पहचान नहीं है,ओबीओ पर ग़ज़ल की कक्षा का लाभ…"
3 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आदरणीय मुनीस तन्हा जी बहुत ही सुंदर गजल कहने के लिए बहुत बहुत बधाइयां"
6 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"जनाब सलीम रज़ा साहिब आदाब,बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ शैर दर शैर मुबारकबाद पेश करता हूँ ।"
9 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आदरणीय सलीम रजा जी बहुत ही सुंदर गजल कहने के लिए बहुत बहुत बधाइयां"
10 minutes ago
Rakshita Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"आदरणीय मामा जी, शब्दों के तानों वानों से बुनी बहुत ही खूबसूरत गज़ल! मुबारकबाद कुबूल…"
14 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"मुहतर्मा राजेश कुमारी साहिबा, ग़ज़ल में आपकी शिरकत और हौसला अफ़ज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया । आप अगर…"
17 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"जनाब डॉ.गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास दिल लुभाने वाला है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश…"
28 minutes ago
SALIM RAZA REWA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"वाह अफरोज साहिब आपकी ग़ज़ल और ख़ूबसूरत न हो.. ये हो ही नहीं सकता.. मुरस्सा ग़ज़ल के लिए…"
34 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-89
"ये इश्क की जो बर्फ है यूं ही जमीं रहे। दिल की जमीं पे सिर्फ मुहब्बत जमीं रहे।।1।। जो दर्द थे वो…"
38 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service