For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हो न सका

ऐसे बिछुड़े दीदार हो न सका
बेवफाओं से प्यार हो न सका 
ऐसे बिछुड़े -------------
तुझको भूले न भूलना आया-२
हमको खोकर तुमने क्या पाया-२
तुमसे भी इंतज़ार हो न सका 
बेवफाओं से प्यार हो न सका 
ऐसे बिछुड़े -------------
कैसे भूलोगे लम्हे प्यार भरे
ज़ख्म अपनें तो अब तलक न भरे
हमपे क्यों ऐतवार हो न सका 
बेवफाओं से प्यार हो न सका 
ऐसे बिछुड़े -------------
दीपक 'कुल्लुवी'
हर्मोनियम कम्पोजीशन 
9,8,7,Ix3,6,g,6,I,8,9,8,7,I
mx5,9,8x2,9,8,7,Ix2
mx5,9,8,9x3
9x3,m,9m8x3,9,8,7,Ix2
 

Views: 175

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on April 19, 2012 at 10:24am

PRDEEP JI

BEWAFA HI TO MUHABBAT AUR NAFRAT SAMJHANE KA ZARIYA HOTE HAIN

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on April 18, 2012 at 10:38pm

bevafa se pyaar, kya baat hai sir ji, koi aur kyon nahi, time ki kimat hoti hai ji, bahut badhiya rachna. sadar abhivadan ke saath badhai.

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on April 16, 2012 at 10:32am

shukriya bagi ji......


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 15, 2012 at 5:39pm

बेवफाओं से प्यार हो न सका .............वाह वाह बहुत खूब दीपक जी .....धीरे धीरे प्यार हो जायेगा ....आभार |

Comment by Deepak Sharma Kuluvi on April 14, 2012 at 12:57pm

DHANYABAD ARUN JI

Comment by Abhinav Arun on April 14, 2012 at 12:52pm
कैसे भूलोगे लम्हे प्यार भरे
ज़ख्म अपनें तो अब तलक न भरे
हमपे क्यों ऐतवार हो न सका 
बेवफाओं से प्यार हो न सका 
sundar gahre bhaavon par hardik badhai aapko !!
Comment by Deepak Sharma Kuluvi on April 14, 2012 at 10:28am

शुक्रिया सौरभ पाण्डे जी ,मृदु जी,लाली जी आप ठीक ही कह रहे हैं हम बेवफा ही तो हैं जो इस महाघोर  कलयुग में वफ़ा की बातें कर रहे हैं


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on April 14, 2012 at 4:32am

बहुत अच्छे दीपक जी, ..

Comment by राज लाली बटाला on April 14, 2012 at 2:40am

ऐसे बिछुड़े दीदार हो न सका

बेवफाओं से प्यार हो न सका  !!! बेवफाओं लिख कर आप खुद बेवफा हो रहे है !! दीपक  जी सुन्दर !! best wishes !
Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on April 13, 2012 at 8:57pm

तुझको भूले न भूलना आया-२

हमको खोकर तुमने क्या पाया-२       खूबसूरत अभिव्यक्ति के लिए बधाई स्वीकार करें सर 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

विमल शर्मा 'विमल' commented on प्रशांत दीक्षित 'सागर''s blog post ग़ज़ल - चरागाँ इक मुहब्बत का जला दो तुम
"वाह वाह... बेहद खूबसूरत अल्फाजों से सजाया...बधाई।"
2 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post थामूँ तोरी बाँहे गोरी / तिन्ना छंद
"आदरणीय 'समर कबीर' साहब एवं 'प्रशांत दीक्षित सागर ' साहब आपके उत्साहवर्धन हेतु…"
2 hours ago
dandpani nahak left a comment for लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी बहुत शुक्रिया"
4 hours ago
dandpani nahak commented on dandpani nahak's blog post गज़ल
"आदरणीय सलीम रज़ा साहब आदाब बहुत शुक्रिया आप सही है ठीक करने की कोशिश करता हूँ!"
4 hours ago
dandpani nahak commented on dandpani nahak's blog post गज़ल
"परम आदरणीय समर कबीर साहब प्रणाम आपका आदेश सर माथे पर!"
4 hours ago
dandpani nahak commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल: वक़्त की शतरंज पर किस्मत का एक मोहरा हूँ मैं।
"आदरणीय बलराम जी बेहतरीन ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें! ये " मेरा लहज़ा मेरा लहज़ा नहीं है…"
4 hours ago
Manoj kumar Ahsaas posted a blog post

अहसास की ग़ज़ल

1222   1222   1222   1222मुहब्बत के नगर में आँसुओं के कारखाने है, यहां रहकर पुराने जन्म के कर्ज़े…See More
5 hours ago
प्रशांत दीक्षित 'सागर' posted a blog post

ग़ज़ल - चरागाँ इक मुहब्बत का जला दो तुम

1222 1222 1222चरागाँ इक मुहब्बत का जला दो तुम,अभी उन्वान रिश्ते को नया दो तुम ।फ़ना ही हो गये जो…See More
5 hours ago
प्रशांत दीक्षित 'सागर' commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल
"बहुत सुंदर । बधाई स्वीकार करें ।"
7 hours ago
प्रशांत दीक्षित 'सागर' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post थामूँ तोरी बाँहे गोरी / तिन्ना छंद
"चोरी-चोरी।ओ री छोरी।थामूँ तोरी।बाँहे गोरी। बहुत अच्छा है सर ।"
7 hours ago
प्रशांत दीक्षित 'सागर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल: वक़्त की शतरंज पर किस्मत का एक मोहरा हूँ मैं।
"Bahut sundar sir"
7 hours ago
Balram Dhakar commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल: वक़्त की शतरंज पर किस्मत का एक मोहरा हूँ मैं।
"आदरणीय समर सर, सादर अभिवादन।  ग़ज़ल पर आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा थी।   टंकण…"
16 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service