For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Zid
  • Male
Share

Zid's Friends

  • Balram Dhakar
  • शकील समर
 

Welcome, Zid!क्या कशिश थी के कुछ हुवे फ़ना आज -खुद रफ्ता लो बुज़नेसे पहले आखिर -ऐ -शब किधर को गए पूछते क्या हो अदीब की ज़ुबा होती ही है कर्मफरमा वह -नह -आह -होगी मगर वो निगा

Latest Activity

Balram Dhakar and Zid are now friends
Nov 2, 2018
Zid commented on Zid's video
Thumbnail

aaj bhi kehete hain mujhse dilme aana Video

"This the first composition of my Life where I present myself as mousikar-poet-composer. Aapki tawajjo ke liye shukriya. Wish you a happy diwali!"
Nov 2, 2018
Zid posted a video
Nov 1, 2018
Zid commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल- बलराम धाकड़ (वो मेरे साथ था, मेरा शिकार होने तक)
"That is brilliant, consistent, Intense...  You have used shikaar as kaafiya twice!"
Oct 31, 2018
Zid shared Balram Dhakar's blog post on Facebook
Oct 31, 2018

Profile Information

Gender
Male
City State
Pune
Native Place
Nagpur
Profession
Trainer, Teacher
About me
Lookinf for career in scripting in Hindi, urdu, english films

Diwali Mubarak

कभी कभी ख्वाब हकीकतमें चले आते है

अपनी फितरत-ऐ-कदा छोड़ मैखाने चले आते है

हर दिलकशी के पहले यकायक पेश आते है

याद कर ज़मीर को बेखुद चले आते है

वो कभी सर्कार हो गनीमत ऐसे सवर जाते है

हो कभी बीमार हम वैशत में चले आते है

सर-से पाँव कमसीन अदा फितरतमें चले आते है

कभी वक्तके इंतज़ार में कभी कब्ल चले आते है

उनका पता क्या बताये वो है हमारे अज़ीज़-ऐ-कारी

कभी अंखोसे बया कभी चेहेरोसे चले आते है

नकामिये इश्कमें कुछ कसर होती तो इतनी कहत न होती

लोग अश्यरपे नहीं नीलामीपे चले आते है

हर वक़्त की ज़िद है हर वक़्त चले आते है

नींद जावा हो तो मेहेरबान चले आते है

यह  ग़ज़ल  शौक  कैसे  बना  आपकी  सरोकार  में

बुज़ाए  शोले   हमने  भी  दिल -ऐ - तार  तार  में

बेसाख्ता  बह  रहे  है  अश्क़  बावजूद -ओ - इश्क़  में

लिपट  लिए  है  अक्स  से  हम  ज़ार  ज़ार  में

वो  चेहरा  क्या  बया  करें  सरसार  हिकायतें -ऐ -रूह

क्या  क्या  छुपा  रही  है  निगाही  आर  पार  में

फिर  एक  बदनसीब  चला  फिर  मजनुके  रास्ते 

अब  जां   रहे  के  न  रहे  संग -ओ -ख़िश्त  मार  में

लो  छोड़  दी  है  हमने  भी  बाज़ी  यहापे  खुद 

क्या  क्या  गिने  शिकस्त   ज़िद  अब  जीत  हार में

Zid's Videos

  • Add Videos
  • View All

Zid's Blog

वक़्तका तकाज़ा है

वक़्तका तकाज़ा है आज आई है शाबान-ऐ-हिज्राँ सिरहानेसे

वैसे दम-ब-दम को नहीं फुर्सत दर-ब-दर मुझे आज़मानेसे

कितने  माजूर-ओ-बेखुद  बने बद-चलन  पैमाने झलकानेसे

सफा -ऐ -कल्ब  क्या  बनोगे  इंसा  सरसार दर्यामे नहाने  से

उम्र -ऐ -खिज्र  में  गर  फिर  लिखे  दास्तान -ऐ -शौक कोई  

किस  तर्ज़ -ऐ -तपाक मिले  तोड़कर  मसाफात  अनजाने  से

सर -गर्म -ऐ -जफ़ा  किसको  महोलत  दी  है  यहाँ  बेदिलीने

तक़दीर  कैसे  निगाह -बान  रहे  नज़र -ऐ -बाद  बचाने  से

फरते -मिहानपे …

Continue

Posted on October 31, 2013 at 6:20pm — 6 Comments

Comment Wall (2 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 6:06pm on March 7, 2014,
सदस्य टीम प्रबंधन
Rana Pratap Singh
said…

Resp Zid saa'b

Its nice to interacting with you. You have written correctly that your Gazals were not legitimate. Gazal has its own discipline and that has to be followed. The Gazal rolls on the wheels of Bahr, Kafiyaa, Radif and Takhayyul. These are the basic ingredients of the Gazal. One can start saying Gazal if he knows the basic concept of above mentioned terms. For learner's reference Mr Venus Kesari has started  very good discussions in the 'Gazal Ki BaateN' group.  I am giving you the link of the same. Further if you have any query, do not hesitate to contact.

  ग़ज़ल से सम्बंधित शब्द और उनके अर्थ    रदीफ़     काफ़िया     बहर परिचय और मात्रा गणना     बहर के भेद व तकतीअ

these links are also available on the bottom of the page of this web site

Regards

At 4:41pm on October 20, 2013, शकील समर said…

स्वागत है आदरणीय।

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"ग़ज़ल अपनी ज़ुलफें वो अगर रुख पे परेशां कर दें l अहले महफ़िल के लिए मौत का सामाँ कर दें l कम से कम…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"आद0 समर कबीर साहब सादर प्रणाम। आज के मुशायरे का आगाज़ बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल के साथ करने पर आपको बहुत…"
6 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"इल्म से अपने दिमाग़ों में चराग़ाँ कर देंमेरे उस्ताद जिसे चाहें ग़ज़ल ख़्वाँ कर दें डूब कर रंग में…"
6 hours ago
Surkhab Bashar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"मोहतरम जनाब समर कबीर साहब  आदब  बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारक बाद कुबूल…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"वाह !"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"इससे पहले कि ये सब चाक गरेबाँ कर दें वोट जो पास है अपने उसे क़ुरबां कर दें बच गया जो हो ज़रा आँख में…"
8 hours ago
Surkhab Bashar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"ग़ज़ल आओ इस देश को मिलजुल के गुलिस्ताँ कर दें इसके उजड़े हुए शहरों में चराग़ाँ कर दें हम वतन के…"
8 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"राह दुश्वार बहुत है इसे आसां कर दें ख़ून से अपने बयाबां को गुलिस्ताँ कर दें आज़माने के लिए अज़्म को…"
8 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'मुझे भी!' (लघुकथा) :
"आदाब। बहुत-बहुत शुक्रिया जनाब समर कबीर साहिब।"
10 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"समस्त परिवारजन को रंगोत्सव पर हार्दिक बधाइयां और शुभकामनाएं।"
10 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जनाब गणेश जी "बाग़ी" साहिब आदाब, बहुत-बहुत  मुबारकबाद ।"
10 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post नवगीत-वेदना ने नेत्र खोले-बृजेश कुमार 'ब्रज'
"उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद आदरणीय समर कबीर जी..आपको भी होली की शुभकामनाएं.."
14 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service