For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

मेरे गीतों में मीरा दीवानी सही

ओ.बी.ओ. के पावन मंच और गुरुजनों को सादर प्रणाम करता हूँ. समयाभाव के चलते  नियमित रूप से मंच से जुड नही पा रहा हूँ इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ  और आप सबके बीच कुछ मुक्तक निवेदित कर रहा हूँ. कृपया मार्गदर्शन करें .सादर

क्यूँ कभी प्रेम की ये निशानी लगे.

अश्रुपूरित कभी  ये जवानी  लगे.

ओस बन खो गये हैं हवा में कहीं,

बूँद पानी  की ये  जिंदगानी  लगे.

प्रेम  की  बागवानी  पुरानी  सही.

कृष्ण-राधा की प्यारी कहानी सही.

तुम लिखो फूल को शूल चाहे अनल,

मेरे गीतों  में  मीरा  दीवानी  सही .

शब्द से खेलना हमको आता नहीं.

तौल कर बोलना हमको आता नहीं.

जिंदगी   प्रेम  का गीत  है साथियों,

द्वैष विष घोलना हमको आता नहीं.

गीत कविता गजल गुनगुनाता चलूँ.

आँख से  आँसुओं  को  चुराता  चलूँ.

प्यार की धुन बनो तो गजल मैं कहूँ,

साथ जन्मों जनम तक निभाता चलूँ.

*मौलिक एवं अप्रकाशित*

    शैलेंद्र सिंह 'मृदु'

Views: 393

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:44pm

आदरणीया  coontee muker मैम  सराहना एवं  उत्साहवर्धन हेतु आपका बहुत-बहुत  आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:42pm

आदरणीय Dr Lalit Kumar Singh जी सराहना एवं  उत्साहवर्धन हेतु आपका बहुत-बहुत  आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:40pm

आदरणीय Laxman Prasad Ladiwala सर  उत्साहवर्धन हेतु आपका बहुत-बहुत  आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:40pm

आदरणीय बसंत नेमा जी  उत्साहवर्धन हेतु आपका बहुत-बहुत  आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:38pm

आदरणीय Jitendra Pastariya  जी प्रतिक्रिया व  उत्साहवर्धन हेतु कोटिशः आभार

Comment by CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' on July 5, 2013 at 11:37pm

आदरणीय Sumit Naithani जी उत्साहवर्धन हेतु कोटिशः आभार

Comment by coontee mukerji on July 5, 2013 at 7:14pm

प्रेम  की  बागवानी  पुरानी  सही.

कृष्ण-राधा की प्यारी कहानी सही.

तुम लिखो फूल को शूल चाहे अनल,

मेरे गीतों  में  मीरा  दीवानी  सही.......बहुत सरस और सुंदर प्रस्तुति.

Comment by Dr Lalit Kumar Singh on July 5, 2013 at 5:52pm

वाह वाह वाह , मज़ा आ गया भाई साहेब 

मज़ा आ गया 
 सादर 
Comment by लक्ष्मण रामानुज लडीवाला on July 5, 2013 at 4:30pm

चारो मुक्तक सुन्दर बन पड़े है आपके श्री शैल्लेन्द्र सिंह मृदु जी | बहुत बहुत बधाई स्वीकारे 

Comment by बसंत नेमा on July 5, 2013 at 4:25pm

बहुत सुन्दर रचना ...बधाई शुभकामनाये 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अमित जी सही शब्द "नेस्तनाबूद" है इनका वजन (211-221)है "
6 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अनीस साहिब, अच्छी गज़ल हुई है मुबारकबाद कुबूल फरमाएं शेर 5 में फूल की जगह कांच कर के…"
14 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब भाई सुरेन्द्र नाथ साहिब, कामयाब ग़ज़ल हुई है, मुबारकबाद कुबूल फरमाएं "
17 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब गंगा धर जी, आप भी इस से मिलती जुलती बह्र से धोका खा गए "
19 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अमित कुमार साहिब, इस से मिलती जुलती बह्र (मफ ऊल-फाइलातुन-मफ ऊल - फाइलातुन) से शायद धोका खा गए…"
22 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अजय साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी इस इनायत का बहुत बहुत शुक्रिया "
30 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब रवि साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी इस इनायत का बहुत बहुत शुक्रिया जनाब "
30 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अमित कुमार साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी इस हौसला अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया "
31 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब समर साहिब आ दाब, आपकी इस हौसला अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया "
32 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब अमित साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी इस हौसला अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया "
33 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब रवि शाहिद साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी हौसला अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया "
34 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-115
"जनाब भाई लक्ष्मण धामी साहिब, गज़ल पसन्द करने और आपकी इस इनायत का बहुत बहुत शुक्रिया "
35 minutes ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service