For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Abid ali mansoori
  • Male
  • Bareilly
  • India
Share

Abid ali mansoori's Friends

  • Rahila
  • Sunil Verma
  • Dr T R Sukul
  • RENU BHARTI
  • pratibha pande
  • pratibha tripathi
  • Archana Tripathi
  • Dr. Vijai Shanker
  • Nilesh Shevgaonkar
  • गिरिराज भंडारी
  • Vasundhara pandey
  • vandana
  • Madan Mohan saxena
  • जितेन्द्र पस्टारिया
  • vijay nikore
 

Abid ali mansoori's Page

Latest Activity

Abid ali mansoori commented on Abid ali mansoori's blog post अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!
"हारदिक आभार आदरणीय समर कबीर साहब!"
Nov 11, 2016
Abid ali mansoori commented on Abid ali mansoori's blog post अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!
"हार्दिक आभाऋ आदरणीय गिरिराज जी!"
Nov 11, 2016
Samar kabeer commented on Abid ali mansoori's blog post अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!
"जनाब आबिद अली मंसूरी साहिब आदाब,पहली बार आपकी रचना से रूबरू हुआ हूँ,अच्छी लगी आपकी नज़्म,दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं ।"
Nov 10, 2016

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on Abid ali mansoori's blog post अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!
"बहुत सुन्दर , अच्छी लगी आपकी कविता , हार्दिक बधाइयाँ , आ. आबिद भाई ।"
Nov 10, 2016
Dr T R Sukul and Abid ali mansoori are now friends
Nov 10, 2016
Abid ali mansoori posted a blog post

अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!

जब चले थे कभी हम अनजान राहों पर..एक दूसरे के साथहमसफ़र बनकर,कितनी कशिश थीमुहब्बत की..उसपहली मुलाकात में,चलो..! फिर चलें हमआजउसी मुकाम परजहां मिले थे कभी..हमअजनबी की तरह!===========(मौलिक व अप्रकाशित)___ आबिद अली  मंसूरी!See More
Nov 10, 2016
Abid ali mansoori posted a blog post

आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!

कौन सुनता हैकौन सुनना चाहता हैकिसे पसन्द है आलोचना अपनीएक कड़वा सचछिपा होता हैआलोचना के शब्दों मेंजिसेनहीं चहते हमस्वीकार करना,जानते हैंअपने अन्दर फ़ैलेखरपतवारों को सभीपर नहीं चाहतेउखाड़नाउनकी जड़ों को,कभी-कभीअकारण हीकरना पड़ता हैसामनाआलोचनाओं के बबंडर कायह मानसिकताहोती हैकुछ लोगों कीअच्छे कोबुरा कहने की,भटक जाते हैंउद्देश्य से अपनेऔरटेक देते हैं घुटनेहमउनके आगेजैसाकुछ लोग चाहते हैं,कड़वे होते हैंमिठास नहीं होतीइनमेंमिश्री सीजीवन में निरंतरआगे बढ़नेऔर अच्छा बनने कीसीख देते हैंहमेंकितने प्रेरकऔर सार्थक…See More
Dec 10, 2015
Abid ali mansoori commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"आदरणीय सौरभ जी ह्रदय से आभार आपका, शायद मुझे इससे आगे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि आपने अच्छे से समझाया है, आपके मार्गदर्शन के लिए भी ह्रदय से आभारी हूं, आशा है यह सहयोग हमेसःआ बनाए रखेंगे, विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूं!"
Dec 10, 2015
Abid ali mansoori commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"आदरणीया नीता जी हार्दिक आभार आपका, विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूं!"
Dec 10, 2015
Abid ali mansoori commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"आदरणीया कॉंंता जी हार्दिक आभार आपका, विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूं!"
Dec 10, 2015
kanta roy commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"जानते हैंअपने अन्दर फ़ैलेखरपतबारों को सभीपर नहीं चाहतेउखाड़नाउनकी जड़ों को,---------बहुत ही गहरी और सच्ची बात कही है यहाँ आपने अपनी रचना के माध्यम से आदरणीय आबिद अली मंसूरी जी ,इस शानदार रचना के लिए बधाई आपको।"
Dec 4, 2015
Nita Kasar commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"आलोचनाओं के संबंध में बहुत उम्दा रचना प्रस्तुत की है बधाई आपको आद० आबिद अली मंसूरी जी ।"
Dec 2, 2015

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Abid ali mansoori's blog post आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!
"इस रचना में आलोचना को किसी के किये या किसी के व्यक्तित्व के नीर-क्षीर करने का संदर्भ लिया गया प्रतीत होता है. अधिक ज़ोर उस विन्दु पर है जहाँ किसी के बारे में सुधारात्मक किन्तु तीक्ष्णता के साथ बातें कही जाती हैं. वस्तुतः आलोचना तीक्ष्णता के साथ…"
Nov 17, 2015
Abid ali mansoori commented on Sunil Verma's blog post तृप्ती (लघु-कथा)
"bas itna hi kahunga laghukatha ho to aisi!"
Nov 12, 2015
Abid ali mansoori commented on TEJ VEER SINGH's blog post अनहोनी - (लघुकथा)
"achchhi hi nahien bahut achchhi, vadhayi aapko aadarniye tej veer ji!"
Nov 12, 2015
Abid ali mansoori commented on Rahila's blog post स्वेटर (लघुकथा)
"kam shabdon mein bahut kuchh keh diya aapne, rachna isi ko kehte hain, hardik vadhayi aadarniya rahila ji!"
Nov 12, 2015

Profile Information

Gender
Male
City State
Bareilly UP
Native Place
Bareilly
About me
Artist painter, president-Deshpremi radio listeners club,

बिन तेरे!

कितने तल्ख हैँ लम्हे

तेरे प्यार के वगैर
यह ग़म की आंधियां
यह तीरगी के साये
जैसे कोई ख़लिश
हो हवाओँ मेँ..
डसती हैँ मुझको पल-पल
पुरवाइयां
तेरी यादोँ की
बे रंग सी लगती है
ज़िंदगी अब तो
कुछ भी तो नहीँ जैसे
इन फिज़ाओँ मेँ...बिन तेरे!

(मौलिक व अप्रकाशित)

__आबिद अली मंसूरी

Abid ali mansoori's Photos

  • Add Photos
  • View All

Abid ali mansoori's Blog

अजनबी की तरह (नज़्म) // आबिद अली मंसूरी!

जब चले थे कभी 

हम 
अनजान राहों पर..
एक दूसरे के साथ
हमसफ़र बनकर,
कितनी कशिश थी
मुहब्बत की..
उस
पहली मुलाकात में,
चलो..! फिर चलें हम
आज
उसी मुकाम पर
जहां मिले थे कभी..
हम
अजनबी की तरह!
===========
(मौलिक व अप्रकाशित)
___ आबिद अली  मंसूरी!

Posted on November 9, 2016 at 10:25pm — 4 Comments

जैसी तुम हो मॉंं // आबिद अली मंसूरी!

तुमसे ही तो है

यह जीवन मेरा
तुम्हारी ही अमानत है
हर सांस मेरी
कर्ज़दार है
तुम्हारी ममता की
आत्मा हो तुम मेरी
तुमसे ही
संसार है मॉंं........
क्या लिखूं
मैं इससे आगे
असमर्थ हूं
एक मैं ही क्या
यह
सारा संसार भी
मॉं की ब्याख्या
नहीं कर सकता
क्योंकि मॉंं..
मॉंं होती है
जैसी, तुम हो…
Continue

Posted on November 5, 2015 at 9:00pm — 7 Comments

जीवन पथ पर..//गीत!

जीवन पथ पर चारो ओर फैला हुआ बस प्यार हो

आशाओँ का हमारी ऐसा एक संसार हो!

-

जाति-धर्म का न भेदभाव जहां हो

मानवता का बस बर्ताव वहां हो,

रहेँ हम सब मिलकर ऐसा एक घर-बार हो

...आशाओँ का हमारी ऐसा एक संसार हो!

-

स्वयं को समझेँगे जब एक समान

तभी बनेँगे हिन्दु,मुस्लिम,सिक्ख महान,

सब धर्मोँ की लागी एक कतार हो

...आशाओँ का हमारी ऐसा एक संसार हो!

-

जहां प्रेम हो पूजा, प्रेम जीवन हो

तन,मन,धन सब इसे अर्पण होँ,

सत्य,अहिँसा और प्रेम जीवन… Continue

Posted on November 5, 2015 at 1:23pm — 10 Comments

आलोचना के स्वर // आबिद अली मंसूरी!

कौन सुनता है

कौन सुनना चाहता है
किसे पसन्द है आलोचना अपनी
एक कड़वा सच
छिपा होता है
आलोचना के शब्दों में
जिसे
नहीं चहते हम
स्वीकार करना,
जानते हैं
अपने अन्दर फ़ैले
खरपतवारों को सभी
पर नहीं चाहते
उखाड़ना
उनकी जड़ों को,
कभी-कभी
अकारण ही
करना पड़ता है
सामना
आलोचनाओं के बबंडर…
Continue

Posted on November 3, 2015 at 8:30pm — 17 Comments

Comment Wall (5 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:44am on November 4, 2015, Dr. Vijai Shanker said…
आपका स्वागत है आदरणीय आबिद जी , सादर।
At 9:10am on November 4, 2015, vijay nikore said…

आपसे मित्रता मेरे लिए हर्ष की बात है। हार्दिक धन्यवाद।

At 1:23pm on June 16, 2013, जितेन्द्र पस्टारिया said…
"तहे दिल से शुक्रिया...जनाब, आबिद अली साहब "
At 12:19am on June 9, 2013, Priyanka singh said…

thank u .....

At 12:28pm on June 8, 2013, D P Mathur said…

आदरणीय आबिद जी आपका हार्दिक आभार !

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

विरह अग्नि में दह-दह कर के

गीत मात्र भार १६ १६ बहला रहा रोज इस दिल को,  किस्से बचपन के कह कर के.तेरी महकी महकी यादें,मैंने रख…See More
12 minutes ago
SALIM RAZA REWA posted a blog post

हमने हरिक उम्मीद का पुतला जला दिया- सलीम रज़ा

221 2121 1221 212 हमने हरिक उम्मीद का पुतला जला दिया दुश्वारियों को पांव के नीचे दबा दिया - मेरी…See More
13 minutes ago
बसंत कुमार शर्मा commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल जला गया जो गली से अभी गुजर के मुझे
"वाह लाजबाब अशआर, बेहतरीन गजल के लिए बहुत बहुत बधाई आपको "
14 minutes ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीया राजेश दीदी हार्दिक बधाई स्वीकारें!"
1 hour ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post समय का फेर(लघु कथा)
"शुक्रिया।"
1 hour ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आद० सुशील सरना जी ,जब अपनों की  मुबारकबाद मिलती है तो मन मस्तिष्क में नव ऊर्जा का संचार होता…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आद० अफरोज़ साहब , आपकी मुबारकबाद सर आँखों पर बहुत बहुत शुक्रिया आपका ."
2 hours ago
Sushil Sarna replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदरणीय राजेश कुमारी जी इस सम्मान के लिए आपको तहे दिल से मुबारकबाद। ऊपरवाले से प्रार्थना है की वो…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आद० महेंद्र कुमार जी ,आपका तहे दिल से बेहद शुक्रिया ."
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आद० समर भाई जी ,आप जैसे विद्वान् उरूज के हस्ताक्षर का आशीर्वाद भी मेरे लिए किसी इनाम से कम नहीं…"
2 hours ago
Sushil Sarna commented on vijay nikore's blog post असाधारण आस
"अँधियारे सूने में अब मेरी अनवस्थाएँ गहरी एक दिया आस का फिर भी जलती लो से काँप-काँप है बटोरता…"
2 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आद० मोहम्मद आरिफ़ जी ,दिल से बेहद शुक्रगुज़ार हूँ .मेरा नेट आज ही ठीक हुआ .आपने यहाँ मेरी उपलब्धि को…"
2 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service