For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

somesh kumar
  • Male
  • delhi
  • India
Share

Somesh kumar's Friends

  • jaan' gorakhpuri
  • Hari Prakash Dubey
  • Rahul Dangi
  • विनोद खनगवाल
  • Manan Kumar singh
  • gumnaam pithoragarhi
  • atul kushwah
  • जितेन्द्र पस्टारिया
  • vijay nikore
  • ajay sharma
  • JAWAHAR LAL SINGH
 

somesh kumar's Page

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"आ. सोमेश जी सुंदर मुक्तक हुए हैं । हार्दिक बधाई ।"
yesterday
somesh kumar commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"rchna ko psand krne aur sneh dene k liye aap guni mitro ka shukriya"
Sunday
Rakshita Singh commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"आदरणीय सोमेश जी, सुन्दर रचना...बहुत बहुत बधाई।"
Sunday
Sheikh Shahzad Usmani commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"बहुत बढ़िया भावपूर्ण मुक्तक सृजन के लिए हार्दिक बधाई आदरणीय सोमेश कुमार जी।"
Saturday
Mohammed Arif commented on somesh kumar's blog post ख्याल
"आदरणीय सोमेश कुमार जी आदाब,                             प्यार के ख़ूबसूरत अहसासों से भरपूर अच्छे मुक्तक और अंतिम रचना में बुढ़ापे को रेखांकित बेहतरीन रचना । हार्दिक बधाई स्वीकार…"
Saturday
somesh kumar posted a blog post

ख्याल

यकीनयही सोच कर रुठीं हूँ मना लेगा वोगलतफहमियाँ जो हैं मिटा देगा वोप्यार से खींचकर भींच लेगा मुझेगलतियाँ जो की हैं भुला देगा वो |      पहली गुफ्तगूपहला जाम पी लिया खोलकर ये दिलजाम की आरज़ू है तू रोज़ यूँ ही मिलमझधार में भटकी सफीना दूर है साहिलबन जा पतवार मेरी ले चल मुझे मंजिल           बुढ़ावो जो एक शख्स झुका-झुका सा बैठा हैउसकी  पीठ  पर यह घर टिका  बैठा हैछातियाँ बात-बेबात गुब्बारा हुई जाती हैंहवा के दाब सहता हुआ  फेफड़ा बैठा हैसूख कर वो आँखे अब सहरा हो चली हैं  किसे खबर  है कि उनमें दरिया बैठा…See More
Saturday
Harihar Jha commented on somesh kumar's blog post तितली और सफ़ेद गुलाब
"बहुत सुन्दर!"
Feb 12
somesh kumar commented on somesh kumar's blog post वो छू के गई ऐसे
"रचना पर आने और अपनी अनमोल प्रतिक्रिया देने के लिए सभी मित्रों को साधुवाद l"
Feb 12
somesh kumar commented on Harihar Jha's blog post सुर्ख़ियों में कहाँ दिखती?
"राजनीति बुद्धिजीवी मिडिया तीनो को अपनी इस व्यंग्य कविता से आप ने धो दिया l"
Feb 12
somesh kumar commented on Sushil Sarna's blog post अस्तित्व ....
"यह किसी पीड़ा का दृश्य लगता है क्या इसे दृश्य कविता कह सकते हैं ?"
Feb 12
somesh kumar commented on amod srivastav (bindouri)'s blog post इस नशेमन की मोहलत है तबतक...
"ऐसा लगा की रंग-बिरंगे मोतियों को सजाकर एक प्यारी सी माला बना दी हो जब तपे हो आग में तो ये कुंदन बना है एक लव स्टोरी दिमाग में चल रही है अगर आप को आपत्ति न हो तो एकाध शेर वहां प्रयोग करना चाहूंगा"
Feb 12
somesh kumar commented on Neeraj Mishra "प्रेम"'s blog post बन गया तुम्हारी याद हूँ मैं/ग़ज़ल
"मै पंछी जग के पिंजरे का तू आसमान सा है मुझको, तू अपनी कैद में रख ले अब इस कैद में ही आज़ाद हूँ मै। बहुत उम्दा भाव है अच्छे प्रयास पर बधाई"
Feb 12
somesh kumar commented on Mohammed Arif's blog post कविता--नए संस्करण
"समय को कितनी सटीकता से पकड़ा है भाई जी आपने"
Feb 12
somesh kumar posted a blog post

तितली और सफ़ेद गुलाब

“भाई अरविन्द ,कब तक ताड़ते रहोगे ,अब छोड़ भी दो बेचारी नाजुक कलियाँ हैं |”“मैंsए ,नहीं तो -----“वो ऐसे सकपकाया जैसे कोई दिलेर चोर रंगे हाथों पकड़ा जाए और सीना ठोक कर कहे –मैं चोर नहीं हूँ |“अच्छा तो फिर रोज़ होस्टल की इसी खिड़की पर क्यों बैठते हो  ?”“यहाँ से सारा हाट दिखता है |”“हाट दिखता है या सामने रेलवे-क्वार्टर की वो दोनों लडकियाँ --–““कौन दोनों !किसकी बात कर रहे हो !देखों मैं शादी-शुदा हूँ ---और तुम मुझसे ऐसी बात कर रहे हो –“ उसने बीड़ी को झट से फैंका और पैरों के नीचे मसल के फटाफट कमरे में आकर…See More
Feb 12
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on somesh kumar's blog post वो छू के गई ऐसे
"अच्छी रचना है सोमेश जी..बधाई"
Feb 11
SALIM RAZA REWA commented on somesh kumar's blog post वो छू के गई ऐसे
"सोमेश जी गीत बहुत अच्छा बधाई, .... गीत के रदीफ़ का तुकांत हर आख़िरी बंद मे आना चाहिए जो नहीं है.. बहती है पवन जैसे आपकी तुकान्त है तो हर बंद के अखिर में जैसे. तैसे. कैसे.. आदि आना था...सादर"
Feb 9

Profile Information

Gender
Male
City State
delhi
Native Place
azamgardh
Profession
teacher and freelance writer
About me
passionate lover of hindi sahitya

Somesh kumar's Blog

ख्याल

यकीन

यही सोच कर रुठीं हूँ मना लेगा वो

गलतफहमियाँ जो हैं मिटा देगा वो

प्यार से खींचकर भींच लेगा मुझे

गलतियाँ जो की हैं भुला देगा वो |

 

     पहली गुफ्तगू

पहला जाम पी लिया खोलकर ये दिल

जाम की आरज़ू है तू रोज़ यूँ ही मिल

मझधार में भटकी सफीना दूर है साहिल

बन जा पतवार मेरी ले चल मुझे मंजिल

 

 

         बुढ़ा

वो जो एक शख्स झुका-झुका सा बैठा है

उसकी  पीठ  पर यह घर टिका  बैठा है

छातियाँ…

Continue

Posted on February 16, 2018 at 11:31pm — 5 Comments

तितली और सफ़ेद गुलाब

“भाई अरविन्द ,कब तक ताड़ते रहोगे ,अब छोड़ भी दो बेचारी नाजुक कलियाँ हैं |”

“मैंsए ,नहीं तो -----“

वो ऐसे सकपकाया जैसे कोई दिलेर चोर रंगे हाथों पकड़ा जाए और सीना ठोक कर कहे –मैं चोर नहीं हूँ |

“अच्छा तो फिर रोज़ होस्टल की इसी खिड़की पर क्यों बैठते हो  ?”

“यहाँ से सारा हाट दिखता है |”

“हाट दिखता है या सामने रेलवे-क्वार्टर की वो दोनों लडकियाँ --–“

“कौन दोनों !किसकी बात कर रहे हो !देखों मैं शादी-शुदा हूँ ---और तुम मुझसे ऐसी बात कर रहे हो –“ उसने बीड़ी को झट से…

Continue

Posted on February 11, 2018 at 7:30am — 1 Comment

वो छू के गई ऐसे

हौले से हिला कर के

नींद से जगा कर के

बहती है पवन जैसे

वो छू के गई ऐसे |

प्यारी सी एक लड़की

थी सांवले कलर की

एक ख़्वाब जगा करके

मुझे अपना बता कर के

वो छू के गई ऐसे-----

रात भर मुझे जगाना

बिन बात मुस्कुराना

सिर मेरा ही खाना

कहने पे रूठ जाना

वो छू के गई ऐसे----

दुनियाँ भली लगी थी

वो जब मुझे मिली थी

शायद थी भागवत वो

था मुझको गुनगुनाना |

वो छू के गई…

Continue

Posted on February 8, 2018 at 9:30am — 4 Comments

पुआल बनती ज़िन्दगी(कहानी )

पुआल बनती ज़िन्दगी

 

जब मैं गाँव से निकला तो वह पुआल जला रही थी | ठीक उसी तरह जिस तरह वह पहले दिन जला रही थी,जब मैंने उसे इस बार,पहली बार देखा था | ना तो मैं उससे तब मिला था ना आज जाते हुए | पर मैं संतुष्ट था |मेरी अभिलाषा काफ़ी हद तक तृप्त थी |मेरे पास एक उद्देश्य था और एक जीवित कहानी थी |

 पहली बार जब मैं स्टेशन के लिए निकला तभी पत्नी ने फोन करके कहा की गाड़ी का समय आगे बढ़ गया है और जैसे ही मैं गाँव में लौटा मैंने खुशी मैं शोर मचाया और वह भी चिड़ियों की…

Continue

Posted on January 15, 2018 at 8:29pm

Comment Wall (6 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:52pm on January 26, 2015, kanta roy said…
बहुत बहुत आभार सोमेश जी
At 7:42pm on November 18, 2014,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…
आ, सोमेश भाई , महीने के सक्रिय सदस्य चुने जाने पर आपको बहुत बहुत बधाई ।
At 10:14am on November 16, 2014, जितेन्द्र पस्टारिया said…

आपकी मित्रता का स्वागत है आदरणीय सोमेश जी.

सादर!

At 9:11pm on November 13, 2014,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय सोमेश कुमार जी,
सादर अभिवादन,
यह बताते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है कि ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार में आपकी सक्रियता को देखते हुए OBO प्रबंधन ने आपको "महीने का सक्रिय सदस्य" (Active Member of the Month) घोषित किया है, बधाई स्वीकार करें | प्रशस्ति पत्र उपलब्ध कराने हेतु कृपया अपना पता एडमिन ओ बी ओ को उनके इ मेल admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध करा दें | ध्यान रहे मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई है |
हम सभी उम्मीद करते है कि आपका सहयोग इसी तरह से पूरे OBO परिवार को सदैव मिलता रहेगा |
सादर ।
आपका
गणेश जी "बागी"
संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक
ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 4:49pm on November 11, 2014, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

सोमेश जी

आपने  कठिन शब्दो के अर्थ  बताने के लिये कहा है - मेर्री समझ में जो शब्द कुछ कठिन है उनके अर्थ दे रहा हूँ

निर्माल्य - जो फूल देवता पर चढ़ चुका हो या माला से टूट गया हो

अनीह - इच्छारहित

अव्यय - अविनाशी

घट कर्ण -कुंभ कर्ण

रौप्य-- चाँदी 

At 6:12am on November 1, 2014,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

आदरणीय सोमेश भाई , आपको इस मंच पर देख कर बहुत खुशी हुई , आप सही जगह आये हैं । लगभग एक मही ने से मंच से जुड नही पाया , तबीयत ठीक हुई तो घर बदलने का भारी काम सामने आ गया , रिटायर्मेंट के बाद बी एस पी का मकान छोडना था , इसी महीने मेरा मकान बन के तैयार हुआ , दीवाली के पहले मकान बदलने का तय हुआ । मकान बदलने  के बाद मेरा ब्राड्बेंड कनेक्शन अभी तक ट्रांसफर नही हुआ है , नेट न होने के कारण भी दूरी बनी रही । अभी भी ब्राडबैंड नही है , एक डोन्गल से काम चला रहा हूँ , जो कल रात एक्टीवेट हुआ है । धीमा ही सही दोंगल लाम कर रहा है । अब रोज मुलाकात होगी यहीं ।

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

vijay nikore commented on vijay nikore's blog post काल कोठरी
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, आदरणीय नादिर खान जी।"
4 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post मौन-संबंध
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, आदरणीय नादिर खान जी।"
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल- समझा हूँ तेरे हुस्न के ज़ेरे ज़बर को में
"आदरणीय कबीर सर सादर नमन । सबसे पहले आपके स्वस्थ रहने की दुआ करता हूँ । आपके बिना ओबीओ सूना हो जाता…"
4 hours ago
Ram Awadh VIshwakarma commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल- बलराम धाकड़ ( मसौदा भी ज़रूरी है...)
"बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है।बधाई स्वीकारें"
5 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल...न जाने कैसे गुजरेगी क़यामत रात भारी है-बृजेश कुमार 'ब्रज'
"थोड़ा बहुत समझ रहा हूँ आदरणीय समर कबीर जी..कोशिश करता हूँ कुछ बदलाव कर सकूँ।तहेदिल से शुक्रिया आपका.."
6 hours ago
Samar kabeer commented on Dr. Vijai Shanker's blog post सब सही पर कुछ भी सही नहीं है - डॉo विजय शंकर
"आली जनाब डॉ.विजय शंकर जी आदाब,सोचने पर मजबूर करती उलझे सवालों की इस बहतरीन कविता के लिए दिल से बधाई…"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post मिज़ाज (लघुकथा)
"जनाब शैख़ शहज़ाद उस्मानी जी आदाब,कम शब्दों में सशक्त प्रस्तुति,इस लघुकथा पर दिल से बधाई स्वीकार करें ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on पीयूष कुमार द्विवेदी's blog post सरसी छंद
"जनाब पीयूष जी आदाब,बढ़िया सरसी छन्द,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post एक और रत्नाकर(लघुकथा)
"जी बहना ।"
6 hours ago
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल- समझा हूँ तेरे हुस्न के ज़ेरे ज़बर को में
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब, "ग़ालिब'की ज़मीन में ग़ज़ल का प्रयास अभी और समय चाहता है,कई…"
6 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post एक और रत्नाकर(लघुकथा)
"भाई पहले अपनी तबियत देखिये| कृपया अपना ख्याल रखें आ समर भाई जी|"
6 hours ago
Samar kabeer commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post एक और रत्नाकर(लघुकथा)
"बहना पूरी तरह स्वस्थ नहीं हूँ,बस इतना है कि अपने परिवार की सेवा में हाज़िर हो गया हूँ ।"
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service