For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मै अपनी तक़दीर पर कभी , रोया या नही रोया 

पर मेरे जज्बातों पर आसमा टूट के रोया |

मै क्या क्या बताऊ मे क्या क्या गिनाऊ ,

क्या नही पाया मैंने क्या नही खोया |

मेरी हर रात कटी है सो वीमारो के जैसे 

दर्द से जुदा होकर मै एक पल नही सोया |

मेरे जीने पे  जो जालिम , मातम मनाता रहा ,

मेरे मरने  पर वो जी भर के क्यों रोया |

मेरे दिल के जख्म फूलो से निखरते रहे   

मैंने कभी इनको मरहम से नही  धोया |

बडो की ये बड़ी बाते ,हमे देती रही है ये  नसीहत

अब काटो  बही जो  बीज वो तुमने था जो बोया |

 

मौलिक एवं अप्रकाशित 

Views: 324

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by aman kumar on August 12, 2013 at 10:29am

हेमंत जी , अन्नपूर्णा जी वसुंधरा जी भाई नीरज आप लोगो का समर्थन होसला बड़ा गया केतन जी का आदेश सर आँखों पर.........

सभी का आभार ! 

Comment by बृजेश नीरज on August 10, 2013 at 3:36pm

बहुत अच्छा प्रयास है आपका! आपको सादर बधाई!


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on August 10, 2013 at 12:43pm
अच्छी कोशिश है , बधाई !!
Comment by Vasundhara pandey on August 9, 2013 at 4:23pm

वाह जी...बहुत सुन्दर ....

Comment by Ketan Parmar on August 9, 2013 at 3:30pm
koshish achi hai bhai lage rahiye. magar thoda padh lo ghazal ki kaksha me to behter hoga aur bhi jyaada. asha hai agli baar issase bhi jyaada khoobsurat rachna padh sakenge ham.
Comment by annapurna bajpai on August 8, 2013 at 11:39pm

adarniy bahut badhiya rachna hetu badhai swikaren .

Comment by hemant sharma on August 8, 2013 at 4:44pm

बहुत अच्छे ,,,,,,, वधाई...........

Comment by aman kumar on August 8, 2013 at 4:01pm

आपका मार्गदर्शन मिला , अच्छा लगा ...होसला अफजाई का सुक्रिया !अरुण  जी 

Comment by aman kumar on August 8, 2013 at 3:50pm

बसंत जी ,जितेन्द्र भाई और स्याम वर्मा जी का गर्दिक आभार\

Comment by अरुन शर्मा 'अनन्त' on August 8, 2013 at 3:49pm

अमन भाई जी प्रयास अच्छा हुआ इस हेतु बधाई स्वीकारें, यदि आप ग़ज़ल कहते तो हैं कृपया बहर जरुर लिखा करें ताकि टिपण्णी करना सहज हो सके, कंटक त्रुटियों पर ध्यान दें.

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on Samar kabeer's blog post "ओबीओ की सालगिरह का तुहफ़ा"
"आदरणीय समर कबीर साहेब एवं समस्त एडमिन्स को बहुत बहुत बधाई | निःसन्देह  ओ बी ओ नए लोगों के…"
15 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted blog posts
16 hours ago
Salik Ganvir posted a blog post

एक ग़ज़ल

आज आंखें नम हुई तो क्या हुआरो न पाए हम कभी अर्सा हुआआपबीती क्या सुनाऊंगा उसेआज भी तो है गला बैठा…See More
17 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ग़रीब हूँ मैं मगर शौक इक नवाबी है(८०)
"आपने रचना को सराहा। आपके स्नेह के लिए अंतस्थल से आभारी हूँ। सादर नमन भाई Sushil Sarna जी…"
18 hours ago
अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " posted a blog post

ग़ज़ल (अन्दाज़ ए नज़र )

रौशनी दिल में नहीं हो तो ख़तर बनता है,आग सीने में लगी  हो तो शरर  बनता है।जिसको ढाला न गया हो किसी…See More
18 hours ago
Sushil Sarna commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post ग़रीब हूँ मैं मगर शौक इक नवाबी है(८०)
"वाह क्या शे'र है सर..... गज़ब की अदायगी है। .... खूबसूरत अहसासों के खूबसूरत अशआर ... दिल से…"
21 hours ago
Sushil Sarna commented on vijay nikore's blog post मृदु-भाव
"बहुत सुंदर आदरणीय विजय निकोर जी, अंतर् भावों को शब्दों के परिधान से सुसज्जित कर उसे ऐसे पेश करना…"
21 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post मीठे दोहे :
"आदरणीय rajesh kumari  जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार। "
21 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on Sushil Sarna's blog post मीठे दोहे :
"बहुत सुन्दर मौलिक दोहे एक सार्थक संदेश देते हुए । हार्दिक बधाई आदरणीय "
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओबीओ परिवार के सभी सदस्यों को ओबीओ की 10 वीं सालगिरह की ढेरों बधाई और शुभकामनाएँ ...."
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"अपने ओबीओ परिवार के सभी सदस्यों को ओबीओ की 10 वीं सालगिरह की ढेरों बधाई और शुभकामनाएँ ...."
yesterday
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(शोर हवाओं....)
"आभार आदरणीय।"
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service