For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Sarita Sinha
  • Female
Share

Sarita Sinha's Friends

  • अनिल कुमार 'अलीन'
  • Sumit Naithani
  • ajay yadav
  • Parveen Malik
  • अरुन शर्मा 'अनन्त'
  • Yogi Saraswat
  • Rekha Joshi
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • Sonam Saini
  • MANISHI SINGH
  • arunendra mishra
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • Harish Bhatt
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • JAWAHAR LAL SINGH
 

Sarita Sinha's Page

Profile Information

Gender
Female
City State
up
Native Place
allahabad
Profession
homemaker
About me
wherever i go , i steal the show...

Sarita Sinha's Blog

मुआवज़ा दे दिया और काम ख़तम...

क़लम कोमा मे आ गयी है मेरी,

ब्रेनस्ट्रोक ज़बरदस्त लगा है इसको,

रगों मे दौड़ती स्याही पे बड़ा प्रेशर है,

क्या लिखे, क्या ना लिखे, कितना चले, कैसे चले,

सुना था तेज़ चलेगी ये तलवार से भी,

इस दफ़ा खुद ही कट के रह गयी ज़ुबान इसकी,…

Continue

Posted on March 5, 2013 at 4:30pm — 3 Comments

जागतीआँखें .. टूटते ख्वाब...

पत्थरों के शहर मे दिल ही टूटते थे अभी,

भरम भी टूट गया अब के, अच्छा ही हुआ..

दोस्ती लफ्ज़ से नफ़रत थी हमको पहले भी,

रहा सहा यकीं भी उठ गया अच्छा ही हुआ..

खुली थी आँखें फिर भी नींद आ गयी जाने,

तुमने झकझोर के जगा दिया अच्छा ही हुआ..

ज़मीन होती क़दम तले तो भला गिरते क्यों,

हवा मे उड़ने का अंजाम मिला अच्छा ही हुआ..

ख्वाब था या के हादसा था जो गुज़र ही गया,

यकीं से अपने यकीं उठ गया अच्छा ही हुआ..

यूँ भी मुर्दे पे सौ मन मिट्टी थी पहले से,

एक मन और पड़ गयी…

Continue

Posted on February 13, 2013 at 11:52pm — 16 Comments

कही अनकही...

ख्वाबों की दुकान से ख़रीदे थे अरमानो के बीज,

सोचा था रोपूँगी   एहसास की ज़मीं पे...
कहा था तुमसे सींच देना , क़द्र के पानी से अपने, 
कल जो देखा तो चिटक गयी थी…
Continue

Posted on June 14, 2012 at 3:30pm — 4 Comments

ऐसे ही बस..

(1)

जो ग़ालिब थे , मेरे जैसी ही उन पर भी गुज़रती थी,

अगर और जीते वो तो उनको क्या मिला होता....



डुबोया हम दोनों को अपने अपने जैसे होने ने,

वो न होते तो क्या होता , मैं न होती तो क्या…

Continue

Posted on May 18, 2012 at 2:30pm — 20 Comments

Comment Wall (4 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 8:46pm on April 14, 2012, Admin said…

At 7:20am on April 13, 2012, JAWAHAR LAL SINGH said…

adarneey sarita bahan aapne sahee samjha hai.

copy paste kariye aur hindi ko badhawa deejiye!

At 5:06pm on April 8, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

snehi ish putri, sadar 

aapka ye comment maine apni profile par mera panna main dekha hai. aapke comment ke niche likha hai comment back. maine vahan click kiya aur vo sidhe le aaya aapki profile par. vaha box main ya aapke comment par pratikriya de raha hoon. aap mere blog par practical kar sakti hain . chama ki koi baat nahi. yahan ka vatavaran itna swaksh evam sukhad hai ki koi bura nahi manta, aur har prakar se madad karta hai chahen sathi lekhak ho ya obo prabandhan team. kisi ke bolg par yadi apko coment karna hai to vahin box main coment likhiye. yadi aapke blog par kisi ko dhanyvad gyapan karna hai to niche se shuru kijiye aur bari bari baox main uttar dijiye kam ho gaya.

apki badhai swikar hai, ye aap logon ke parishram evam sneh ka pratifal hai. asha hai aesa sneh banaye rakhengi.dhanyvad.

At 9:10pm on April 6, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

snehi, sarita ji, saadar aapka swagat evam hardik abhinandan. 

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

रामबली गुप्ता commented on SHARAD SINGH "VINOD"'s blog post 'मधुर' जी की मधुर स्मृति .......
"आदरणीय शरद सिंह जी रचना पर प्रयास के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें। बताना चाहूँगा कि आपकी रचना में…"
23 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
शिज्जु "शकूर" posted a blog post

इसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता हूँ

1222 1222 1222 1222ज़मीन-ओ-आसमाँ के दरमियाँ रस्ता बनाता हूँइसी दुनिया में अपनी मुख़्तसर दुनिया बनाता…See More
34 minutes ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीय मोहम्मद आरिफ साहब नमस्ते                 …"
44 minutes ago
Mohammed Arif commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Mohammed Arif commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आदरणीया कल्पना भट्ट जी आदाब,                    …"
1 hour ago
Tasdiq Ahmed Khan posted a blog post

ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )

(मफाईलुन-मफाईलुन-फऊलन )जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है| ये दिल फिर उसकी हसरत कर रहा है |लगाए ज़ख़्म…See More
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत आभार आदरणीय बृजेश कुमार जी ।"
3 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--फागुन
"बहुत-बहुत शुक्रिया आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब । संशोधन कर लिया है ।"
3 hours ago
Mohammed Arif commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर
"खेल सारे, हर तमाशा छोड़ करसब को जाना है ये मेला छोड़ कर वाह! वाह!!  बहुत ख़ूब ! बहुत ख़ूब! …"
3 hours ago
पीयूष कुमार द्विवेदी posted blog posts
4 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') posted a blog post

अंगुलिमाल(लघुकथा)

शिकार की तलाश में घूमते-घूमते अंगुलिमाल को एक साधु दिखा| उनको देखकर उसने कहा," तैयार हो जाओ…See More
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar posted a blog post

ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर

२१२२/२१२२/२१२ . खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर सब को जाना है ये मेला छोड़ कर.  . एक क़िस्सा-गो अचानक मर…See More
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service