For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा- अंक 34(Now Closed with 754 replies)

परम आत्मीय स्वजन,

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" के 34 वें अंक में आपका हार्दिक स्वागत है. इस बार का तरही मिसरा जनाब अनवर मिर्ज़ापुरी की बहुत ही मकबूल गज़ल से लिया गया है. इस गज़ल को कई महान गायकों ने अपनी आवाज से नवाजा है, पर मुझे मुन्नी बेगम की आवाज़ में सबसे ज्यादा पसंद है . आप भी कहीं न कहीं से ढूंढ कर ज़रूर सुनें.

पेश है मिसरा-ए-तरह...

"न झुकाओ तुम निगाहें कहीं रात ढल न जाये "

1121 2122 1121 2122

फइलातु फाइलातुन फइलातु फाइलातुन

(बह्र: रमल मुसम्मन मशकूल)
 
रदीफ़     :- न जाये
काफिया :- अल (ढल, चल, जल, निकल, संभल आदि)
मुशायरे की शुरुआत दिनाकं 27 अप्रैल दिन शनिवार लगते ही हो जाएगी और दिनांक 29 अप्रैल दिन सोमवार समाप्त होते ही मुशायरे का समापन कर दिया जायेगा.

अति आवश्यक सूचना :-

  • "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" में प्रति सदस्य अधिकतम दो गज़लें ही प्रस्तुत की जा सकेंगीं
  • एक दिन में केवल एक ही ग़ज़ल प्रस्तुत करें
  • एक ग़ज़ल में कम से कम 5 और ज्यादा से ज्यादा 11 अशआर ही होने चाहिएँ.
  • तरही मिसरा मतले में इस्तेमाल न करें
  • शायरों से निवेदन है कि अपनी रचनाएँ लेफ्ट एलाइन, काले रंग एवं नॉन बोल्ड टेक्स्ट में ही पोस्ट करें
  • वे साथी जो ग़ज़ल विधा के जानकार नहीं, अपनी रचना वरिष्ठ साथी की इस्लाह लेकर ही प्रस्तुत करें
  • नियम विरूद्ध, अस्तरीय ग़ज़लें और बेबहर मिसरों वाले शेर बिना किसी सूचना से हटाये  जा सकते हैं जिस पर कोई आपत्ति स्वीकार्य नहीं होगी

मुशायरे के सम्बन्ध मे किसी तरह की जानकारी हेतु नीचे दिये लिंक पर पूछताछ की जा सकती है....

 

फिलहाल Reply Box बंद रहेगा जो  27 अप्रैल दिन शनिवार लगते ही खोल दिया जायेगा, यदि आप अभी तक ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार से नहीं जुड़ सके है तो www.openbooksonline.com पर जाकर प्रथम बार sign up कर लें.


मंच संचालक 
राणा प्रताप सिंह 
(सदस्य प्रबंधन समूह) 
ओपन बुक्स ऑनलाइन डॉट कॉम 

Views: 5653

Replies are closed for this discussion.

Replies to This Discussion

गुलशन साहिब इन दो अशआर पर खास तौर पर दाद क़ुबूल करें ...

ज़रा रहम कर खुदरा मेरे दिल के गुलसितां पर
न गिराना बर्क इसपर कोई साख़ जल न जाये

है शब-ए-विसाल इसमें सुनो मेरी कुछ कहो तुम
न झुकाओ तुम निगाहें कहीं रात ढल न जाये

आ0 अशफाक भाई जी, वाह! अतिसुन्दर। बधाई कुबूल करें। सादर,

अशफ़ाक अली जी! ,

बच्चों पे है नवाज़िश  उसका ही सब करम है 
रहता है माँ का साया जब तक संभल न जाये 

बहुत खूबसूरत गजल

लाजवाब!!!

गुलशन ये ओ बी ओ है क्यूँ दिल मचल न जाये 
मिलती जहाँ ख़ुशी क्यूँ भेजी ग़ज़ल न जाये

मतला बढ़िया है, पर तकतई समझ न सका ।  

ज़रा रहम कर खुदरा मेरे दिल के गुलसितां पर 
न गिराना बर्क इसपर कोई साख़ जल न जाये

बढ़िया शेर , पर शायद शब्द खुदारा है , जो गलत टंकित हुआ है । 

ये झुकी झुकी निगाहें जो गिर रही हैं बिजली 
ये तेरी नज़र का जादू कहीं मुझपे चल न जाये

यह शेर भी बढ़िया हुआ है, शायद गिरा शब्द होना चाहिए । 

है शब-ए-विसाल इसमें सुनो मेरी कुछ कहो तुम 
न झुकाओ तुम निगाहें कहीं रात ढल न जाये

वाह वाह, बहुत ही खुबसूरत शेर, बढ़िया गिरह ।

मुशायरे का फीता काटने और इस ग़ज़ल हेतु दाद कुबूल करें आदरणीय अशफाक साहब । 

baagi ji aapka andaaj pasand aaya :)

आभार आदरणीया :-)

यही तो ओबीओ की शैली या इसका अंदाज़ है आदरणीया.. .

:-))

मैं भी पढ़ पढ़ कर सीख रही हूँ,  कुछ बन सका तो एक  प्रयत्न अवश्य करूंगी।  

इस मुशायरे में आपका सादर स्वागत है, आदरणीया.  आपकी प्रविष्टि की प्रतीक्षा रहेगी.

सादर

mananayiye .obo ka yahi andaj to hamen yah le aaya aur rch bas gaya dil me :)) khushnuma mahol .

आपका आभार आदरणीया.. .

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rachna Bhatia replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"वाववाआआहहह।लाजवाब।हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
7 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणिय बहुत खूब रचना।हार्दिक बधाई स्वीकार करें।"
8 minutes ago
Profile IconRachna Bhatia and Pratibha Pandey joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
8 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"प्रतिभा जी के दोहरे, प्रतिभा का परिणाम। देख आपकी लेखनी, करता अरुण प्रणाम।। गूढ़ भाव औ शब्द से,…"
20 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"सुन्दर रचना भ्राता राणा। परिभाषित है चित्र सुहाना।। एक बात पर समझ न आई। नहीं अन्यथा लेना…"
35 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"प्रत्युत्तर में राणा जी का, अद्भुत अनुपम आल्हा छन्द। सौवें आयोजन की गरिमा, ऐसे में देती…"
47 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
अरुण कुमार निगम replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"सत्यनरायण सिंह जी आकर, लुटा गए हैं अपना प्यार। हाथ जोड़ कर भ्राता श्री का, अरुण प्रकट करता आभार।।"
54 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अखिलेश जी, प्रदत्त चित्रानुरूप बेहतरीन रचना से मंच का शुभारम्भभ करने के लिए  हार्दिक…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आ. भाई अशोक जी, प्रदत्त चित्रानुरूप सुंदर छंद हुए हैं । हार्दिक बधाई।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"दोहा छंद फिर से बरसीं बदलियाँ, जल का बढ़ा बहावबचपन लेकर आ गया, फिर कागज की नाव।१। हिरनी, कोयल, मोर…"
1 hour ago
Satyanarayan Singh replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"द्वितीय प्रयास सुंदरी सवैया बरखा बिन सूख रही फसलें, कहुँ नाव चले सड़कों पर पानी।समतोल न मानव राख…"
3 hours ago
Pratibha Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"शहर की गलियों में आज जो मैंने देखा है | वर्षा जल से भरा हुआ गली का हर कोना है ||   यूँ तो…"
9 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service