For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Adesh Tyagi
Share
  • Feature Blog Posts
  • Discussions
  • Events
  • Groups
  • Photos
  • Photo Albums
  • Videos
 

Adesh Tyagi's Page

Latest Activity

Adesh Tyagi left a comment for Nilesh Shevgaonkar
"जनाबे-मोहतरम निलेश शेव्गाँवकर साहब, अल्फ़ाज़े-तहसीन का तहे-दिल से शुक्रगुज़ार हूँ।"
Jun 29, 2014
Adesh Tyagi left a comment for Poonam Matia
"तहरीके-ग़ज़ल मोहतरमा पूनम माटिया साहिबा, तहे-दिल से मुहब्बतों का शुक्रगुज़ार हूँ। हालांकि ग़ज़ल तो शुक्रवार को ही तख़्लीक़ हो गई थी मगर पेशावर दुश्वारियों के चलते पोस्ट न कर पाया था।"
Jun 29, 2014
Nilesh Shevgaonkar left a comment for Adesh Tyagi
"बहुत खूब ..वाह "
Jun 29, 2014
Poonam Matia left a comment for Adesh Tyagi
"बहुत उम्दा अशआर आदेश जी .... तरही ग़ज़ल की अवधि ख़त्म हो गयी वर्ना आप  की ग़ज़ल पे चर्चा वहीँ होती "
Jun 29, 2014
Adesh Tyagi left a comment for Adesh Tyagi
"क़फ़स में ख़ाबे-शजर के सिवा कुछ और नहीं कि टूटे पंजा-ओ-पर के सिवा कुछ और नहीं क़फ़स = पिंजरा शजर = पेड़ मेरी उड़ान की चाहत है बरक़रार अभी तमन्ना ताक़ते-पर के सिवा कुछ और नहीं नज़र नज़र की नज़र में भी फ़र्क़ होता है नज़रशनास, नज़र के सिवा कुछ और नहीं नज़रशनास =…"
Jun 29, 2014
Adesh Tyagi liked Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 36
Oct 10, 2013
Adesh Tyagi is now a member of Open Books Online
Aug 28, 2013

Profile Information

Gender
Male
City State
New Delhi
Native Place
Meerut
Profession
Police Officer
About me
A poet by heart

Comment Wall (3 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:02am on June 29, 2014, Nilesh Shevgaonkar said…

बहुत खूब ..वाह 

At 1:27am on June 29, 2014, Poonam Matia said…

बहुत उम्दा अशआर आदेश जी .... तरही ग़ज़ल की अवधि ख़त्म हो गयी वर्ना आप  की ग़ज़ल पे चर्चा वहीँ होती 

At 1:07am on June 29, 2014, Adesh Tyagi said…
क़फ़स में ख़ाबे-शजर के सिवा कुछ और नहीं
कि टूटे पंजा-ओ-पर के सिवा कुछ और नहीं

क़फ़स = पिंजरा
शजर = पेड़

मेरी उड़ान की चाहत है बरक़रार अभी
तमन्ना ताक़ते-पर के सिवा कुछ और नहीं

नज़र नज़र की नज़र में भी फ़र्क़ होता है
नज़रशनास, नज़र के सिवा कुछ और नहीं

नज़रशनास = दृष्टि को समझने,जानने या पढने वाला

हमें ये मील के पत्थर, ऐ राहबर, न दिखा
कि शौक़ हमको सफ़र के सिवा कुछ और नहीं

राहबर = मार्गदर्शक

तुम्हीं को देख के खोला है आज व्रत हमने
तुम्हारा चेहरा क़मर के सिवा कुछ और नहीं

क़मर = चन्द्रमा

अज़ल से ही नहीं इस फ़लसफ़े के हम क़ायल
'हयात सोज़े-जिगर के सिवा कुछ और नहीं'

ख़बर तो गर्म थी अच्छे दिनों की आमद की
ख़बर ख़बर थी, ख़बर के सिवा कुछ और नहीं

सनम ने एक भी तो इल्तिजा नहीं मानी
क्या उसके दिल में हजर के सिवा कुछ और नहीं?

सनम = पत्थर (या भगवान की) मूर्ति, प्रेमिका
हजर = पत्थर
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post एक लम्हा ....
"जनाब सुशील सरना जी आदाब,अच्छी कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें । 'तारीक में…"
25 minutes ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

लुट गयी कैसे रियासत सोचिये । हर तरफ़ होती फ़ज़ीहत सोचिये ।।कुछ यकीं कर चुन लिया था आपको । क्यों हुई…See More
2 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post समाज - लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय नीलम उपाध्याय जी।"
4 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post घाव समय के
"//तू मुझे भूल ही नहीं सकता मैं तेरे दिल के एक घाव में हूँ//.......समर भाई साहब,. इस घाव का अनुभव…"
5 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post घाव समय के
"वाह समर भाई साहब , वाह ! एक से बढ़ कर एक !  //चाह कर भी निकल नहीं सकता क़ैद ऐसा मैं तेरे दाव में…"
5 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post घाव समय के
"आदरणीय तस्दीक अहमद साहब, सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार"
5 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (हम अगर राहे वफ़ा में कामरां हो जाएँगे)
"जनाब गुमनाम साहिब   , ग़ज़ल में आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया l"
5 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (हम अगर राहे वफ़ा में कामरां हो जाएँगे)
"मुह तरमा नीलम साहिबा, ग़ज़ल में आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया l"
5 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post घाव समय के
"आपसे मिली भावपूर्ण सराहना के लिए आभारी हूँ , आदरणीय सुशील जी"
5 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post ख्वाब कोई तो मचलना चाहिए
"वाह वाह ग़ज़ल अच्छी लगी ..    बधाई "
6 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"वाह अच्छी ग़ज़ल हुई है भाई जी बधाई .. .. . ."
6 hours ago
Neelam Upadhyaya commented on Sushil Sarna's blog post एक लम्हा ....
"आदरणीय सुशील सरना जी, अच्छी रचना की प्रस्तुति के लिए बधाई। "
6 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service