For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

JAWAHAR LAL SINGH
  • Male
  • Jamshedpur, Jharkhand.
  • India
Share

JAWAHAR LAL SINGH's Friends

  • somesh kumar
  • अनिल कुमार 'अलीन'
  • शकील समर
  • Harish Upreti "Karan"
  • Sumit Naithani
  • जितेन्द्र पस्टारिया
  • ASHISH KUMAAR TRIVEDI
  • केवल प्रसाद 'सत्यम'
  • बृजेश नीरज
  • वेदिका
  • Abid ali mansoori
  • Yogi Saraswat
  • Rekha Joshi
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • कुमार गौरव अजीतेन्दु
 

JAWAHAR LAL SINGH's Page

Latest Activity

JAWAHAR LAL SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post औक़ात - लघुकथा –
""आप जैसे भेड़ियों की गंदी नज़रों से एक विधवा औरत की आबरू बचाने के लिये"। आदरणीय तेजवीर सिंह जी,पूरी कथा का सार आपने इन पंक्तियों में भर दिया... बहुत ही अच्छी प्रस्तुति सादर!"
Sep 13
JAWAHAR LAL SINGH commented on विनय कुमार's blog post कोई और नहीं-- लघुकथा
"आदरणीय विनय कुमार जी, आपने सच्ची कथा लिख दी  है. जबकि भागदौड़ की इस जिन्दगी में कोई भी दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को मदद करने की जहमत नहीं उठाना चाहता पर कुछ लोग तो ऐसे होते ही हैं... मानवता अभी भी जिन्दा है कहीं न कहीं किसी न किसी रूप में! सादर!"
Sep 13
JAWAHAR LAL SINGH commented on Sushil Sarna's blog post भ्रम ... (दो क्षणिकाएं )
"आदरणीय सुशील सरना जी, दोनों क्षणिकाएं एक दुसरे की पूरक और प्रत्युत्तर भी ...बेहतरीन प्रस्तुति... गागर में सागर की तरह!"
Sep 13
JAWAHAR LAL SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post वसुधा - कहानी
"आदरणीय तेजवीर सिंह जी, कहानी अच्छी कही जा सकती है पर आम तौर पर ऐसा होता नहीं ... फिर भी कहानीकार के अपने विचार होते हैं उसे हम नजरंदाज तो नहीं कर सकते! अच्छी रचना के लिए बधाई! "
Sep 13
JAWAHAR LAL SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'डंके' की 'चोट' पर (लघुकथा)
"आदरणीय शैख़ शहजाद उस्मानी साहब, आपने चीटियों के प्रतीक के माध्यम से आज की ब्यवस्था पर जबर्दश्त चोट की है. बहुत बहुत बधाई!"
Sep 13
JAWAHAR LAL SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post लघुकथा -– आँखें -
"३ दिसंबर, अंतराष्ट्रीय विकलांग दिवस के लिए इससे अच्छे लाघकथा नहीं हो सकती थी. मेरी समझ के अनुसार! बधाई आदरणीय !"
Dec 5, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on surender insan's blog post "एक क़तरा था समंदर हो गया हूँ"
"जख़्म दिल के तो नहीं अब तक भरे है।हां मगर पहले से बेहतर हो गया हूँ। खूबसूरत पंक्तियाँ! बधाई!"
Dec 5, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post केक के बोलते टुकड़े (लघुकथा)
"आज की परिस्थति को दर्शाता और बच्चों के मनोभाव का बखूबी चित्रण हुआ है! बधाई!"
Dec 5, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--लूट
"मुझे ऐसा लगता है कि अंधभक्त छोड़ शायद ही कोई इस आयोजन से सा खुश होगा पर खुश दिखने का भी हुनर होता है. गरीब बच्चों और गरीब महिलाओं के फोटो आये थे दूसरे दिन जो तंगहाली के ब्यथा कह रही थी. "
Oct 22, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Dr Ashutosh Mishra's blog post डूबता जहाज
"बेहतरीन प्रस्तुति! काश कि धर्मोन्माद मत्त लोग समझ पाते इसे!"
Oct 22, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Ram Awadh VIshwakarma's blog post ग़ज़ल - यूँ ही गाल बजाते रहिये
"जीती बाजी हार न जायें,दाँव पेंच दिखलाते रहिये।जिनको राह के रोड़े समझेंउनको रोज हटाते रहिये। अपना सीना ठोक ठोक कर यूं ही रौब जमाते रहिये!"
Oct 22, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Dr.Prachi Singh's blog post दीप जला क्या // डॉ० प्राची
"झाड़खंड में एक बालिका मर गयी कहते भात भात कहीं कोई सिसकी ठहरी न लीपा पोती करने में सब और भला करते ही क्या?"
Oct 22, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post कहीं दीप जले, कहीं दिल (लघुकथा)/ शेख़ शहज़ाद उस्मानी
"हंगामा खड़ा करना ही मकसद है, तस्वीर बदलने की चिंता किसी को नहीं।।। पर आपकी चिंता जायज है. आदरणीय उस्मानी साहब!"
Oct 22, 2017
JAWAHAR LAL SINGH replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-24 (विषय: अनुत्तरित प्रश्न)
"आदरणीया प्रतिभा पाण्डेय ने ज्वलंत समस्या की तरफ ध्यान आकृष्ट किया है. शिल्प में चाहे जो भी सुधर करने की जरूरत विशेषज्ञ लोग बता रहे हैं पर बड़ा ही संवेदनशील मुद्दा है जो हमारे समाज को वीभत्स कर रहा है. आदरणीया प्रतिभा पाण्डेय जी बधाई की पात्र हैं,…"
Mar 30, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on आशीष यादव's blog post यह सियासत आप पर हम पर कहर होने को है
"बहुत ही शानदार जानदार और व्यंग्यदार रचना हुई है आदरणीय आशीष यादव जी!"
Mar 3, 2017
JAWAHAR LAL SINGH commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(जैसे तैसे आगे आता))
"जात-धरम के पेड़ फफनते थोड़े बिरवे और बढ़ाता!6   मेरी खातिर भींग कहें सब- 'ले लो मेरा,ले लो छाता!'7 बहुत ही सुन्दर और सत्य को उजागर करती हुई रचना!"
Mar 3, 2017

Profile Information

Gender
Male
City State
JAMSHEDPUR
Native Place
PATNA
Profession
SERVICE
About me
INTRESTED IN HINDI LITRATURE, HINDU REILIGION,POLITICS.

JAWAHAR LAL SINGH's Blog

कुछ मुक्तक आँखों पर

अँखियों में अँखियाँ डूब गई,

अँखियों में बातें खूब हुई.

जो कह न सके थे अब तक वो,

दिल की ही बातें खूब हुई.

*

हमने न कभी कुछ चाहा था,

दुख हो, कब हमने चाहा था,

सुख में हम रंजिश होते थे,

दुख में भी साथ निबाहा था.

*

ऑंखें दर्पण सी होती है,

अन्दर क्या है कह देती है.

जब आँख मिली हम समझ गए,

बातें अमृत सी होती है.

*

आँखों में सपने होते हैं,

सपने अपने ही होते हैं,

आँखों में डूब जरा…

Continue

Posted on August 22, 2016 at 7:00am — 16 Comments

देश में रहकर मुहब्बत देश से करते चलो!

देश में रहकर मुहब्बत, देश से करते चलो!

देश आगे बढ़ रहा है, तुम भी डग भरते चलो.

.

देश जो कि दब चुका था, आज सर ऊंचा हुआ है,

देश के निर्धन के घर में, गैस का चूल्हा जला है

उज्ज्वला की योजना से, स्वच्छ घर करते चलो.

देश में रहकर............

.

देश भारत का तिरंगा, हर तरफ लहरा रहा,

ऊंची ऊंची चोटियों पर, शान से फहरा रहा,

युगल हाथों से पकड़ अब, कर नमन बढ़ते चलो.

देश में रहकर............

.

देश मेरा हर तरफ से, शांत व आबाद…

Continue

Posted on June 7, 2016 at 8:30am — 18 Comments

भारत एक मैदान

मेरे घर के पास है, एक खुला मैदान,

चार दिशा में पेड़ हैं, देते छाया दान

करते क्रीड़ा युवा हैं, मनरंजन भरपूर

कर लेते आराम भी, थक हो जाते चूर

सब्जी वाले भी यहाँ, बेंचे सब्जी साज.

गोभी, पालक, मूलियाँ, सस्ती ले लो आज…

Continue

Posted on November 25, 2015 at 8:30pm — 4 Comments

सरिता की धारा सम जीवन

नित्य करेला खाकर गुरु जी, मीठे बोल सुनाते हैं,

नीम पात को प्रात चबा बम, भोले का गुण गाते हैं.

उपरी छिलका फल अनार का, तीता जितना होता है

उस छिलके के अंदर दाने, मीठे रस को पाते हैं.

कोकिल गाती मुक्त कंठ से, आम्र मंजरी के ऊपर

काले काले भंवरे सारे, मस्ती में गुंजाते हैं.

कांटो मध्यहि कलियाँ पल कर, खिलती है मुस्काती है

पुष्प सुहाने मादक बनकर, भौंरों को ललचाते हैं.

भीषण गर्मी के आतप से, पानी कैसे भाप बने

भाप बने बादल जैसे ही, शीतल जल को लाते…

Continue

Posted on August 4, 2015 at 9:00pm — 4 Comments

Comment Wall (14 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:17am on June 10, 2013, D P Mathur said…

आदरणीय जवाहर जी आपका हार्दिक आभार !

At 10:12am on May 12, 2013, बृजेश नीरज said…

आदरणीय जवाहर जी आपको यहां साथ देखकर मुझे अपार खुशी हुई। आपकी शुभकामनाओं हेतु हार्दिक आभार! अपना स्नेह यूं ही बनाए रखिएगा!
सादर!

At 10:57am on November 29, 2012, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…

सादर नमस्कार श्री जवाहर जी.............!!

At 2:41pm on May 20, 2012, Yogi Saraswat said…

बहुत बहुत धन्यवाद श्री जवाहर  जी  ! आपका  आशीर्वाद  मिला

At 7:14pm on April 12, 2012, Sarita Sinha said…

jawahar bhai sahab, namaskar,

meri kavita pasand karne ke liye dhanyvad...

'click' par click karne se to transliterate ka page khulta hai..kya wahan se copy/paste  karna hoga???

At 11:17pm on April 9, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

हे, मेरे ईश्वर,

हे मेरे परमात्मा,

दे इन्हें सदबुद्धि,

दे इन्हें आत्मा,

न लड़ें, ये खुद से,

कभी धर्म या भाषा के नाम पर,

प्रिय जवाहर जी जय श्री राधे --प्रभु आप के मन की बात सुनें ..सब एकीकृत हों प्यार इस चमन में गूंजे पुरवाई चले प्रेम और स्नेह की 

सुन्दर ...
भ्रमर ५ 


At 2:41pm on April 7, 2012, Mukesh Kumar Saxena said…

Shri jawahar ji aapne meri kavitayen pasand ki uske liye aabhari hun kirpya isi prakar haunsa badaye.dhanyabad.

At 12:47pm on April 2, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

aadarniy singh sahab ji , dhanyvad. ye apki mahanta hai.

At 5:43pm on March 22, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

abhar aapka sneh hetu mahodaya ji. aap to mala ke pendulam hain. shobha aap se hi hai.singh sahab ji.

At 3:30pm on March 15, 2012, MAHIMA SHREE said…
आदरणीय जवाहर जी
सादरनमस्कार ....आपका हार्दिक धन्यवाद....स्नेह बनाए रखे
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

amod shrivastav (bindouri) posted a blog post

बहुत पछतायेगा वो मेरा पता पा कर - ग़ज़ल

बह्र - 1222-122-2212-22कोई यूँ खुश हुआ हो अपना खुदा पाकर।।बहुत पछताएंगे वो मेरा पता पाकर।।सफर चलना…See More
2 minutes ago
narendrasinh chauhan commented on V.M.''vrishty'''s blog post जलती मुस्कुराहटें
"लाजवाब"
35 minutes ago
narendrasinh chauhan commented on रकमिश सुल्तानपुरी's blog post ग़ज़ल-वक्त आने दो जरा फ़िर
"खुब सुन्दर रचना"
35 minutes ago
narendrasinh chauhan commented on Anita Maurya's blog post नज़्म - कहाँ जाऊँ के तेरी याद का
"लाजवाब"
39 minutes ago
Surkhab Bashar commented on Sushil Sarna's blog post अनकहा ...
"जनाब  सुशील  सरना  जी आदाब, बहुत अच्छी रचना हुई, मुबारक पेश करता हूँ"
3 hours ago
Profile IconSurkhab Bashar and Bahorik Ram Sahu joined Open Books Online
4 hours ago
V.M.''vrishty'' commented on V.M.''vrishty'''s blog post जलती मुस्कुराहटें
"आदरणीय बृजेश कुमार जी,सादर अभिनंदन! बहुत बहुत हार्दिक धन्यवाद!"
4 hours ago
V.M.''vrishty'' commented on V.M.''vrishty'''s blog post जलती मुस्कुराहटें
"आदरणीय समर कबीर सर, सादर नमन! आपके स्नेहिल शब्दो के लिए हृदय से आभार!"
4 hours ago
V.M.''vrishty'' commented on V.M.''vrishty'''s blog post जलती मुस्कुराहटें
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी,प्रणाम! बहुत बहुत धन्यवाद!"
4 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post पढ़ो तो इसको’ फाड़ो मत- गजल
"आदरणीय सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' जी सादर नमस्कार, सही कहा आपने , वाकई हम…"
7 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post पढ़ो तो इसको’ फाड़ो मत- गजल
"आदरणीय  Samar kabeer जी सादर नमस्कार, हमेशा की तरह आपकी शानदार इस्लाह को सादर नमन, आपसे…"
7 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post पढ़ो तो इसको’ फाड़ो मत- गजल
"आदरणीय बृजेश कुमार 'ब्रज'   जी सादर नमस्कार, आपकी हौसलाफजाई का…"
7 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service