For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ऐ पागल पथिक ! ठहरो जरा ,
रुको जरा , सांस लो तनिक ,
सम्भलो जरा I
सब कुछ पाने की चाह में ,
कुछ टूट गया उस आशियाने में,
कुछ छूट गया उस हसीं फ़सानें में ,
ठहरों, रुको, उसे सवारों, उसे खोजो जरा I
रुको जरा ........
घर पर नन्हों की आस में ,
और बुजुर्गों की लम्बी प्यास में ,
छूटे किसी साज और रियाज़ में ,
वक्त की चीनी घोलो जरा, कोई सुर ताल छेड़ो जरा I
रुको जरा ........
लूडो की गोटियाँ खोजो ,
शतरंज की बिसात बिछाओ जरा ,
कैरम की धूल झाड़ो,
रानी पर नजर लगाओ जरा I
रुको जरा .......
पर भूल न जाना एक नेक काम ,
फिर हो न जाना मशरूफ़ अपने आप में ,
आस-पास देखो, कोई सुदामा खड़ा हो किसी आस में ,
बन कृष्ण झोली भरो , मानव धर्म निभाओं जरा I
रुको जरा .......
माना कि वक़्त सख़्त है,
रूठा है हमसे वो ख़ुदा तो क्या ,
शून्य हुई संवेदनाओं में , पथरा गई आँखों में ,
कुछ रक्त संचार करो, कुछ आशाओं के दीप जलाओ जरा I
रुको जरा .......
इस साझी जंग में अपनी भूमिका निभाओ जरा ,
हम होंगें कामयाब ! दिल से एक अरदास लगाओ तो जरा I
रुको जरा , सांस लो तनिक ,
सम्भलो जरा I
"मौलिक व् अप्रकाशित "

Views: 117

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Dr. Geeta Chaudhary on March 28, 2020 at 8:49pm

आदरणीय समर कबीर जी उत्साहवर्धन एवम् बधाई के लिए हार्दिक आभार।

Comment by Samar kabeer on March 28, 2020 at 8:04pm

मुहतरमा डॉ. गीता चौधरी जी आदाब,अच्छी कविता लिखी आपने,बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय DINESH KUMAR VISHWAKARMA   जी सादर अभिवादन बहुत उम्दः तरही ग़ज़ल कही आपने…"
13 seconds ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल हुई बहुत-बहुत बधाइयां"
1 minute ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय Tasdiq Ahmed Khan  जी सादर अभिवादन बहुत उम्दः तरही ग़ज़ल कही आपने ,बधाईयाँ स्वीकार…"
4 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीया रचना भाटिया जी बहुत अच्छी गजल कही बहुत-बहुत बधाइयां"
4 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय मुनीष तन्हा जी गजल का अच्छा प्रयास हुआ बहुत-बहुत बधाइयां"
11 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय सालिक गणवीर जी एक अच्छी ग़ज़ल कहने के लिए बहुत-बहुत बधाइयां"
16 minutes ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय लक्ष्मण भाई बहुत बेहतरीन ग़ज़ल हुइ बहुत-बहुत बधाइयां बाकी समर सर की सलाह पर ध्यान दीजिए "
18 minutes ago
Samar kabeer commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: 'नेह के आँसू'
"// क्या सभी मिसरों में रवानी नहीं है// बिल्कुल ! मिसाल के तौर पर:- 'नेह के आंसू को सरजू कहता…"
19 minutes ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय लक्ष्मण जी"
25 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय रवि शुक्ला जी प्रणाम  बेहतरीन ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें सभी शैर बहुत उम्दा…"
34 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आ. भाई तस्दीक अहमद जी, सादर अभिवादन । सुंदर गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
35 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आ. भाई दिनेश जी, सादर अभिवादन। अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
41 minutes ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service