For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

vandana
  • Female
  • सीकर राजस्थान
  • India
Share

Vandana's Friends

  • Kalipad Prasad Mandal
  • सुरेश कुमार 'कल्याण'
  • seemahari sharma
  • atul kushwah
  • vinay tiwari
  • Madan Mohan saxena
  • शिज्जु "शकूर"
  • Priyanka singh
  • annapurna bajpai
  • anand murthy
  • Dr Ashutosh Mishra
  • वेदिका
  • Abid ali mansoori
  • aman kumar
 

vandana's Page

Latest Activity

vandana's blog post was featured

दीप दान की थाती

नेह रचित इक बाती रखनादीप दान की थाती रखना जग के  अंकगणित में उलझेकुछ सुलझे से कुछ अनसुलझेगठबंधन कर संबंधों कीस्नेहिल परिमल पाती रखना कुछ सहमी सी कुछ सकुचाईजिनकी किस्मत थी धुंधलाईमलिन बस्तियों के होठों परकलियाँ कुछ मुस्काती रखना बंद खिडकियों को खुलवाकरदहलीजों पर रंग सजाकरजगमग बिजली की लड़ियों सेदीपमाल बतियाती रखना मधुरिम मधुरिम अपनेपन काअभिनन्दन कर उत्सव मन काबचपन की फुलझड़ियों सी तुमचंचल काना-बाती रखना-मौलिक एवं अप्रकाशित  See More
Oct 16, 2017
vandana posted a blog post

दीप दान की थाती

नेह रचित इक बाती रखनादीप दान की थाती रखना जग के  अंकगणित में उलझेकुछ सुलझे से कुछ अनसुलझेगठबंधन कर संबंधों कीस्नेहिल परिमल पाती रखना कुछ सहमी सी कुछ सकुचाईजिनकी किस्मत थी धुंधलाईमलिन बस्तियों के होठों परकलियाँ कुछ मुस्काती रखना बंद खिडकियों को खुलवाकरदहलीजों पर रंग सजाकरजगमग बिजली की लड़ियों सेदीपमाल बतियाती रखना मधुरिम मधुरिम अपनेपन काअभिनन्दन कर उत्सव मन काबचपन की फुलझड़ियों सी तुमचंचल काना-बाती रखना-मौलिक एवं अप्रकाशित  See More
Oct 16, 2017
vandana commented on SALIM RAZA REWA's blog post दिल का मुआमला है कोई दिल लगी नहीं - सलीम रज़ा रीवा : ग़ज़ल
"..ख़ूनें जिगर से मैंने सवाँरी है हर ग़ज़ल,मेरे सुख़न का  रंग कोई  काग़ज़ी नहीं..मैं  खुद गुनाहगार हूँ अपनी निगाह  में,उसके ख़ुलूस-ओ-प्यार में कोई कमी नहीं वाह बहुत खूब आदरणीय "
Oct 16, 2017
vandana commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- इस्लाह हेतु / ज़िन्दगी भर सलीब ढ़ोने को / दिनेश कुमार
"एक बस वो नहीं हुआ मेराक्या नहीं होता वर्ना होने कोकिस लिये हैं इन आँखों में आँसूपास भी क्या था जब कि खोने कोज़िद नहीं करता अब खिलौनों कीक्या हुआ दिल के इस खिलौने को बहुत खूब आदरणीय दिनेश जी "
Oct 16, 2017
Samar kabeer commented on vandana's blog post दीप दान की थाती
"'गणित की पुस्तक'में 'की'ही बोला जायेगा,क्योंकि 'किताब'शब्द स्त्रीलिंग है,और 'जग की अंकगणित में 'जग'और 'गणित'दोनों पुल्लिंग हैं,इसलिये 'की'नहीं हो सकता । 'गठबंधन कर संबंधों…"
Oct 15, 2017
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on vandana's blog post दीप दान की थाती
"बहुत ही सुमधुर रचना हुई आदरणीया..सादर बधाई"
Oct 15, 2017
vandana commented on vandana's blog post दीप दान की थाती
"बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय कबीर सर आपके सुझाव बहुत महत्वपूर्ण हैं सर अंक- गणित के पूर्व 'के' शब्द का ही प्रयोग होना चाहिए था सामान्यत: हम गणित की पुस्तक बोलते रहे हैं इस वज़ह से यह गलती हुई |मैं  इसमें सुधार कर लूंगी आदरणीय …"
Oct 15, 2017
Samar kabeer commented on vandana's blog post दीप दान की थाती
"मोहतरमा वंदना जी आदाब,दीपावली के अवसर पर गीत का अच्छा प्रयास हुआ है,इसके लिये बधाई स्वीकार करें । गीत में शिल्प और प्रवाह का बहुत महत्व होता है जिसका ध्यान रखना आवश्यक है,इसके अलावा व्याकरण दोष का भी ध्यान जरुरी है :- 'जग की अंकगणित में…"
Oct 15, 2017
vandana commented on vandana's blog post दीप दान की थाती
" बहुत बहुत आभार आदरणीय आरिफ साहब आदरणीय शहज़ाद सर और आदरणीय सलीम सर "
Oct 15, 2017
vandana commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल - अब हक़ीकत से ही बहल जायें ( गिरिराज भंडारी )
"ज़ख़्म को खोद कुछ बड़ा कीजे ता कि कुछ कैमरे दहल जायें बहुत ग़ज़ब का व्यंग्य बहुत बढ़िया ग़ज़ल आदरणीय "
Oct 15, 2017
vandana commented on सतविन्द्र कुमार राणा's blog post तरही गजल
"नहीं अनबन, नहीं शिकवा ही कोई*बस इतना है कि अब वो मन नहीं है* बहुत बढ़िया आदरणीय "
Oct 15, 2017
vandana commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल - चाहे आँखों लगी, आग तो आग है.. // --सौरभ
"बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल के लिए बहुत बहुत बधाई आदरणीय सौरभ सर "
Oct 15, 2017
vandana commented on Mohammed Arif's blog post ग़ज़ल (बह्र -फेलुन) यह ग़ज़ल दुनिया की सबसे छोटी ग़ज़ल है। इसे "गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स" में शामिल किया गया है ।
"वाह ग़ज़ब की सोच वाकई कमाल आदरणीय बहुत बहुत बधाई "
Oct 15, 2017
vandana commented on SALIM RAZA REWA's blog post ग़ज़ल : ज़रा  सोचिए दिल लगाने से पहले : SALIM RAZA REWA
"बहुत सुन्दर ग़ज़ल आदरणीय सलीम साहब "
Oct 15, 2017
vandana commented on rajesh kumari's blog post वक़्त ऐसी किताब माँगेगा (ग़ज़ल 'राज')
"कैद जिसके लिए किया जुगनू कल वही माहताब माँगेगा वाह आदरणीया राजेश दी बहुत खूब "
Oct 15, 2017
vandana commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल: बलराम धाकड़
"वो ही ख़ैरात बांटेंगे वो ही एहसां जताएंगेविमानों से निज़ामों का भ्रमण होगा तो क्या होगा सामयिक परिदृश्य पर बढ़िया हिंदी  ग़ज़ल आदरणीय "
Oct 15, 2017

Profile Information

Gender
Female
City State
sikar rajasthan
Native Place
sikar
Profession
teacher
About me
keen interest in literature

vandana's Photos

  • Add Photos
  • View All

Vandana's Blog

दीप दान की थाती

नेह रचित इक बाती रखना

दीप दान की थाती रखना

 

जग के  अंकगणित में उलझे

कुछ सुलझे से कुछ अनसुलझे

गठबंधन कर संबंधों की

स्नेहिल परिमल पाती रखना

 

कुछ सहमी सी कुछ सकुचाई

जिनकी किस्मत थी धुंधलाई

मलिन बस्तियों के होठों पर

कलियाँ कुछ मुस्काती रखना

 

बंद खिडकियों को खुलवाकर

दहलीजों पर रंग सजाकर

जगमग बिजली की लड़ियों से

दीपमाल बतियाती रखना

 

मधुरिम मधुरिम अपनेपन…

Continue

Posted on October 14, 2017 at 9:30pm — 8 Comments

तरही ग़ज़ल -वंदना

सभी विद्वजनों से इस्लाह के लिए -

वज्न 2122   /   2122   /   2122   /   212  (2121)

कोई तुझसा होगा भी क्या इस जहाँ में कारसाज

डर कबूतर को सिखाने रच दिए हैं तूने बाज

 

तीरगी के करते सौदे छुपछुपा जो रात - दिन

कर रहे हैं वो दिखावा ढूँढते फिरते सिराज

 

ज्यादती पाले की सह लें तो बिफर जाती है धूप

कर्ज पहले से ही सिर था और गिर पड़ती है गाज

   

जो ज़मीं से जुड़ के रहना मानते हैं फ़र्ज़-ए-जाँ

वो ही काँधे को झुकाए बन…

Continue

Posted on February 1, 2014 at 7:30am — 25 Comments

तरही ग़ज़ल -वंदना

मंच पर सभी विद्वजनों से इस्लाह के लिए

२१२२  १२१२  २२१ 

पैरवी मेरी कर न पाई चोट                                                          

पास रहकर रही पराई चोट

फलसफे अनगिनत सिखा ही देगी

असल में करती रहनुमाई चोट

महके चन्दन पिसे भी सिल पर तो

रोता कब है कि मैनें खाई चोट

सब्र का ही तो मिला सिला हमको

सहते रहकर मिली सवाई चोट

तन्हा ढ़ोता है दर्द हर इंसां

क्यूँ तू रिश्ते बढ़ा न पाई  चोट…

Continue

Posted on January 2, 2014 at 8:00am — 22 Comments

भागीरथ के देश में ( लघुकथा )

प्राचार्य जी के साथ विद्यालय से निकल के कुछ दूर चले ही थे कि मुखिया जी ने पुकार लिया | बैठक में काफी लोग चर्चामग्न थे | बढती बेरोजगारी और आतंकवाद के परस्पर सम्बन्धों  से लेकर शिक्षित लोगों के ग्राम पलायन तक अनेक मुद्दों पर सार्थक विचार गंगा बह रही थी |कुछ देर बाद जब अधिकांश लोग उठकर चले गए तो मुखिया जी ने प्राचार्य जी से कहा –

“वो रामदीन के नवीं कक्षा वाले छोरे को पूरक क्यों दे दी ?”…

Continue

Posted on October 8, 2013 at 7:30am — 15 Comments

Comment Wall (8 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 6:54pm on January 30, 2014, NEERAJ KHARE said…
VANDNA JI LAGHU KATHA PASAND AAI ...BAHUT BAHUT DHANYVAD
At 12:15pm on December 10, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

वंदना जी

आपकी भावनाओ का  समादर  i

शुभ कामनाओ सहित  i

At 9:50pm on December 7, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय वन्दना जी

सर्व श्रेष्ठ रचनाकार होना कोई हंसी खेल नही है i

आपको यह गौरव  मिला  i  आपको कोटि-कोटि बधाइयाँ i

ईश्वर आपको ऐसे ही  गौरवान्वित करे i

सादर i

At 2:34pm on December 7, 2013, Ayub Khan "BismiL" said…

bahut bahut mubarak ho Vandna Sahiba Aapko 

At 10:54am on December 7, 2013, Dr Ashutosh Mishra said…

आदरणीया वंदना जी ..आपकी बेहतरीन ग़ज़ल को इस माह की सर्वश श्रेष्ठ  रचना चुने जाने पर मेरी तरफ से हार्दिक बधाई ..सादर 

At 6:52am on December 7, 2013, Nilesh Shevgaonkar said…

आप की रचना को सर्वश्रेष्ठ रचना चुने जाने पर बधाइयाँ ..अभिनन्दन 

At 10:43pm on December 6, 2013,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीया वंदना जी,
सादर अभिवादन !
मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी प्रस्तुति  तरही ग़ज़ल (ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा अंक-41) को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना पुरस्कार के रूप मे सम्मानित किया गया है, तथा आप की छाया चित्र को ओ बी ओ मुख्य पृष्ठ पर स्थान दिया गया है | इस शानदार उपलब्धि पर बधाई स्वीकार करे |

आपको पुरस्कार राशि रु 1100 /- और प्रसस्ति पत्र शीघ्र उपलब्ध करा दिया जायेगा, इस नामित कृपया आप अपना नाम (चेक / ड्राफ्ट निर्गत हेतु), तथा पत्राचार का पता व् फ़ोन नंबर admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध कराना चाहेंगे | मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई हो |


शुभकामनाओं सहित
आपका
गणेश जी "बागी

संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक 

ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 12:02pm on July 1, 2013, DR SHRI KRISHAN NARANG said…

Vandana ji, open books main aapka swagat hai. Aap bhi kuch likhati hain ya nahi?

Dr Shri Krishan Narang, Ph.D(IISc)

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

babitagupta commented on TEJ VEER SINGH's blog post आपसी सहयोग - लघुकथा –
"लघु कथा के माध्यम से आपसी सहयोग के बिना जीवन निस्सार ,अच्छा संदेश दिया हैं.प्रस्तुत रचना के लिए…"
4 hours ago
babitagupta commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post समय की लाठियां (लघुकथा)
"लघु  कथा का माध्यम से लाठी के दबदबे का सही कटाक्ष किया हैं,प्रस्तुत रचना पर बधाई ."
4 hours ago
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

गजल - वो अक्सर कुछ नहीं कहता

गजल मापनी १२२२ १२२२ १२२२ १२२२ सभी कुछ झेल लेता है, वो’ अक्सर कुछ नहीं कहतानचाता है मदारी पर, ये’…See More
8 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

समय की लाठियां (लघुकथा)

पार्क की ओर जाते हुए उन दोनों बुज़ुर्ग दोस्तों के दरमियाँ चल रही बातचीत और उनके हाथों में लहरा सी…See More
12 hours ago
TEJ VEER SINGH posted a blog post

आपसी सहयोग - लघुकथा –

आपसी सहयोग - लघुकथा – साहित्यकार तरुण घोष के नवीनतम लघुकथा संग्रह "अपने मुँह मियाँ मिट्ठू" को वर्ष…See More
12 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"समय नहीं है अब ।"
yesterday
Tilak Raj Kapoor replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"उपर अजय जी की ग़ज़ल पर मेरी टिप्पणी देखें।"
yesterday
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"ओबीओ लाइव तरही मुशायरा अंक-95 को सफल बनाने के लिये सभी ग़ज़लकारों और पाठकों का हार्दिक आभार व धन्यवाद…"
yesterday
Tilak Raj Kapoor replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"अजय जी, मत्ले के शेर को ही लें। आप क्या कहना चाह रहे हैं यह स्पष्ट नहीं है। शेर स्वयंपूर्ण…"
yesterday
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"'ज़ह-ए-नसीब कि ज़र्रे को आफ़ताब कहा' सुख़न नवाज़ी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया आपका ।"
yesterday
Tilak Raj Kapoor replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"आप तो स्वयं ही उस्ताद शायर हैं। कहने को कुछ नहीं सिवाय इसके कि मन आनंदित है।"
yesterday
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-95
"जनाब तिलक राज कपूर साहिब,मुशायरे में आपका स्वागत है,लेकिन:- 'बड़ी देर की मह्रबाँ आते…"
yesterday

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service